• Hindi News
  • Punjab News
  • Fazilka
  • कुदरती खेती से किसानों को मिलेगा सपोर्ट: सुख सरकारिया
--Advertisement--

कुदरती खेती से किसानों को मिलेगा सपोर्ट: सुख सरकारिया

लगातार बढ़ रही किसानों की आत्महत्या की घटनाओं से चिंतित सरकार ने राज्य के सभी प्रमुख दलों के विधायकों पर आधारित...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:25 AM IST
लगातार बढ़ रही किसानों की आत्महत्या की घटनाओं से चिंतित सरकार ने राज्य के सभी प्रमुख दलों के विधायकों पर आधारित कमेटी का गठन कर किसानों की खुदकुशी रोकने और किफायती खेती के सुझाव लेने के सिलसिले के तहत बल्लूआना के विधायक नत्थू राम के अध्यक्षता में कार्य कर रही कमेटी फाजिल्का में कुदरती खेती के जरिए कर्जा मुक्ति की राह निकालने की कवायद में फाजिल्का पहुंची। कमेटी में शामिल चेयरमैन विधायक नत्थू राम के अलावा राजासांसी के विधायक सुख सरकारिया व मानसा से विधायक नाजर सिंह वीरवार को फाजिल्का के दो प्रमुख कुदरती खेती माहिरों रवि धींगड़ा और विनोद ज्याणी से मिले।

किफायती खेती के सुझाव लेने के सिलसिले में फाजिल्का पहुंची तीन विधायकों की कमेटी

कमेटी में विधानसभा से अधिकारियों सहित डीसी भी शामिल

तीनों विधायकों के साथ विधानसभा से आए अधिकारियों, बागवानी व कृषि अधिकारियों के साथ-साथ डीसी ईशा कालिया, एडीसी रणबीर मुद्धल व अन्य अधिकारी शामिल थे। विधायकों ने पहले विनोद ज्याणी के गांव कटैहड़ा स्थित ज्याणी नेचुरल फार्म का भ्रमण किया व बाद में रवि धींगड़ा के बागों और खेतों का भ्रमण कर कम खर्च पर खेती में मुनाफा कमाने के तरीकों की जानकारी हासिल की। गांव कटैहड़ा के विनोद ज्याणी और गांव मुहम्मद पीरा के रवि धींगड़ा ने कई साल के तजुर्बों के बाद रासायनिक खेती त्यागकर बागवानी धंधा अपनाए हैं।

कृषि विशेषज्ञों से मिलते कर्जा मुक्त किसान कमेटी के सदस्य।

स्वास्थ्य पर नहीं होगा प्रभाव

कुदरती खेती ही अब ऐसा जरिया है जो कर्ज के बोझ तले दबते जा रहे किसानों को तो खुदकुशी जैसे खतरनाक फैसले से बचाएगी, साथ ही रासायनिक खेती से लोगों की सेहत पर पडऩे वाले विपरीत प्रभाव को भी रोकेगी। जल्द ही वह पहले चरण में खुदकुशी करने वाले किसानों के परिवारों से मिलकर मिले सुझावों और अब कुदरती खेती माहिरों से मिले सुझावों संबंधी रिपोर्ट जल्द ही सरकार को दे देंगे। इस मौके पर डीडीपीआओ अरुण जिंदल, तहसीलदार दर्शन सिंह, नायब तहसीलदार, कृषि विकास अधिकारी जीएस चीमा, एडवोकेट महेंद्र प्रताप धींगड़ा आदि मौजूद थे।

X

Recommended

Click to listen..