• Home
  • Punjab News
  • Dhuri News
  • ‘फूड सेफ्टी आॅन व्हील’ ने 50 सैंपलों की जांच की, नहीं मिली मिलावट
--Advertisement--

‘फूड सेफ्टी आॅन व्हील’ ने 50 सैंपलों की जांच की, नहीं मिली मिलावट

धूरी में लैब वैन में खाने-पीने की वस्तुओं के नमूनों की जांच करते कर्मचारी। भास्कर संवाददाता| धूरी सेहत विभाग...

Danik Bhaskar | Apr 10, 2018, 03:15 AM IST
धूरी में लैब वैन में खाने-पीने की वस्तुओं के नमूनों की जांच करते कर्मचारी।

भास्कर संवाददाता| धूरी

सेहत विभाग द्वारा खाने-पीने की चीजों में मिलावट और गुणवत्ता की जांच के उद्देश्य से चलाई गई ‘फूड सेफ्टी आन व्हील’ वैन का सोमवार को धूरी पहुंचने पर स्वागत किया गया। इस मौके एसिस्टेंट कमिश्नर फूड सेफ्टी रविन्द्र गर्ग तथा फूड सेफ्टी अधिकारी चरणजीत सिंह भी विशेष तौर पर मौजूद रहे।

लैब निरीक्षक विकास कुमार, विरोचन पुरी तथा सतविंदर सिंह कलेरां ने बताया कि इस लैब वैन में दूध, पानी, बेसन, आटा, मैदा, कोल्ड ड्रिंक, मिर्च तथा हल्दी आदि के सैंपलों की मौके पर ही जांच करके उसकी गुणवत्ता और मिलावट होने के बारे में बताया जाता है। उन्होंने बताया कि धूरी में फिलहाल 50 के करीब सैंपल टेस्ट किए गए हैं, जिनमें से किसी में भी मिलावट होने का मामला सामने नहीं आया है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा धूरी में जमीनी पानी में टीडीएस की मात्रा जरूर ज्यादा पाई गई है। उन्होंने कहा कि पीने योग्य पानी में टीडीएस की मात्रा 300 से अधिक नहीं होनी चाहिए। इस मौके पर मौजूद सुरेश बांसल प्रधान भाविप, प्रमोद गुप्ता प्रधान व्यापार मंडल, प्रेम गर्ग चेयरमैन होलसेल ट्रेडर्ज एसो., एम.सी. सुरिन्द्र गोयल, मलकीत चांगली, गोपाल दास गुप्ता, प्रकाश चंद राजोमाजरा, सुनील कुमार तथा विक्की बेनड़ा आदि ने सेहत विभाग द्वारा किए जा रहे इस उद्यम की सराहना की है। उन्होंने कहा कि इससे लोगों को खाने-पीने की वस्तुओं में मिलावट के बारे में पता चलेगा, जिससे कि वह इसमें सुधार कर सकते है तथा यह अच्छी सेहत के लिए बेहद जरूरी भी है। (अमित जिंदल)