• Home
  • Punjab News
  • Hoshiarpur News
  • किसानों की मांगों को तीन हफ्तों में हल न किया गया तो करेंगे संघर्ष : कमेटी
--Advertisement--

किसानों की मांगों को तीन हफ्तों में हल न किया गया तो करेंगे संघर्ष : कमेटी

होशियारपुर | दोआबा वातावरण बचाओ कमेटी के एक प्रतिनिधि मंडल ने आज डीसी विपुल उज्जवल को एक मांग पत्र दिया। जिसमें...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:25 AM IST
होशियारपुर | दोआबा वातावरण बचाओ कमेटी के एक प्रतिनिधि मंडल ने आज डीसी विपुल उज्जवल को एक मांग पत्र दिया। जिसमें दोआबा वातावरण बचाओ कमेटी, भारती किसान यूनियन और जम्हूरी किसान सभा के पदाधिकारियों और सदस्यों ने भाग लिया।

इस मांग पत्र संबंधी गुरदीप सिंह खुनखुन, हरपाल सिंह संघा, दविंदर सिंह कक्कों, ओम सिंह सटियाना, दर्शन सिंह मट्टू, मास्टर शिंगारा सिंह, सतवंत सिंह मुरादपुर, गुरनाम सिंह सिंगड़ीवाला, कामरेड गुरमीत सिंह, सतनाम सिंह आदो दी गड़ी, इंद्रजीत सिंह बसी मरूफ, जोगिंदर सिंह, हरभजन सिंह, रणजीत कुमार ने बताया कि गांव बसी मारूफ सियाला में बनी कार्बन फैक्टरियों और प्लाईवुड फैक्टरियों में ईटीपी एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट अब तक नहीं लगाए गए। खुले में कार्बन सुखाना बंद नहीं किया गया ऐसे कोई मशीन नहीं लगाई, जो कार्बन को पैक करके बाहर निकाले और वातावरण को सुरक्षित रखा जा सके। उन्होंने कहा कि कार्बन फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों को आज तक मास्क, दस्ताने, बूट और अन्य जरूरी सेहत संबंधी सावधानियां की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। किसानों द्वारा बेची जा रही लक्कड़ की नकद अदायगी और चेक पर 4 प्रतिशत कटौती बंद नहीं की गई और आढ़तियों द्वारा लक्कड़ बेचने वाले किसानों को कोई पक्का बिल नहीं दिया जाता। केवल कंडे की पर्ची ही दी जाती है। हर लक्कड़ बेचने वाले को जे फार्म जरूर दिया जाए। अंत में उन्होंने बताया कि आढ़तियों द्वारा लक्कड़ बेचने के बाद लक्कड़ में 8 से 10 क्विंटल कटौती करके फट्‌टी का रेट 200-250 रुपए लगाना बंद नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि 3 हफ्तों में यदि कोई कार्रवाई नहीं की गई तो सख्त संघर्ष करेंगे।

दोआबा वातावरण बचाओ कमेटी व अन्य कमेटियों के पदाधिकारी और सदस्य डीसी विपुल उज्जवल को ज्ञापन सौंपते हुए। -भास्कर