• Hindi News
  • Punjab News
  • Dharamkot News
  • रिन्यू नहीं कराने पर डीएम ने असलहे का लाइसेंस किया कैंसिल, अब पुलिस ने अवैध असलहे समेत किया गिरफ्
--Advertisement--

रिन्यू नहीं कराने पर डीएम ने असलहे का लाइसेंस किया कैंसिल, अब पुलिस ने अवैध असलहे समेत किया गिरफ्तार

आर्म्स लाइसेंस को समय पर रिन्यू नहीं कराने पर जिला मजिस्ट्रेट ने लाइसेंस को कैंसिल कर दिया। ढाई साल बाद धर्मकोट...

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 05:05 AM IST
आर्म्स लाइसेंस को समय पर रिन्यू नहीं कराने पर जिला मजिस्ट्रेट ने लाइसेंस को कैंसिल कर दिया। ढाई साल बाद धर्मकोट पुलिस ने उक्त व्यक्ति को अवैध हथियार समेत गिरफ्तार कर केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने यह केस मुखबिर की सूचना पर किया है। हालांकि आरोपी लाइसेंस धारक था परंतु अपनी लापरवाही से वह अवैध हथियार को कब्जे में रखने का आरोपी बन गया, जिसमें 7 साल तक कैद का प्रावधान है।

थाना धर्मकोट के थानेदार इकबाल हुसैन ने बताया कि मंगलवार शाम गश्त के दौरान पुलिस के साथ गांव इंद्रगढ़ में पहुंचे तो मुखबिर ने सूचना दी कि गांव कोट मुहम्मद निवासी मेजर सिंह ने अपनी 12 बोर की बंदूक के लाइसेंस को समय पर रिन्यू नहीं कराया है और वह इस अवैध असलहे समेत अक्सर घूमता है। आज भी वह गांव इंद्रगढ़ में इस असलहे के साथ घूम रहा है। थानेदार इकबाल हुसैन ने बताया कि सूचना पर मेजर सिंह के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज कर घात लगाकर उसे 12 बोर की बंदूक समेत गिरफ्तार कर लिया गया है। इकबाल हुसैन ने बताया कि जांच में सामने आया है कि आरोपी ने अपने लाइसेंस को समय सीमा के अंदर रिन्यू नहीं कराया था। इसके बाद 26 मई 2015 को जिला मजिस्ट्रेट ने उसके लाइसेंस को कैंसिल कर दिया था। तब से वह अवैध हथियार को अपने पास रखे हुए है। सीनियर एडवोकेट एसके मित्तल ने कहा कि ऐसा करना अपराध की श्रेणी में आता है। परंतु असलहा एक्ट के तहत ज्यादातर केस राजसी रंजिश के तहत कराए जाते हैं। परंतु न्याय की नजरों में यह अच्छा ही होता है ताकि आम लोगों की जानमाल सुरक्षित रह सके। उन्होंने कहा कि राजनेताओं के गुर्गों के पास ही कुछ हथियार लाइसेंस युक्त होते हैं तो कुछ अवैध। राजनीतिक रंजिश में एक दूसरे को फंसाया जाता है।

अपना वेपन लाइसेंस समय पर रिन्यू कराएं नहीं तो हो सकता है कारावास

अगर आप ने अपने असलहा लाइसेंस को रिन्यू नहीं कराया है तो जिला मजिस्ट्रेट को दरख्वास्त देकर उसे रिन्यू कराएं। आप पैनल्टी भर कर इसे रिन्यू करा सकते हैं। बशर्ते समय सीमा को ज्यादा देर न हुई हो। नहीं तो आपके खिलाफ अवैध हथियार रखने का केस दर्ज हो सकता है। सीनियर एडवोकेट इकबाल सिंह ने बताया कि बेशक हमारा हथियार लाइसेंस युक्त हो अगर समय पर लाइसेंस को रिन्यू नहीं कराया जाता तो वह हथियार अवैध माना जाएगा और व्यक्ति के खिलाफ भारतीय दंडावली की धारा 25/59/ 61 असलहा एक्ट के तहत केस दर्ज किया जा सकता है। इसमें 7 साल तक कारावास या जुर्माना व दोनों सजाएं भी हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि सजा को कम या ज्यादा करना जजों के विवेक पर निर्भर होता है, लेकिन अवैध हथियारों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त निर्देश जारी किए हुए हैं। इन मामलों में सबसे बड़ा उदाहरण बालीवुड स्टार संजय दत्त की है, जिसे इस मामले अधिकतम 7 साल के कारावास की सजा हो चुकी है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..