खाकी पर लगेरिश्वत के दाग

Gurdaspur News - शुक्रवार को विजिलेंस की टीम ने थाना बहरामपुर के एएसआई को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ काबू कर लिया। वहीं,...

Feb 15, 2020, 07:45 AM IST
Gurdaspur News - stain of khaki

शुक्रवार को विजिलेंस की टीम ने थाना बहरामपुर के एएसआई को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ काबू कर लिया। वहीं, मामले में अन्य आरोपी थाना प्रभारी की तलाश जारी है। जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले एक व्यक्ति को कुत्ते ने काट लिया। इसकी शिकायत करने जब पीड़ित कुत्ते के मालिक के घर गया तो वहां गाली-गलौज कर उसे घर से निकाल दिया गया। वहीं, अगले दिन रंजिश में कुत्ते के मालिक ने पीड़ित के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत थाने में मामला दर्ज करवा दिया गया। पीड़ित ने इस संबंधी 181 नंबर पर काॅल करके शिकायत दर्ज करवाई कि उसके खिलाफ झूठा मामला दर्ज किया गया है। इसकी जांच होनी चाहिए। दो सप्ताह गुजर जाने के बावजूद उसके बयान दर्ज करने कोई पुलिस कर्मचारी नहीं पहुंचा। इसी दौरान झगड़े का गांव में गणमान्य लोगों ने राजीनामा करवा दिया। राजीनामा होने के बाद 181 के जांच अधिकारी एएसआई पीड़ित के पास बयान लेकर उक्त जांच को रद्द करने पहुंचा। इसके बदले में उसने पीड़ित से 20 हजार रुपए की मांग की। लेकिन, उक्त सौदा 10 हजार रुपए में तय हो गया, लेकिन पीड़ित पक्ष के पास इतने पैसे नहीं थे। फिर उसने विजिलेंस विभाग का सहारा लिया और एएसआई को रंगे हाथ काबू करवा दिया।

विजिलेंस टीम }विजिलेंस के डीएसपी तेजिन्दरपाल सिंह व इंस्पेक्टर विजयपाल सिंह के नेतृत्व में टीम तैयार की गई, जिसमें सरकारी गवाह सुखपाल सिंह संधू बागबानी विकास अधिकारी गुरदासपुर व अजय कुमार शर्मा आबकारी व कर अधिकारी जिला गुरदासपुर के अलावा एसआई कमल सिंह, एसआई बिक्रम सिंह, एएसआई संतोख सिंह, एएसआई खुशपाल सिंह को शामिल किया गया।

ऐसे पकड़ा आराेपी }सरबजीत ने बताया कि सुबह उसने एएसआई हरजिन्दर सिंह को फोन करके मिलने के लिए कहा तो उसने उन्हें दीनानगर बुला लिया। जब वह दीनानगर पहुंचे तो उसने कहा कि वह गुरदासपुर कचहरी में है। जब वह कचहरी पहुंचे तो उसने कहा कि आप लोग जेल रोड पर स्थित इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की स्कीम नंबर 5 के पास आ जाओ। हम लोग वहां पर पहुंच गए। वहां पहुंचते ही हरजिन्दर सिंह अपनी गाड़ी में वहां पहुंच गया। जब हम लोग उसे पैसे देने लगे तो उसने थाना प्रभारी से भी फोन पर बात की कि 10 हजार रुपए दे रहे हैं, जिसके बाद उसने पैसे ले लिए और विजिलेंस की टीम ने उसे वहीं पर काबू कर लिया। इस संबंध में विजिलेंस ब्यूरो ने थाना बहरामपुर के प्रभारी मुख्तयार सिंह व एएसआई हरजिन्दर सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर हरजिन्दर सिंह को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि थाना प्रभारी की तलाश जारी है।

पीड़ित बोला- 181 पर की शिकायत को रफा-दफा करने के बदले मांगे थे 20 हजार, 10 हजार में सौदा हुआ तय, एएसआई : 10 हजार में से 5 हजार थाना प्रभारी को देने हैं

बहरामपुर का एएसआई ले रहा था 10 हजार, विजिलेंस ने रंगे हाथ पकड़ा

एएसआई को ले जाती विजिलेंस की टीम।

सरबजीत सिंह पुत्र बलकार सिंह निवासी गांव छोटा मटम थाना बहरामपुर ने बताया कि वह खेतीबाड़ी का काम करता है। 28 जनवरी को उसे गांव के ही निवासी मुनीश कुमार के पालतु कुत्ते ने काट लिया। इस संबंधी जब शिकायत करने मुनीश के घर गया तो पहले ही रंजिशबाजी होने के कारण उन्होंने मुझे गाली-गलौज करके घर से निकाल दिया। 29 जनवरी को उसे पता चला कि थाना बहरामपुर में उसके खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। 30 जनवरी को मैंने हेल्पलाइन नंबर 181 पर काॅल करके शिकायत दर्ज करवाई कि यह मामला झूठा है। इसकी जांच की जानी चाहिए और मुझे इंसाफ दिलाया जाए। सर्बजीत ने बताया कि शिकायत दर्ज करवाने के 15 दिन तक कोई अधिकारी उसके बयान लेने नहीं पहुंचा। इसी दौरान गांव के गणमान्य लोगों ने हम दोनों गुटों 7 फरवरी को राजीनामा करवा दिया। राजीनामा होने के बाद थाना बहरामपुर का एएसआई हरजिन्दर सिंह उसके पास पहुंचा और कहने लगा कि 181 की शिकायत का निपटारा करने के बदले उसे 20 हजार रुपए चाहिए, जिसमें से 10 हजार रुपए थाना प्रभारी मुख्तयार सिंह को भी देने हैं। सरबजीत के मना करने पर यह मामला 10 हजार रुपए में तय हो गया, जिसमें से 5 हजार रुपए थाना प्रभारी के थे। उसने बताया कि उसके पास इतने पैसे नहीं थे, जिसके चलते उसने इस संबंधी विजिलेंस विभाग में पहुंच करके शिकायत दर्ज करवा दी।

X
Gurdaspur News - stain of khaki
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना