--Advertisement--

राजनीति की बलि चढ़ी 70 मीटर गली : सुच्चा

हाजीपुर में सब तहसील को जाती मात्र 70 मीटर गली पंचायत द्वारा राजनीतिक रंजिशन में नहीं बनवाई जा रही। गली के अंत में...

Danik Bhaskar | Jul 24, 2018, 02:30 AM IST
हाजीपुर में सब तहसील को जाती मात्र 70 मीटर गली पंचायत द्वारा राजनीतिक रंजिशन में नहीं बनवाई जा रही। गली के अंत में आप नेता का घर होने के चलते कांग्रेस समर्थक पंचायत गली में स्थित सब तहसील को भी नजरअंदाज कर रही है।

यह आरोप मोहल्ला निवासी व आम आदमी पार्टी के जिला महासचिव रिटायर्ड एसडीओ सुच्चा सिंह ने खस्ताहालत गली को दिखाते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि गली का निर्माण लगभग 25 वर्ष पहले ईंटों से करवाया गया था। जिसकी कभी रिपेयर तक नहीं हुई। सुच्चा सिंह ने कहा कि गली के अंत में उनका घर है और वह आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी हैं, जिसके चलते उनके साथ राजनीतिक भेदभाव करते हुए मेन गली को छोड़ उसके साथ लगती लिंक गलियां पंचायत द्वारा बनवा दी गई हैं। उन्होंने कहा कि जब सब तहसील उक्त गली में आई तो यह उम्मीद हुई कि अब गली को पक्का बनवा दिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सुच्चा सिंह ने बताया कि गली के निर्माण के लिए पंचायत के साथ-साथ कई बार बीडीपीओ हाजीपुर से भी गुहार लगाई पर कोई हल नहीं हुआ। मोहल्ला वासियों ने बीडीपीओ के पास जाकर यहां तक अपील की थी कि वह अगर इजाजत दें तो मोहल्ले के लोग अपने पैसों से खुद ही गली बनवा लें पर बीडीपीओ ने कहा कि वह पैसे उनके कार्यालय में जमा करवा दें, निर्माण पंचायत ही करवाएगी। सुच्चा सिंह ने पंजाब सरकार व स्थानीय प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि उक्त गली का निर्माण अगर जल्दी न करवाया गया तो वह पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बीडीपीओ कार्यालय के समक्ष धरना देंगे और कांग्रेस सरकार द्वारा किए जा रहे राजनीतिक भेदभाव के सामने लाएंगे। बीडीपीओ सुखप्रीत पाल सिंह ने कहा कि गली बनवाना पंचायत के अधिकार क्षेत्र में है। पंचायत अगर गली का प्रस्ताव डाल कर देती है तो उनका कार्यालय काम करवाने में कोई देर नहीं करेगा।

गली की खस्ताहालत दिखाते आप नेता सुच्चा सिंह।

राजनीतिक भेदभाव नहीं, ग्रांट की कमी : सरपंच

सरपंच किशोर कुमार ने कहा कि उन्होंने बिना भेदभाव विकास करवाया है। उक्त गलियों के अंदर जो लिंक गलियां थीं, उनकी हालत ज्यादा खराब होने के कारण पहले बनानी पड़ी। ग्रांट की कमी के कारण मेन गली का काम रह गया था। गली में सब तहसील होने के कारण सभी पार्टियों के लोग काम करवाने जाते हैं, भेदभाव जैसी कोई बात नहीं। जैसे ही ग्रांट आएगी, गली बनवा देंगे।