पराली संभाल के लिए किराये पर लें सकेंगे मशीनरी

Ferozepur News - नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की हिदायतों के मद्देनजर जिले में पराली को आग लगाने से रोकने के लिए अभी से य| आरंभ कर दिए गए...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:52 AM IST
Firozpur News - will be able to hire machinery to handle stubble
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की हिदायतों के मद्देनजर जिले में पराली को आग लगाने से रोकने के लिए अभी से य| आरंभ कर दिए गए हैं। डिप्टी कमिशनर चंद्र गैंद ने बताया इसके अंतर्गत खेतों में ही पराली को नष्ट करने के लिए किसानों को नवीनतम मशीनरी 15 दिनों में मिल जाएगी।

डिप्टी कमिशनर चंद्र गैंद ने बताया कि पिछले साल धान की पराली को जलाने से रोकने के लिए की गई चौकसी के अंतर्गत जिले में पराली जलाने के मामलों में काफी कमी आई थी। उन्होंने कहा कि इस बार जिले में पराली बिल्कुल भी न जलाने का लक्ष्य निश्चित किया गया है। इसी के तहत सबसे पहले किसानों की मुख्य जरूरत अपेक्षित कृषि मशीनरी उपलब्ध करवाने का काम शुरू किया गया है।

डीसी के अनुसार अभी धान के पकने में एक महीने का समय बाकी है और हम इस समय को पराली न जलाने के बढ़िया अवसर के तौर पर इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने बताया कि इन-सीटू क्राॅप रेजेड्यो मैनेजमेंट के अंतर्गत किसानों और संगठनों से पराली के निपटारों के लिए नवीनतम कृषि मशीनरी के लिए की गई अावेदनों की मांग के बाद प्राप्त हुए 775 व्यक्तिगत अावेदनों में से 462 को अंतरिम रूप देने बाद जरूरी कृषि यंत्र खरीदने की मंजूरी दे दी गई है। इन किसानों को 15 दिनों में खेती यंत्र खरीद कर बिल कृषि दफ्तरों में जमा करवाने के लिए कहा गया है। जिससे 50 प्रतिशत सब्सिडी उनके खातों में सीधे तौर पर डाली जा सके।

जिले के मुख्य कृषि अफसर डाॅ. गुरमेल सिंह ने बताया कि व्यक्तिगत तौर पर कृषि मशीनरी के आवेदनकर्ताओं को 53 हैपीसीडर, 105 पेडी स्ट्राॅय चोपर, 35 मलचर, 26 आरएमबी पलो, 195 जीरो टिल ड्रिल मशीनें, 48 सुपर एसएमएस दिए जा रहे हैं। यह मशीनरी कस्टम हायरिंग सेंटरों को दी जाने वाली मशीनरी के अतिरिक्त होगी। इन सेंटरों को प्रति सेंटर तीन मशीनों के हिसाब से 1218 कृषि मशीने मिलेंगी।

उन्होंने बताया कि आवेदनकर्ता की आेर से कृषि मशीनरी की खरीद अपने स्तर पर की जानी है, जितनी जल्दी वह बिल जमा करवा देंगे, उतनी जल्दी ही उनके खातों में सब्सिडी राशि डाल दी जाएगी और यह मशीनरी धान के कटाई के सीजन से पहले लानी आवश्यक है।

कस्टम हाइरिंग सेंटर से मिलेगी मशीन, 50 प्रतिशत सब्सिडी किसानाें के खाते में डाली जाएगी

मशीन उपलब्ध कराने के लिए बनाए गए 406 सेंटर

व्यक्तिगत रूप में किसानों को महंगे कृषि यंत्र सब्सिडी पर उपलब्ध करवाने के अलावा 406 कस्टम हायरिंग सेंटर भी बनाए जा रहे हैं। जहां कम से -कम तीन खेती यंत्र पराली के निबटारों के लिए रखे जाएंगे। इन कस्टम हायरिंग सेंटर को 4.51 लाख रुपए की लागत में से 3.60 लाख रुपए प्रति सेंटर की सब्सिडी उपलब्ध करवाई जा रही है। यह सैंटर जरूरतमंद किसानों को पराली का खेतों में ही निपटारा करने के लिए अपेक्षित मशीनरी किराये पर उपलब्ध करवाएंगे।

X
Firozpur News - will be able to hire machinery to handle stubble
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना