• Hindi News
  • Punjab
  • Gurdaspur
  • Batala News eo is flattering to please his political masters if he gives such statements again he will do a case of defamation

ईओ अपने राजनीतिक आकाओं को खुश करने के लिए कर रहे चापलूसी, दोबारा ऐसे बयान देंगे तो करेंगे मानहानि का केस

Gurdaspur News - बटाला नगर के पार्षदों की ओर से पिछले दिनों नगर कौंसिल के ईओ की ओर से दिए बयान कि बटाला नगर कौंसिल को निगम का दर्जा...

Sep 20, 2019, 07:36 AM IST
बटाला नगर के पार्षदों की ओर से पिछले दिनों नगर कौंसिल के ईओ की ओर से दिए बयान कि बटाला नगर कौंसिल को निगम का दर्जा मिलने के बाद हाउस भंग हो गया है। अब नगर कौंसिल बटाला में कोई कौंसलर नहीं और न ही कोई अध्यक्ष रहा। मीटिंग के दौरान पार्षद विनय महाजन और सुमन हांडा ने बताया कि वह लोगों की ओर से चुने गए प्रतिनिधि (कौंसलर) हैं, जो 5 साल के कार्यकाल के लिए हैं, न कि किसी संस्था या सरकार की ओर से लगाए गए हैं। जिसे जब मर्जी बर्खास्त कर दिया जाए। कौंसलरों ने आरोप लगाते हुए कहा कि ईओ अपने राजनीतिक आकाओं को खुश करने के लिए यह सब चापलूसी कर रहे हैं। ईओ को अखबार में प्रतिक्रिया देने से पहले अपना म्युनिसिपल कार्पोरेशन एक्ट 1976 एक बार जरूर पढ़ लेना चाहिए था। सरकार की ओर से जो नोटिफिकेशन की गई है, उसमें बटाला नगर कौंसिल को अर्बन लार्जर एरिया के तहत नगर निगम बनाया गया है, नोटिफिकेशन में कहीं भी हाउस भंग करने को लेकर या किसी एडमिनिस्ट्रेटर को चार्ज नहीं दिया गया।

पार्षद बोले- हमें लोगों ने चुना, न कि सरकार ने, जिसे जब मर्जी बर्खास्त कर दिया जाए

मीटिंग के दौरान जानकारी देते कौंसलर सुमन हांडा व अन्य। -भास्कर

कौंसलरों ने आरोप लगाया कि ईओ आगे से ऐसे गुमराह करने वाले बयान मत दें, जिससे आम लोग गुमराह हों। यदि ऐसा दोबारा किया जाता है तो हम सभी काउंसलर उसपर मानहानि का केस एवं विकास में बाधा डालने के आरोप में लिखित शिकायत प्रशासन से करेंगे। ऐसे करप्ट और राजनीतिक ईओ को बटाला की जनता सदियों तक विनाशकारी अधिकारी के रूप में जानेगी। मौके पर सुमन हांडा, विनय महाजन, कौंसलर सुखदेव महाजन, कौंसलर राज कुमार काली, कौंसलर राज कुमार फैजपुरा, कौंसलर अनुपमा संगर, अनिल डोली मौजूद थे।

पार्षद कर रहे गुमराह, 1976 एक्ट कार्पोरेशन में होता है, कौंसिल में नहीं

ईओ भूपिन्द्र सिंह ने कहा कि जिस 1976 एक्ट का हवाला कौंसलर दे रहे हैं, वह पहले उस एक्ट को समझें। पंजाब म्यूनिसिपल कार्पोरेशन एक्ट 1976 ये है कि, जब कार्पोरेशन का अर्बन एरिया लार्जर करते हैं तब इस एक्ट के तहत हाउस भंग नहीं होता और न ही कोई एडमनिस्ट्रेटर चार्ज लेता है। बटाला नगर कौंसिल 1911 एक्ट है। कौंसलर इस तरह के ब्यानबाजी न करें।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना