• Hindi News
  • Punjab
  • Ferozepur
  • Firozpur News our true tribute to the brave people is that by following the path shown by them every kubarni should be ready for the unity integrity of the country

जांबाजों काे हमारी सच्ची श्रद्धांजलि यही है कि हम उनके दिखाए रास्ते पर चलकर देश की एकता, अखंडता के लिए हर कुबार्नी को रहें तैयार

Ferozepur News - पुलिस लाइन फिरोजपुर छावनी में शहीद हुए पुलिस जवानों की शहीदी स्मारक पर पुलिस, सिविल प्रशासन, ज्यूडीशरी के...

Oct 22, 2019, 07:41 AM IST
पुलिस लाइन फिरोजपुर छावनी में शहीद हुए पुलिस जवानों की शहीदी स्मारक पर पुलिस, सिविल प्रशासन, ज्यूडीशरी के अधिकारियों और शहीदों के परिवारों की तरफ से फूल मालाएं भेंट श्रद्धांजलि दी। डीएसपी सतनाम सिंह के नेतृत्व में पुलिस जवानों ने हथियार उल्टे कर शहीदाें काे शाेक सलामी दी। सभी अधिकारियों और मेहमानों की तरफ से दो मिनट का मौन धारण किया गया। इस उपरांत शहीद परिवारों के सदस्यों को सम्मानित भी किया गया। इस मौके पर कमिश्नर फिरोजपुर डिविजन सुमेर सिंह गुर्जर, आईजी बी चंद्र शेखर, एडीशनल सेशन जज सचिन शर्मा और एडीशनल सेशन जज गुरनाम सिंह ने विशेष तौर पर शिरकत की। सच्ची श्रद्धांजलि यही है कि हम उनके द्वारा दिखाए गए कुर्बानी व त्याग के रास्ते पर चलते हुए देश की एकता, अखंडता व अमन शांति बनाए रखने के लिए हर कुर्बानी के लिए तैयार रहें।

समागम को संबोधित करते आईजी ने कहा कि देश और राज्य की अमन शान्ति के लिए अपनी अद्वितीय शहादतें देने वाले पुलिस जवानों की शहादत को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है। उन्होंने बताया कि 21 अक्टूबर 1959 को चीनियों के विरुद्ध लड़ाई के दौरान लेह लद्दाख के होंट स्प्रिंग इलाकों में तैनात किए गए जवानों की एक टुकड़ी पर चीनियों की तरफ से अचानक हमला किया गया। जिसमें भारतीय पुलिस के 10 जवान शहीद हो गए थे। जिनकी याद में और ड्यूटी के दौरान मारे गए पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों की याद ताजा रखने के लिए वर्ष 1960 में समूह राज्यों के आईजीपीज की कान्फ्रेंस में यह फैसला किया गया था कि हर साल सारे देश में जिला हेडक्वार्टर व पुलिस ईकाइयों में 21 अक्टूबर को यह दिवस मनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि पंजाब में कुल 1784 पुलिस अधिकारी व कर्मचारी शहीद हुए थे। जिनमें डीआईजी -2, एसएसपी -3, एसपी -4, डीएसपी -12, इंस्पेक्टर -32, सब इंस्पेक्टर -61, असिस्टेंट सब -इंस्पेक्टर -111, हवलदार -268, सिपाही -817, होम गार्ड्स वालंटियर -294 और एसपीओज -180 ने देश की एकता और अखंडता बरकरार रखते हुए अपनी, कीमती जानें कुर्बान की थीं। उन्होंने कहा कि इनमें से 44 कर्मचारी फिरोजपुर जिले के साथ संबंधित हैं जिनमें से सब इंस्पेक्टर -1, एएसआई -4, एचसी -11, सिपाही -7, एसपीओज -5और पीएसजी-16 हैं, जिनको हम कभी भी नहीं भूला सकते। उन्होंने कहा कि हमें इन शहीदों पर पूरा मान है और सदा रहेगा।

इस मौके पर एसपीडी बलजीत सिंह सिद्धू ने शहीदों को श्रद्धा के फूल भेंट करते हुए कहा कि पंजाब पुलिस का गौरवशाली और बलिदान से भरा इतिहास है और पंजाब पुलिस ने देश की एकता, अखंडता और भाईचारक सांझ बरकरार रखने और देश में अमन शान्ति को बनाए रखने के लिए बड़ी कुर्बानियां दी है, जिनको कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि जो कोई कौम अपने शहीदों को याद नहीं रखती वह खत्म हो जातीं हैं। उन्होंने कहा कि इन पुलिस जवानों की शहादतें की वजह से ही आज हम शान्ति और अमन चैन की जिंदगी व्यतीत कर रहे और आजाद फिजा का आनंद मान रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें ऐसे शहीदों पर मान है और पंजाब पुलिस हर मुश्किल की घड़ी में शहीद परिवारों के साथ खड़ी है। इससे पहले एसपीएच गुरमीत सिंह चीमा की तरफ से देश की अलग अलग सुरक्षा फोर्स के शहीद हुए अफसरों और जवानों के नामों की सूची पढ़ कर उनको याद किया।

इस मौके एसपीडी अजय राज सिंह, डीएसपी गुरबचन सिंह, डीएसपी गुरजीत सिंह और लखविन्दर सिंह सहित बड़ी संख्या में सिविल, होम गार्डज, शहीदों के परिवार और पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।

पुलिस जवानों की शहादतों की वजह से ही आजाद फिजा का आनंद ले रहे हैं : एसपी बलजीत सिंह

शहीद पुलिस जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कमिशनर फिरोजपुर डिवीजन सुमेर सिंह गुर्जर।

शहीद जवानों के परिवारों के परिजनों को सम्मानित करते हुए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना