Hindi News »Punjab »Hoshiarpur» Teach Your Child CM, To Teach In Government School Government Schools

सरकारी मुलाजिम सरकारी स्कूलों में पढ़ाएं अपने बच्चे, सीएम को सुझाव

पंजाब सरकार कर रही विचार,16 को हो सकता फैसला

योगेश कौशल | Last Modified - Jun 14, 2018, 05:39 AM IST

सरकारी मुलाजिम सरकारी स्कूलों में पढ़ाएं अपने बच्चे, सीएम को सुझाव

होशियारपुर.सूबे के सरकारी मुलाजिमों को अपने बच्चे सरकारी स्कूलों में ही पढ़ाने पड़ सकते हैं। ऐसा नहीं करने वाले मुलाजिमों का प्रमोशन और वेतन बढ़ोत्तरी रोकी जा सकती है। पंजाब सरकार कुछ ऐसे ही प्रपोजल पर विचार कर रही है। 16 जून को सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई वाली बैठक में इस पर कोई फैसला हो सकता है।

- सूबे के सरकारी स्कूलों में शिक्षा के गिरते स्तर को सुधारने के लिए सीएम ने शिक्षा विभाग के 10 प्रिंसिपल से रिपोर्ट मांगी थी। उनसे पूछा गया था कि प्राइवेट स्कूलों के मुकाबले सरकारी स्कूलों में रिजल्ट कैसे सुधारा जा सकता है। प्रिंसिपलों ने इस संबंध में सुधारात्मक खाका तैयार कर लिया है।

- इस रिपोर्ट में करीब 2 दर्जन सुझाव दिए गए हैं, जिनमेें सबसे अहम ये है कि सरकारी मुलाजिम और अफसर अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाएंगे तो शिक्षा का स्तर सुधरेगा। शिक्षा विभाग के सचिव कृष्ण कुमार ने इस संबंध में कहा कि ये सिर्फ सुझाव है, फैसला 16 को सीएम अमरिंदर सिंह करेंगे।

- गवर्नमेंट टीचर्स यूनियन के जिला प्रधान अमनदीप शर्मा ने बताया कि अगस्त 2015 में इलाहाबाद हाईकोर्ट इस संबंध में फैसला दे चुका है। कोर्ट ने यूपी के सभी सरकारी मुलाजिम, चाहे वे दर्जा एक हों या दर्जा चार, को अपने बच्चों को प्राथमिक सरकारी स्कूलों मेें अनिवार्य रूप से पढ़ाने को कहा था। ऐसा न करने वाले पर दंडात्मक कार्रवाई के लिए कहा था।

- इस तरह की पॉलिसी बनाने पर विचार हो रहा है। 16 जून को मुख्यमंत्री इस संबंध में अंतिम निर्णय लेंगे। -ओपी सोनी, शिक्षा मंत्री, पंजाब

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Hoshiarpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: srkari mulaajim srkari schoolon mein pdheaaen apne bchche, CM ko sujhaav
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
Reader comments

More From Hoshiarpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×