--Advertisement--

DSP ने अपनी कनपटी पर रखी बंदूक, ट्रिगर दबा तो गोली निकली गर्दन के पार

जानकारी के मुताबिक, कुछ दिन पहले पुलिस ने 2 छात्रों व एक छात्रा को बस स्टैंड से पकड़ा था और उनके साथ थाने में मारपीट की

Danik Bhaskar | Jan 30, 2018, 01:25 AM IST
डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू

जैतो/कोटकपूरा. पीयू के जैतो स्थित कैंपस में सोमवार सुबह पुलिस प्रशासन के खिलाफ चल रहे स्टूडेंट्स व कुछ अन्य संगठनों के धरने के दौरान डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू ने सर्विस पिस्टल से कनपटी पर गोली मार ली। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। गोली उनकी कनपटी को चीरती हुई पास खड़े सीआईए इंचार्ज के गनमैन लाल सिंह की आंख को छूती हुई निकल गई, जिससे उनकी हालत गंभीर हो गई है।

पुलिस का कहना है कि सिद्धू ने पक्षपात के आरोपों से आहत होकर ऐसा किया है। पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा-306 के तहत आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज किया है। डीजीपी ने आईजी बठिंडा से रिपोर्ट मांगी है।

- आरोप है कि कुछ दिन पहले पेट्रोलिंग कर रहे एसएचओ गुरमीत सिंह ने काॅलेज के दो लड़कों और एक लड़की की पिटाई कर दी थी।

- स्टूडेंट नेता गुरजिंदर विद्यार्थी और मलकीत फौजी ने पिटाई की वीडियो व्हाट्सएप पर वायरल कर दी। इसके बाद मामला तूल पकड़ गया। पीड़ित स्टूडेंट्स ने डीएसपी को शिकायत दी।

- इस दौरान कार्रवाई न होने से खफा स्टूडेंट्स ने संघर्ष की चेतावनी दे दी, पर डीएसपी की दखल पर कॉलेज स्टूडेंट पीछे हट गए। फिर भी शिकायत करने वाले स्टूडेंट्स ने कुछ आउटसाइडर्स से संपर्क कर लिया। - इसके बाद बरनाला के स्टूडेंट नेता गांव जीदा निवासी गुरजिंदर विद्यार्थी और गांव रोड़ीकपूरा के किसान यूनियन के नेताओं ने धरने की कॉल दे दी।

- सोमवार सुबह सभी ने लाउडस्पीकर लेकर कॉलेज कैंपस में धरना लगा नारेबाजी शुरू कर दी।

डीएसपी : गोली मार लेंगे ; आवाज आई : मार लो

- वीडियो में दिख रहा है कि माइक पर भाषण दे रहे युवक को किसी ने कहा कि, ‘वे तुझे गोली मार देंगे।’ युवक ने कहा कि, ‘ऐसे ही कोई कैसे गोली मार देगा।’ इसी बीच डीएसपी प्रदर्शनकारियों के बीच में आ खड़े होते हैं।

- एक युवक कहता है, ‘पुलिस इकतरफा कार्रवाई कर रही है, इसलिए पुलिस को गोली मार लेनी चाहिए।

- इस पर डीएसपी पिस्टल कनपटी पर लगाते हुए कहते हैं, ‘ गोली मार लूं’। युवक कहता है, ‘मार लो’। फिर अचानक गोली चल जाती है।

6 महीने पहले ही बने थे डीएसपी

- बलजिंदर सिंह पटियाला के आजाद नगर इलाके के रहने वाले थे। वह 1993 में एएसआई भर्ती हुए थे। करीब 6 माह पहले ही वह डीएसपी बने थे।

- पहली पोस्टिंग जैतो में हुई थी। परिवार में उनके पिता रिटायर्ड आर्मी अफसर देव सिंह, माता चरणजीत कौर, पत्नी कुलविंदर कौर और एक बेटा है। उनका बेटा अमेरिका में पढ़ाई कर रहा है।

पहले लगा भीड़ में से किसी ने मारी गोली

- धरने के दौरान गांव रोडीकपूरा का विक्कर पिस्टल लेकर पहुंच गया। डीएसपी ने उसे राउंडअप किया और फिर से छात्रों का विवाद सुलझाने की कोशिश करने लगे।

- इसी बीच उन्होंने अपनी पिस्टल से खुद को गोली मार ली। पहले तो सबने ये समझा कि फायर भीड़ में से किया गया है, लेकिन कुछ देर बाद वीडियो वायरल होने पर सच्चाई सामने आई।

आईजी बोले- दबाव में गोली मारी

डीएसपी प्रदर्शनकारियों को शांत करने गए थे। मौके पर छात्रों के दूसरे गुट के आने से माहौल गर्मा गया। प्रदर्शनकारियों ने डीएसपी पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए नारेबाजी शुरू कर दी। वह इसे बर्दाशत नहीं कर पाए और खुद को गोली मार ली। -मुखविंदर सिंह छीना, आईजी, बठिंडा

आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

वीडियो में खुद पर गोली तानते हुए नजर आए डीएसपी वीडियो में खुद पर गोली तानते हुए नजर आए डीएसपी
हॉस्पिटल में तोड़ा डीएसपी ने दम हॉस्पिटल में तोड़ा डीएसपी ने दम
हॉस्पिटल में DSP हॉस्पिटल में DSP
डीएसपी बलजिंद्र संधू डीएसपी बलजिंद्र संधू
गोली गर्दन को काट निकली थी आरपार। गोली गर्दन को काट निकली थी आरपार।
डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू डीएसपी बलजिंदर सिंह सिद्धू