--Advertisement--

37 साल पहले बलराम जाखड़ को संसद लेकर गए थे ड्राइवर, बेटे को भी उन्हीं ने पहुंचाया

महत्वपूर्ण पदों पर पहुंचे उनको पहले दिन लाल चंद बाघला ही लेकर गए।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 06:48 AM IST

अबोहर. 37 साल पहले कांग्रेस के दिग्गज नेता पूर्व लोकसभा स्पीकर चौ. बलराम जाखड़ को उनका ड्राइवर लाल चंद बांघला सांसद बनने के बाद पहली बार लोकसभा लेकर गया। उसी ड्राइवर ने शुक्रवार को उनके पुत्र सुनील जाखड़़ को भी संसद भवन तक पहुंचाया। लाल चंद बाघला पिछले 40 सालों से जाखड़़ परिवार के यहां नौकरी कर रहे हैं और उनके परिवार के सभी सदस्य जिन-जिन महत्वपूर्ण पदों पर पहुंचे उनको पहले दिन लाल चंद बाघला ही लेकर गए।

सुनील जाखड़ द्वारा शुक्रवार को लोकसभा में सांसद की शपथ उठाई गई तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में खड़े होकर उनका स्वागत किया। शुक्रवार को अबोहर में सारा दिन चर्चा का विषय यह रहा कि इनके पिता बलराम जाखड ने 1972 से 1980 तक पंजाब विधानसभा के सदस्य रहने के बाद जनवरी 1980 में जब पहली बार फिरोजपुर क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ा तो लगभग 2 लाख मतों के बहुमत से विजयी हुए थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने पहली बार सांसद चुने जाने के बावजूद इनकी योग्यता के आधार तत्कालीन प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने पहली बार सांसद चुने जाने के बावजूद इनकी योग्यता के आधार पर 22 जनवरी 1980 को लोकसभा अध्यक्ष के रूप में श्री जाखड का नाम प्रस्तावित करते हुए कहा था कि एक धरती पुत्र को इस गरिमामय पद पर बिठाकर उन्हें हार्दिक हर्ष का अनुभव हो रहा है। उसके बाद 2002 से फरवरी 2017 तक सुनील जाखड ने विधायक, संसदीय सचिव नेता प्रतिपक्ष के रूप अपनी भूमिका निभाई और अब वो पार्टी के प्रदेश प्रधान एवं सांसद के रुप में कार्य कर रहे हैं।