--Advertisement--

फर्जी व्यक्ति को पार्षद बताकर बयान करवाए

जमीनीविवाद के मामले में पुलिस स्टेशन में पार्षद की जगह किसी फर्जी व्यक्ति को पार्षद बता उसके बयान लिखवाने पार्षद...

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 02:10 AM IST
जमीनीविवाद के मामले में पुलिस स्टेशन में पार्षद की जगह किसी फर्जी व्यक्ति को पार्षद बता उसके बयान लिखवाने पार्षद के जाली हस्ताक्षर करने के आरोप में दो सगे भाइयों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है।

अनुसार सुरिन्द्र पाल सिंह निवासी धूरी ने एसएसपी संगरूर को एक दरखास्त दी थी कि भूपिन्द्र सिंह वगैरा ने उसके खिलाफ एक प्लाट की गलत रजिस्ट्री करवाने संबंधी 28 अप्रैल 2017 को एक दरखास्त दी थी। उक्त दरखास्त की पड़ताल के दौरान आरोपी भूपिन्द्र सिंह तथा उसके हवलदार भाई अमर सिंह निवासी धूरी ने उस समय एसएचओ रहे इंस्पेक्टर गुरमीत सिंह के पास किसी फर्जी व्यक्ति को पार्षद अश्वनी धीर बता कर बयान लिखवाए थे। यही नहीं उक्त फर्जी खड़े किए गए व्यक्ति द्वारा उस बयान पर पार्षद अश्वनी धीर के नाम के जाली हस्ताक्षर भी किए गए थे।

बाद में सुरिन्द्र पाल सिंह द्वारा आरटीआई के तहत पड़ताल की नकल हासिल करके उक्त पार्षद से संपर्क किया गया था। इस दौरान पार्षद अश्वनी धीर ने उसे बताया कि यह हस्ताक्षर उसके नहीं हैं। इस बात का खुलासा होने के बाद सुरिन्द्र पाल सिंह द्वारा पुलिस के पास यह शिकायत की गई थी कि भूपिन्द्र सिंह और उसके भाई अमर सिंह ने अन्यों के साथ मिलीभगत करके एक साजिश के तहत फर्जी पार्षद खड़ा करके यह बयान करवाए थे। पुलिस ने जांच करने के बाद भूपिन्द्र सिंह तथा अमर सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। खबर भेजे जाने तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। (राजेश टोनी)