समाजसेवी हंसराज ने राम मंदिर व मस्जिद के निर्माण को दिया Rs.1-1 लाख का सौहार्द

Ferozepur News - बीते लंबे समय से अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण को लेकर चली आ रही बहस पर विराम लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जो...

Nov 10, 2019, 07:46 AM IST
बीते लंबे समय से अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण को लेकर चली आ रही बहस पर विराम लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला सुनाया उसे लोगों ने ऐतिहासिक फैसला बताया है। वहीं सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से दोनों समुदायों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए दिए गए फैसले का लोगों ने स्वागत किया है। इस फैसले को लेकर लाेगाें ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हिंदू व मुस्लिम दोनों समुदायों का पक्ष सुनने के बाद बहुत गहराई में जाकर फैसला सुनाया है जाेकि दोनों समुदायों में आपसी प्रेम व भाइचारे को मजबूत करेगा।

सुप्रीम कोर्ट की ओर से फैसला सुनाए जाने के बाद छावनी निवासी समाजसेवी हंसराज अग्रवाल ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का तहेदिल से स्वागत किया व उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिया गया फैसला ऐतिहासिक है। इस फैसले से वह बहुत खुश हैं। अग्रवाल ने इस फैसले के बाद निर्णय लिया है कि अयोध्या में जब भी राम मंदिर व दूसरी ओर मस्जिद का निर्माण होगा वह दोनों धार्मिक स्थलों के निर्माण के लिए अपनी जेब से 1-1 लाख रुपए का सहायता देंगे। उन्होंने कहा कि यह चंदा वह दोनों समुदायों में आपसी प्रेम, भाईचारा व सद्भावना को मजबूती देने के लिए देंगे ताकि किसी के मन में ऐसा विचार न आए कि हम जुदा-जुदा हैं। उन्होंने कहा कि हम दोनों समुदायों का पहले भी सम्मान करते थे तो दोनों में पहले भी आपसी प्रेम था अाैर आज भी वैसा ही है अाैर आगे भी यूं ही रहेगा।

हंस राज अग्रवाल

सभी धर्म के लोगों से अपील : कोर्ट के फैसले को सहजता से स्वीकारते हुए शांति और सौहार्द के लिए कटिबद्ध रहें

सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले के बाद एडवोकेट अश्वनी ढींगड़ा ने कहा कि श्री राम जन्मभूमि पर सर्वोच्च न्यायालय की ओर से दिए गए फैसले का वह स्वागत करते हैं। वहीं उन्होंने सभी समुदायों ओर धर्म के लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह कोर्ट के इस फैसले को सहजता से स्वीकारते हुए शांति ओर सौहार्द से परिपूर्ण एक भारत श्रेष्ठ भारत के अपने संकल्प के प्रति कटिबद्ध रहें। उन्होंने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया गया यह ऐतिहासिक निर्णय अपने आप में एक मील का पत्थर साबित होगा व यह निर्णय भारत की एकता, अखंडता व महान संस्कृति को ओर बल देगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना