धर्मकोट

--Advertisement--

दो जगह आग लगने से 8 एकड़ गेहूं और 600 एकड़ नाड़ जली

भास्कर संवाददाता | कोटकपूरा नजदीकी गांव सीविया के छिल्लवा रोड पर खेतों में लगी आग तेज हवा के कारण फैल कर तीन...

Dainik Bhaskar

Apr 21, 2018, 03:15 AM IST
भास्कर संवाददाता | कोटकपूरा

नजदीकी गांव सीविया के छिल्लवा रोड पर खेतों में लगी आग तेज हवा के कारण फैल कर तीन गावों तक जा पहुंचीं। इस आग की चपेट में आने से गांव सीविया, मल्लके व पंजगराई के आस-पास के करीब छह एकड़ में खड़ी गेहूं व करीब छह सौ एकड़ में खड़ा नाड़ जल कर राख हो गई। कोटकपूरा और फरीदकोट से आई छह दमकल की गाड़ियों ने करीब तीन घंटे के कड़े परिश्रम के बाद आग पर काबू पाया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोटकपूरा के दमकल विभाग को सुबह करीब दस बजे सूचना मिली कि गांव सीविया के ढिल्लवा रोड पर खेत में खड़े गेहूं के नाड़ को आग लग गई है। सूचना मिलते ही फायर स्टेशन के चालक पवन कुमार, हरदीप कुमार दियोल, हरपाल सिंह गाडियां लेकर सीविया पहुंचे। फायर स्टेशन के कर्मचारियों ने बताया कि तेज हवा के चलते बाग तेजी से फैलते हुए गांव सिवीया के साथ लगते गांव मल्लके, गांव पंजगराई की सीमा पर स्थित खेतों तक पहुंच गई। आग लगने से गांव सीविया, मल्लके व पंजगराई के किसानों की करीब छह एकड़ गेहूं व करीब पांच सौ एकड़ नाड़ जल गई।

गांव सीविया के सरपंच साहिब सिंह के अनुसार आग सड़क के साथ लगते दारा सिंह किसान के खेत के नाड़ से शुरू हुई व तेज हवा के चलते देखते ही देखते आस पास के खेतों में भी फैल गई। उन्‍होंने बताया कि आग की चपेट में आने से गांव के पंच तिरलोक सिंह के खेत की करीब छह एकड़ गेहूं की खड़ी फसल व गुरमीत सिंह, सुरजीत कलेर, बलदेव सिवीयां, दारा सिंह संधू, दज सिंह बलकरण सिंह समेत करीब दो दर्जन किसानों का गेहूं का नाड़ जल कर राख हो गया। इससे पहले सुबह कोटकपूरा के जलालेआणा रोड पर एक शैलर के पीछे खेत में लगी आग से कोटकपूरा के प्रवीण गर्ग की करीब दो एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल जल गई।

आग लगने से मोगा जिले में 100 एकड़ गेहूं व 100 एकड़ से ज्यादा नाड़ जली

आग लगने से मोगा जिले में 100 एकड़ गेहूं व 100 एकड़ से ज्यादा नाड़ जली

मोगा | उत्तर भारत में पिछले कुछ दिनों से चल रही तेज हवा के कारण जहां आम लोगों को सड़क पर से उड़ती धूल के बीच से गुजरना पड़ता है। वहीं यह तेज हवाएं किसानों की तैयार गेहूं की फसल के लिए काल का रूप धारण कर चुकी हैं। शुक्रवार को जिले के विभिन्न गांवों में आग लगने से 100 एकड़ गेहूं की फसल जल गई। बेशक फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों द्वारा मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया गया। लेकिन जब तक नगर निगम से फायर ब्रिगेड की गाडिय़ां घटना स्थल पर पहुंचातीं तब तक काफी नुकसान हो चुका था।शुक्रवार को हलका धर्मकोट के गांव कंडियाल में 100 एकड़ गेहूं की फसल व 50 एकड़ नाड़ जबकि गांव झंडेयाना में 50 एकड़ नाड़ की फसल जलकर राख हो गई। इनमें किसान जसवीर सिंह, जगतार सिंह, दर्शन सिंह, गुरमेज सिंह, पाला सिंह, अमनदीप सिंह, हरबंस सिंह, करनवीर सिंह, भोला सिंह, जसमेल सिंह, दर्शन सिंह, हरजिंदर सिंह, गुरमेल सिंह, जसवीर सिंह, पाला सिंह के खेत आग की चपेट में आए हैं।

मोगा | उत्तर भारत में पिछले कुछ दिनों से चल रही तेज हवा के कारण जहां आम लोगों को सड़क पर से उड़ती धूल के बीच से गुजरना पड़ता है। वहीं यह तेज हवाएं किसानों की तैयार गेहूं की फसल के लिए काल का रूप धारण कर चुकी हैं। शुक्रवार को जिले के विभिन्न गांवों में आग लगने से 100 एकड़ गेहूं की फसल जल गई। बेशक फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों द्वारा मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया गया। लेकिन जब तक नगर निगम से फायर ब्रिगेड की गाडिय़ां घटना स्थल पर पहुंचातीं तब तक काफी नुकसान हो चुका था।शुक्रवार को हलका धर्मकोट के गांव कंडियाल में 100 एकड़ गेहूं की फसल व 50 एकड़ नाड़ जबकि गांव झंडेयाना में 50 एकड़ नाड़ की फसल जलकर राख हो गई। इनमें किसान जसवीर सिंह, जगतार सिंह, दर्शन सिंह, गुरमेज सिंह, पाला सिंह, अमनदीप सिंह, हरबंस सिंह, करनवीर सिंह, भोला सिंह, जसमेल सिंह, दर्शन सिंह, हरजिंदर सिंह, गुरमेल सिंह, जसवीर सिंह, पाला सिंह के खेत आग की चपेट में आए हैं।

X
Click to listen..