• Home
  • Punjab News
  • Dhuri News
  • किसानों ने पावरकॉम दफ्तर पर धरना देकर दिन के समय बिजली सप्लाई मांगी
--Advertisement--

किसानों ने पावरकॉम दफ्तर पर धरना देकर दिन के समय बिजली सप्लाई मांगी

गांव छाजली के किसानों द्वारा भाकियू (एकता उगराहां) के ब्लॉक सचिव संत राम सिंह छाजली की अगुवाई में एक्सईएन पावरकॉम...

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 02:25 AM IST
गांव छाजली के किसानों द्वारा भाकियू (एकता उगराहां) के ब्लॉक सचिव संत राम सिंह छाजली की अगुवाई में एक्सईएन पावरकॉम सुनाम के कार्यालय के सामने धरना देकर पावरकॉम अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की गई। खेतों में रात के समय बिजली सप्लाई देने से किसानों में रोष पाया जा रहा है।

किसानों की मांग है कि बिजली सप्लाई दिन के समय दी जाए। किसान नेताओं सुखविंदर सिंह, हरी सिंह, बिंदर सिंह ने कहा कि पावरकॉम द्वारा खेती ट्यूबवैलों को पिछले करीब दो सप्ताह से सिर्फ रात को बिजली सप्लाई दी जा रही है। जिस कारण किसानों को गेहूं की फसल को अंतिम पानी लगाने में काफी दिक्कत आ रही है।

इस अवसर पर जीत सिंह, करनैल सिंह, बलवीर सिंह, मेघ सिंह, जगरूप सिंह, गुरचरन सिंह, जगजीत सिंह, सुरिंदर सिंह, रूप सिंह, महिंदर सिंह आदि किसान मौजूद थे।

इस संबंधी पावरकॉम के एक्सईएन आरके गोयल का कहना है कि मुख्य कार्यालय से जारी किए जाते शेड्यूल के अनुसार ही खेतीबाड़ी ट्यूबवैलों को बिजली सप्लाई दी जा रही है। (टिंका)

सुनाम में एक्सईएन कार्यालय के सामने पावरकॉम अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए किसान ।

दिन में सप्लाई बहाल न की तो होगा प्रदर्शन

संगरूर| किसान मोर्चा की अगुवाई में किसानों द्वारा एसडीओ लौंगोवाल को ज्ञापन सौंपकर मांग की गई कि खेतों के लिए पहले की तरह दिन के समय बिजली सप्लाई दी जाए। किसान मोर्चा के जिला कनवीनर भूपिंदर लौंगोवाल ने कहा कि गेहूं की कटाई का समय सिर पर है। गेहूं को आखिरी पानी लगाना अभी बाकी है लेकिन पावरकॉम ने खेती मोटरों के लिए दिन में बिजली सप्लाई बंद कर दी है। बिजली दिन के समय देने की बजाए रात के समय दी जा रही है। जिससे किसानों में रोष पाया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि दिन के समय बिजली सप्लाई बहाल न की गई तो सब डिवीजन लौंगोवल के सामने धरना दिया जाएगा।

17 से गांवों में मार्च निकालेंगे किसान

धूरी |भारतीय किसान यूनियन राजेवाल ब्लाक धूरी की मीटिंग स्थानीय अनाज मंडी में यूनियन के प्रदेश सचिव निरंजन सिंह दोहला के नेतृत्व में हुई। इसमें भाकियू के महासचिव कर्मजीत सिंह अलाल ने बताया कि 22 मार्च को किसानी कर्जे माफ करवाने की मांग को लेकर चंडीगढ़ में अनिश्चित समय के लिए लगाए जाने वाले धरने को लेकर 17 और 18 मार्च को गांवों में झंडा मार्च निकाला जाएगा। इस मौके किसान नेता निर्मल सिंह समुंदगढ़ ने मांग की कि गेहूं की फसल को पानी देने के लिए रोजाना दिन में कम से कम 5 घंटे बिजली सप्लाई दी जाए। (अमित)