• Home
  • Punjab News
  • Garhshankar News
  • आढ़ती बोले, फैक्ट्री से मिल रही लेट पेमेंट किसान बोले- फैक्ट्री वालों से करेंगे मीटिंग
--Advertisement--

आढ़ती बोले, फैक्ट्री से मिल रही लेट पेमेंट किसान बोले- फैक्ट्री वालों से करेंगे मीटिंग

भास्कर संवाददाता | होशियारपुर लकड़ी बेचने वाले किसानों को पेमेंट में आ रही मुश्किल के मामले को लेकर बुधवार को...

Danik Bhaskar | Aug 02, 2018, 02:45 AM IST
भास्कर संवाददाता | होशियारपुर

लकड़ी बेचने वाले किसानों को पेमेंट में आ रही मुश्किल के मामले को लेकर बुधवार को वातावरण बचाओ संघर्ष कमेटी समेत किसान जत्थेबंदियों के मेंबर दि होशियारपुर वुड वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़े आढ़तियों से मिले।

किसान नेताओं गुरदीप सिंह खुनखुन, हरपाल सिंह संघा, हरप्रीत सिंह लाली व दविंदर सिंह कक्को ने लक्कड़ आढ़तियों के सामने खरीदी हुई लकड़ी का आधा मूल्य बोली के समय और बाकी की पेमेंट 15 दिन के अंदर करने और कांट-छांट बंद करने की मांग रखी। किसान नेताओं की बात सुनने के बाद एसोसिएशन के प्रधान जगरूप सिंह धामी और चेयरमैन सुनील कुमार गांधी ने कहा कि आढ़ती जानबूझकर पेमेंट लेट नहीं करते, जब उन्हें फैक्ट्रियों से पेमेंट लेट मिलती है तब किसानों की पेमेंट पर असर पड़ता है। इस अवसर पर संदीप शर्मा, गुरमीत राम, राजीव खन्ना, बलविंदर, रितिन गंधी, चरनजीत सिंह, सतवंत सिंह मुरादपुर, इंदरजीत सिंह बसी मरूफ, सवरन सिंह धुगा के अलावा आदि हाजिर थे।

मीटिंग के दौरान हाजिर किसान व आढ़ती।

अब फैक्ट्री मालिकों से किसान नेता करेंगे मीटिंग

आढ़तियों के साथ मीटिंग करने के बाद अब आने वाले दिनों में किसान नेताओं की लकड़ी खरीदने वाली फैक्ट्री मालिकों से मीटिंग होने जा रही है, जिसके प्रति सहमति बुधवार की मीटिंग में बनी। किसान नेताओं ने कहा कि इस मीटिंग में आढ़ती भी हाजिर रहेंगे तां जो पेमेंट की समस्या का हल हो सके।

नौशहरा मंडी दूर, बसी के पास बने सबयार्ड

इस मौके सभी ने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से भले ही नौशहरा में लक्कड़ मंडी बनाई है पर इससे किसानों और आढ़तियों को कोई ज्यादा फायदा नहीं मिल रहा। आढ़ती लगातार मांग कर रहे हैं कि होशियारपुर के आस-पास कई जगह पर सरकार की जमीन है और वहां पर सरकार को सबयार्ड बना देना चाहिए ताकि आढ़तियों और किसानों की मुश्किल हल हो सके। बता दें कि गढ़शंकर, माहिलपुर, टांडा समेत हिमाचल से लकड़ी लेकर आने वाले किसानों को जब नौशहरा जाकर वापस बसी जोकि होशियारपुर के नजदीक है आना पड़ता है। उन्होंने कहा कि इससे पैसे और समय की दोनों की बर्बादी होती है।