Hindi News »Punjab »Jalandhar» Dsp And Constable Was Died In During Between Police Students

जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया

कनपटी चीर आॉख में लगी थी गोली...

Parvinder Arora | Last Modified - Feb 03, 2018, 05:25 AM IST

  • जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया
    +4और स्लाइड देखें
    डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू और सीआईए इंचार्ज के गनमैन लाल सिंह

    फरीदकोट.जैतो के पंजाबी यूनिवर्सिटी के क्षेत्रीय कैंपस में पिछले दिनों जिस मामले को सुलझाने के लिए गए डीएसपी और कांस्टेबल की अचानक गोली चलने से मौत हो गई थी। उक्त मामला शुक्रवार को स्टूडेंट्स संगठनों की मांग पर जैतो के तत्कालीन थाना प्रभारी ने बिना शर्त माफी मांगने और स्टूडेंट्स पर दर्ज केस वापस लेने पर सुलझ गया। बता दें कि इसी मामले को सुलझाने में दिवंगत डीएसपी बलजिंदर सिंह काफी दिनों से प्रयास कर रहे थे तब थाना प्रभारी गलती मानने को तैयार नहीं था। इसी के चलते स्टूडेंट्स संगठनों ने सोमवार को काॅलेज परिसर में धरना लगा दिया था।

    गोली मार ली थी कनपटी में

    प्रदर्शन के दौरान डीएसपी बलजिंदर सिंह ने आत्‍महत्या कर ली थी और उनकी गोली से साथ खड़े कांस्टेबल लाल सिंह जख्मी हो गए थे। उनकी भी अगले दिन मौत हो गई थी। जैतो कांड एक्शन कमेटी के कनवीनर और पंजाब स्टूडेंट यूनियन के प्रांतीय अध्यक्ष रजिन्दर सिंह ने समझौते की बात के बारे में बताया। हालांकि एसएसपी डाॅ. नानक सिंह ने कहा कि समझौते की उन्हें कोई जानकारी नहीं है। मामले की जांच के बाद ही झूठे मामले रद्द करने को कार्रवाई होगी। आत्महत्या वाला मामला अज्ञात आरोपियों पर है व इसमें किसी को भी नामजद नहीं किया गया है।

    थाना प्रभारी को डीजीपी ने कर दिया था लाइन हाजिर

    - इस केस में डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने विवाद का कारण बने थाना प्रभारी गुरमीत सिंह पर कार्रवाई करते हुए उसे लाइन हाजिर कर दिया था।

    - वहीं, स्टूडेंट्स पर केस दर्ज होने को लेकर छात्र व अन्य सहयोगी संगठनों द्वारा गठित जैतो कांड एक्शन कमेटी ने पुलिस की इसी कार्रवाई के विरोध में 5 फरवरी को जिला स्तर पर रोष प्रदर्शन करने का ऐलान किया था।

    क्या था मामला

    - 12 जनवरी को थाना जैतो प्रभारी गुरमीत सिंह के नेतृत्व में पुलिस ने जैतो के बस अड्डे के पास से संदिग्ध अवस्था में खड़े यूनिवर्सिटी काॅलेज जैतो के कुछ विद्यार्थियों को बिना कोई कारण बताए उठा लिया था।

    - स्टूडेंट्स का आरोप था कि थाने में ले जाकर उनसे मारपीट भी की गई थी।

    - पुलिस के इसी व्यवहार को लेकर स्टूडेंट्स ने पुलिस के सीनियर अफसर्स को कार्रवाई के लिए शिकायत दी थी।

    - शिकायत की जांच तत्कालीन डीएसपी बलजिंदर सिंह के पास आने पर उन्होंने थाना प्रभारी व पीड़ित स्टूडेंट्स के बीच समझौता करवाने को भी प्रयत्न किए लेकिन इस दौरान पुलिस अधिकारी के हठ के चलते बात सिरे नहीं चढ़ सकी।

    - इस मामले में कार्रवाई से असंतुष्ट छात्रों ने 29 जनवरी को जैतो के यूनिवर्सिटी में रोष प्रदर्शन किया था।

  • जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया
    +4और स्लाइड देखें
    वीडियो में खुद पर गोली तानते हुए नजर आए डीएसपी
  • जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया
    +4और स्लाइड देखें
    मौके पर ही हो गई थी डीएसपी की मौत।
  • जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया
    +4और स्लाइड देखें
    डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू 6 महीने पहले ही dsp बने थे।
  • जिस मामले गई DSP और कांस्टेबल की जान, 5 दिन में TI ने ऐसे सुलझाया
    +4और स्लाइड देखें
    डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू ने सर्विस पिस्टल से कनपटी पर गोली मार ली थी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jalandhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×