जैविक विधि से तैयार किए पूषा डि-कम्पोजर कैप्सूल की स्प्रे करके गलाए जा सकते हंै फसलों के अवशेष : डॉ. लवलीन

Hoshiarpur News - भास्कर संवाददाता | मुकेरियां गांव तंगरलिया में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान दिल्ली की ओर से एग्रीक्लीनक एंड...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 07:36 AM IST
Dasua News - residues of crops can be melted by spraying pusha de composer capsules prepared by biological method dr lavalin
भास्कर संवाददाता | मुकेरियां

गांव तंगरलिया में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान दिल्ली की ओर से एग्रीक्लीनक एंड एग्रीबिजनेस सेंटर दसूहा के सहयोग से किसान जागरूक कैंप लगाया गया। इसमें भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान पूषा दिल्ली से डॉ. लवलीन शुक्ला, डॉ. राजेश सैनी टीम के साथ विशेष रूप से शामिल हुए। डॉ. लवलीन शुक्ला ने किसानों को बताया कि जैविक विधि से तैयार किए पूषा डि-कम्पोजर कैप्सूलों की स्प्रे फसलों के अवशेषों पर करने वह पूरी तरह से गल जाते है। इससे हमारी भूमि की उपजाऊ शक्ति भी बढ़ जाती है। उन्होंने जैविक डि-कम्पोजर कैप्सूल को प्रयोग करने की विधि बारे जानकारी देते बताया कि इसके लिए 150 ग्राम गुड़ लेकर पांच लीटर पानी में मिला कर इस मिश्रण को अच्छी तरह उबालें उसके बाद उसके ऊपर से सारी गंदगी को हटा दे। इस मिश्रण को चकोर बर्तन में ठंडा होने के लिए रख दे, इसमें 50 ग्राम बेसन मिलाने के बाद इसमें चार पूषा डि-कम्पोजर कैप्सूल को तोड़ कर इसमें डाल दे। दस दिनों में आपका कल्चर तैयार हो जाएगा। कुछ ही दिनों में कृषि अवशेष जैविक खाद में तबदील हो जाएंगे। इस समय एडीओ कंवलदीप सिंह ब्लाक मुकेरियां एवं सोर एग्रीक्लीनक के इंजी विजय सिंह ने बताया कि फसलों के अवशेषों को जलाने से हमारी भूमि की उपजाऊ शक्ति कम हो जाती है। इस अवसर पर एडीओ कंवलदीप सिंह, इंजी विजय सिंह, एईओ सतीश कुमार, सुरजीत सिंह, राजेश सैनी, राकेश कुमार, जोगिंदर सिंह, बलविन्द्र सिंह, राम दयाल, मोहन सिंह, ज्ञान सिंह, दविन्द्र सिंह, राजिंदर सिंह आदि उपस्थित थे।

कैंप के दौरान किसानों को जानकारी देते डॉ. लवलीन शुक्ला व अन्य।

X
Dasua News - residues of crops can be melted by spraying pusha de composer capsules prepared by biological method dr lavalin
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना