• Hindi News
  • Punjab News
  • Hoshiarpur News
  • हाईकोर्ट की फटकार व मामला सीबीआई को जाता देख एक घंटे में कोर्ट पहुंचे होम सेक्रेटरी
--Advertisement--

हाईकोर्ट की फटकार व मामला सीबीआई को जाता देख एक घंटे में कोर्ट पहुंचे होम सेक्रेटरी

अमृतसर के बहुचर्चित सुसाइड मामले में बुधवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट की चेतावनी के बाद एक घंटे में होम...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:30 AM IST
अमृतसर के बहुचर्चित सुसाइड मामले में बुधवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट की चेतावनी के बाद एक घंटे में होम सेक्रेटरी कोर्ट के सामने पेश हो गए। होम सेक्रेटरी के कोर्ट में पहुंचने का कारण कोर्ट की फटकार और केस सीबीआई के सौंप जाने की संभावना है। बता दें कि एक मामले में अदालत से सबूतों वाली फाइल गायब हो गई थी उसको लेकर जस्टिस राजन गुप्ता की अदालत में सुनवाई चल रही थी। जब बुलाने पर भी होम डिपार्टमेंट से कोई अधिकारी नहीं पहुंचा तो जस्टिस गुप्ता ने एडवोकेट जनरल को साफ कर दिया कि अगर 12 बजे तक कोई अधिकारी नहीं पहुंचा तो यह मामला सीबीआई को सौंप दिया जाएगा। इस पर होम सेक्रेटरी हाईकोर्ट पहुंचे और उनको इस मामले में एफिडेविट देने के लिए 9 मई तक का समय दिया गया।

900 के करीब सबूतों वाली सारी फाइल कोर्ट से हुई थी गुम

दरअसल अमृतसर के एक ही परिवार के पांच लोगों की ओर से आत्महत्या करने का मामला उस समय के एसएसपी और पूर्व डीआईजी कुलतार सिंह पर चल रहा था। सर्वजीत सिंह वेरका इस मामले की पैरवी कर रहे थे। सुनवाई के दौरान अदालत की कार्रवाई में 900 के करीब पन्नों वाली फाइल जिसमें कुलतार सिंह के खिलाफ तमाम सबूत थे, अगस्त 2012 को पता चला कि अदालती फाइल से वो तमाम 900 पन्ने गायब हो गए। 6 महीने तक हाईकोर्ट को इसकी जानकारी नहीं दी गई जब कोर्ट को पता चला तो दोबारा फाइल तैयार करने को कहा गया। इसी दौरान डीजीपी आफिस से यह जानकारी दी गई कि इस केस संबंधी सारा रिकॉर्ड होम डिपार्टमेंट के आदेश पर जला दिया गया है।

हाईकोर्ट ने ज्वाइंट सेक्रेटरी स्तर के अफसर को किया था तलब

इसी मामले में हाईकोर्ट ने होम डिपार्टमेंट से जवाब मांगा गया था लेकिन होम डिपार्टमेंट ने कोई भी जवाब नहीं दिया और इससे पहले 25 अप्रैल को सुनवाई हुई तो जस्टिस राजन गुप्ता ने होम डिपार्टमेंट के ज्वाइंट सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी को खुद पेश होने के लिए कहा था लेकिन बुधवार जब सुनवाई हुई तो कोई भी अधिकारी वहां पर नहीं पहुंचा।

सीबीआई को केस सौंपने की बात सुनते ही पहुंचे चीफ सेक्रेटरी

जब आज बुधवार 10.30 बजे केस की सुनवाई शुरू हुई तो किसी भी अधिकारी के न पहुंचने पर जस्टिस राजन गुप्ता ने कहा कि अगर 12 बजे तक कोई अधिकारी नहीं पहुंचा तो यह केस सीबीआई को दे दिया जाएगा। हाईकोर्ट की फटकार के बाद 12 बजे से पहले ही होम डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी कोर्ट पहुंच गए। कोर्ट ने उन्हें हिदायत की गई कि वह मामले में अगली तारीख तक एफिडेविट दें कि आखिरकार केस खत्म होने से पहले ही रिकार्ड किस तरह से जला दिया गया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..