शहर में दूध सप्लाई करने वाली गाड़ियां बिना कोल्ड चेन के स्टोरों पर बेच रही हैं, घर ले जाते ही फट रहा दूध

Hoshiarpur News - शहर में दूध व दूध से बनने वाली वस्तुओं की सप्लाई करने वाली गाड़ियां पूरी तरह इंसुलेटेड नहीं है, जिसका खामियाजा आम...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:50 AM IST
Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
शहर में दूध व दूध से बनने वाली वस्तुओं की सप्लाई करने वाली गाड़ियां पूरी तरह इंसुलेटेड नहीं है, जिसका खामियाजा आम दुकानदार के साथ-साख ग्राहकों को भुगतना पड़ रहा है। नियमानुसार दूध सप्लाई करने वाली गाड़ी में फिटिंग इस प्रकार होनी चाहिए कि उसके अंदर का तापमान तय मापदंड के तहत बना रहे। मगर, शहर में दूध सप्लाई में लगाई गई गाड़ियां ऐसी हैं, जो पीछे से खुली हैं। इसके कारण प्लास्टिक की थैली में बंद दूध के खराब होने का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि प्लास्टिक की थैली होने के कारण तापमान बढ़ने से दूध में प्लास्टिक से केमिकल रिएक्शन हो जाता है, जो कि सेहत के लिए बहुत हानिकारक बताया जाता है। दूध सप्लाई करने वाली इन खुली गाड़ियों को तय मानकों के तहत बनाने के लिए ठोस कदम न उठाए जाने से उपभोक्ता का दूध घर लेजाते ही फट जाता है।

उपभोक्ता बोले- मेहमान घर आए थे, दूध का पैकेट घर लाते ही फट गया

अस्लामाबाद के एक उपभोक्ता चरनजीत सिंह ने बताया कि उसके घर मेहमान आए हुए थे। शाम 4 बजे एक लीटर वाला दूध का पैकेट घर ले आया। जैसे ही दूध को गरम करने के लिए बर्तन में डाला कुछ ही देरी में दूध फट गया। दुकानदार से शिकायत की गई तो, वहां के सुपरवाइजर वरिंदर सिंह ने कहा कि बर्तन ठीक ढंग से साफ नहीं रहा होगा। इतनी देर में एक ग्राहक और दूध फटने की समस्या को लेकर वहां पहुंच गया। वह भी थोड़ी देर पहले ही उसी दुकान से दूध का पैकेट लेकर घर गया ही था। स्टोर सुपरवाइजर ने कहा कि इसमें उनकी कोई गलती नहीं जो दूध उन्हें सप्लाई होता है उसकी गाड़ी का तापमान सही न होने से दूध के फटने की संभावना बनी रहती है।

दूध सप्लाई की गाड़ी से सैंपल लेते डॉ. सेवा सिंह।

दूध सप्लाई इंसुलेटेड और बंद गाड़ी में किया जाए : जिला हेल्थ अधिकारी

जिला हेल्थ अधिकारी डा. सेवा सिंह की अगुआई में तंदुरूस्त पंजाब के तहत होशियारपुर शहर, दसूहा, और तलवाड़ा क्षेत्रों में र्कारवाई करते हुए दूध, दही, बर्फ और खाने पीने वाली वस्तुओं के 11 सैंपल लिए। उन्होंने कहा कि दूध सप्लाई बंद गाड़ी में ही होनी चाहिए। यदि ऐसा नहीं हो रहा है तो जल्द ही वह दूध सप्लाई करने वालों के साथ मीटिंग करेंगे और उन्हें जरूरी निर्देश जारी करेंगे।

मेरी मजबूरी है गाड़ी ओवरलोड है, दरवाजा घर पर खोल कर रखा है : सप्लायर

दूध विक्रेता पुरुषोत्तम ठाकुर ने कहा कि गाड़ी पूरी तरह से इंसुलेटेड है। चूंकि उनके पास सप्लाइंग एरिया बड़ा है। दूध सप्लाई गढ़शंकर और नवांशहर के पोजेवाल तक जाती है। दूध के क्रेट ज्यादा मात्रा में होने के चलते गाड़ी के डाले पर रखने पड़ते हैं। मजबूरी में गाड़ी के दरवाजे खोल कर रखने पड़ते हैं। दूध की सप्लाई एक दिन एडवांस चलती है।

अगर गाड़ी इंसुलेटेड नहीं होगी तो सख्त कार्रवाई की जाएगी| इस संबंध में वेरका के स्वराज पाल सिंह (डीएम मार्किंटग) ने कहा कि उनके ध्यान में ऐसा कोई केस अभी तक नहीं आया है। फिर भी दूध सप्लाई करने वाली गाड़ियां इंसुलेटेड नहीं पाई जाती हैं तो जांच के बाद कार्रवाई जरूर की जाएगी। उन्होंने कहा कि दूध डिस्पैच के समय तापमान चेक करके ही गाड़ियों में दूध लोड किए जाते हैं।

Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
X
Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
Hoshiarpur News - milk supply vehicles in the city are selling without cold chain stores the bursting milk
COMMENT