Hindi News »Punjab »Garhshankar» टीचरों के मसले हल करने में कांग्रेस नाकाम

टीचरों के मसले हल करने में कांग्रेस नाकाम

भास्कर संवाददाता | होशियारपुर पंजाब पिछले करीब डेढ़ साल से तानाशाही और अड़ियल तरीके के साथ शासन चला रही कांग्रेस...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 06, 2018, 02:05 AM IST

  • टीचरों के मसले हल करने में कांग्रेस नाकाम
    +1और स्लाइड देखें
    भास्कर संवाददाता | होशियारपुर

    पंजाब पिछले करीब डेढ़ साल से तानाशाही और अड़ियल तरीके के साथ शासन चला रही कांग्रेस सरकार सरकारी स्कूलों में सेवाएं निभा रहे लाखों अध्यापकों की कोई भी मांग पूरी नहीं कर सकी, नतीजे के तौर पर उपरांत की सबसे अधिक पढ़ी लिखी अध्यापक जमात को अपनी छोटी से छोटी मांग द्वारा सरकार का ध्यान दिलाने के लिए सड़कों पर उतरना पड़ रहा है। उक्त विचार अध्यापक मोर्चा इकाई होशियारपुर के नेताओं गर्वमेंट टीचर्स यूनियन होशियारपुर के प्रधान प्रिंसिपल अमनदीप शर्मा, सचिव सुनील कुमार, वाइस प्रधान विकास शर्मा, सीनियर नेता लेक्चरार चरन सिंह, एसएसए रमसा अध्यापक यूनियन के जिला प्रधान प्रितपाल सिंह चोटाला, परमजीत सिंह, बीएड अध्यापक फ्रंट पंजाब के सुरजीत राजा, संजीव धूत, कम्प्यूटर अध्यापक यूनियन के नेता अनिल ऐरी, अमनदीप सिंह आईआरसी, वालंटियर यूनियन की रेनू कंवर ने पटियाला में प्रांत स्तरीय झंडा मार्च में होने के मौके पर कही।

    इस मौके डीटीएफ के मुकेश कुमार, आईईवी वालंटियर यूनियन की किरन, बलविंदर सिंह, परमजीत सिंह, अमनदीप सिंह, संजीव कुमार, विकास शर्मा, लेक्चरर अमर सिंह, जसवंत सिंह मुकेरियां, शाम सुंदर कपूर, पवन गढ़शंकर, शाम सुंदर कपूर, मोहन सिंह, सतविंदर सिंह, सूरज प्रकाश सिंह, राजकुमार, रणवीर सिंह, रविंदर कुमार, दविंदर सिंह, कमलदीप सिंह, नरेश कुमार, प्रदीप विरली, लकेश कुमार, सर्बजीत सिंह टांडा, दविंदर कुमार, कुलवंत सिंह, परस राम, जसवंत सिंह, मुलख राज आदि उपस्थित थे।

    पटियाला में झंडा मार्च में रवाना होने के मौके संयुक्त अध्यापक मोर्चा के मेंबर।

    सरकार वायदे पूरे करने में नहीं दिखा रही दिलचस्पी

    अध्यापक नेताओं ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने चुनाव दौरान पंजाब के लाखों अध्यापकों के साथ किए वायदों को पूरा करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। नेताओं ने कहा कि संयुक्त अध्यापक मोर्चा 5178 अध्यापकों,रमसा एसएसए, आदर्श स्कूल अध्यापक, कम्प्यूटर अध्यापकों, ईजीएस, एआईई, एसईआर शिक्षा प्रोवाइडरों, आईईवी को पक्के करने, 800 प्राइमरी स्कूलों को बंद करने, तबादले के सियासीकरन, रैशनलाइजेशन नीति, पुरानी पेंशन स्कूल बहाल करवाना, महंगाई भत्ता पर वेतन कमिशन की रिपोर्ट लागू करवाने और पढ़े पंजाब जैसे कागजी प्रोजेक्टरों को बंद करवाने के लिए हर तरह के संघर्ष को जारी रखेगा।

    पटियाला रैली में भाग लेने के लिए टांडा से जत्था रवाना

    उड़मुड़|सांझा अध्यापक मोर्चा के पटियाला झंडा मार्च में भाग लेने के लिए अमर सिंह और भजनीक सिंह की अगुवाई में सांझा अध्यापक मोर्चा के बैनर तले बड़ी गिनती में अध्यापक रवाना हुए। इस अवसर पर अमर सिंह ने कहा ठेके पर काम कर रहे अध्यापकों को पूरे लाभों के साथ विभाग में रेगुलर करवाना मुख्य मांग है। उन्होंने पंजाब शिक्षा विभाग की ओर से सोसाइटी के अंतर्गत भर्ती किए गए अध्यापकों के लिए जारी किए ऑप्शन पोल के लिंक को गैरकानूनी बताते हुए इसके बहिष्कार का आह्वान किया। उन्होंने ने कहा यह ऑप्शन पोल अध्यापकों में फूट डालने के लिए की जा रही है लेकिन सभी अध्यापक एकजुटता से इसका विरोध करेंगे। 10 साल की नौकरी के बाद अब 40 से 50 हजार वेतन ले रहे अध्यापकों को 10300 पर लाना चाहती है जो कभी भी मनजूर नहीं किया जाएगा। उन्होंने ने सरकार के राजनैतिक दबाव के चलते शिक्षा विभाग के अधिकारी सांझा अध्यापक मोर्चा के नेताओं को सस्पेंड कर डरना चाहती है। यहां अमर सिंह, दविंदर सिंह मूनक, सरबजीत सिंह रड़ा, बलदेव सिंह, सुखवीर सिंह, परमजीत सिंह, हरविंदर सिंह, वरिंदरपाल सिंह, भजनीक सिंह, सरबजोत सिंह मौजूद थे।

  • टीचरों के मसले हल करने में कांग्रेस नाकाम
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Garhshankar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×