--Advertisement--

पंजाब की टॉप 20 लिस्ट में जिले के चार छात्रों के नाम

भास्कर संवाददाता| होशियारपुर होशियारपुर जिले के मजदूर के बेटे में पढ़ाई में बढ़िया रैंक हासिल कर यहां अपने इलाके...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:30 AM IST
भास्कर संवाददाता| होशियारपुर

होशियारपुर जिले के मजदूर के बेटे में पढ़ाई में बढ़िया रैंक हासिल कर यहां अपने इलाके का नाम रोशन किया। वहीं अपने मजदूर पिता की मजदूरी की भी लाज रखी है।

पंजाब भर के 160 पॉलिटेक्निक कॉलेज के सिविल इंजीनियरिंग के चौथे सेमेस्टर के लिए टॉप 20 लिस्ट में विद्यार्थियों को चुना गया, जिसमें जेआर पॉलिटेक्निक कॉलेज होशियारपुर के विशाल ने पहला स्थान, विक्की काजल ने तीसरा स्थान, लखविंदर ने चौथा स्थान और रमनजीत सिंह ने सातवां स्थान हासिल कर होशियारपुर का नाम रोशन किया।

इन चारों छात्रों के पिता के बारे में बात करें तो इनमें तीन के पिता दुकानदार तो एक का पिता मजदूरी कर अपने बच्चों को पढ़ा रहा है।

उपलब्धि

विशाल ने पहला, विक्की काजल ने तीसरा, लखविंदर ने चौथा और रमनजीत ने सातवां स्थान किया हासिल

संत इंदरदास से सिरोपा लेकर आशीर्वाद लेता विक्की काजल और पिता सुरिंदर पाल व माता कमलेश रानी।

6 महीने पहले आ चुका है नतीजा

गांव मेघोवाल गंजेआ के मजदूरी करने वाले पिता के बेटे विक्की काजल ने बतायाकि उनके सेमेस्टर का नतीजा करीब 6 महीने पहले आ चुका है। नतीजे के बाद बहुत से छात्रों की सप्लीमेंट्रियां आ जाती है जिसकी वजह से टॉप 20 छात्रों की लिस्ट भी लेट हो जाती है, जिसकी वजह से करीब एक दो सप्ताह पहले ही इस लिस्ट को जारी किया गया है।

पिता ने मजदूरी करके पढ़ाया : विक्की काजल

गांव मेघोवाल गंजेआ के मजदूरी करने वाले पिता के बेटे विक्की काजल ने बताया कि उसके पिता ने मजदूरी करके उसको और उसके दो भाई बहनों को पढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उसने गांव के सरकारी स्कूल से 10 क्लास में टॉप किया था और 12वीं कक्षा में भी टॉप आया था। उसने बताया कि कॉलेज में पहले सेमेस्टर में उसका 15वां स्थान, दूसरे में दूसरा स्थान और इस बार चौथे सेमेस्टर में उसने तीसरा स्थान हासिल किया। विक्की ने कहा कि इस कामयाबी का श्रेय वह अपने माता-पिता को देता है और संत इंदर दास के आशीर्वाद से सब संभव हो सका है।

सिर्फ पढ़ाई का शौक है : विशाल

पंजाब में पहले स्थान पर आने वाले एक दुकानदार के बेटे विशाल ने बताया कि इससे पहले वह पहले सेमेस्टर में पंजाब में 16वें स्थान, दूसरे सेमेस्टर में तीसरे, तीसरे सेमेस्टर में 6वें और अब चौथे समेस्टर में फर्स्ट आया है। उसने बताया कि इन सब का श्रेय वह अपने मातापिता और अध्यापकों को देता है। विशाल ने कहा कि उसका शौक सिर्फ पढ़ाई करना है। विशाल ने बताया कि 10वीं में उसने 93 प्रतिशत नंबर हासिल कर स्कूल में प्रथम स्थान हासिल किया था।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..