Hindi News »Punjab »Jalandhar» Engineer Student Killed In Tiff Over Birthday Party

कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा

शहीद ऊधम सिंह नगर में 30 मिनट कर मौत का खेल चलता रहा, लेकिन आस-पड़ोस के लोगों ने बीच-बचाव की जहमत नहीं उठाई।

BhaskarNews | Last Modified - Dec 10, 2017, 02:46 AM IST

  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    भाई को मुखाग्नि देता भाई और इनसेट में मृतक आशीष।

    फगवाड़ा. अपने जिस बेटे के दम पर वह अपना भविष्य देख रहा था, उस पिता ने ही अपने बेटे की अर्थी को कंधा दिया। बता दें कि मेघालय के शिबजी प्रसाद के बेटे आशीष को पड़ोसियों ने मामूली झगड़े में पीट-पीटकर मार डाला था। उसी क आज अंतिम संस्कार किया गया। झगड़े के समय सभी स्टूडेंट्स रूम में फ्रेंड का बर्थडे सेलिब्रेशन कर रहे थे, तभी ये हादसा हुआ था। दो बेटे करते हैं दुकान में काम...

    - आशीष के पिता शिबजी प्रसाद ने बताया कि आशीष खामोश रहने वाला था। मेघालय में भी उसकी किसी ने शिकायत नहीं की, पता नहीं ऐसा कैसे हो गया।
    - आशीष की पढ़ाई के लिए उसने कर्ज भी ले रखा था, लेकिन अब सब कुछ सपना बनकर रह गया।
    - उसके 4 बेटे तथा 1 बेटी है। आशीष से छोटा भाई और बहन स्कूल में पढ़ते हैं, जबकि दो बेटे उसके साथ बर्तन की दुकान में काम करते हैं।
    - मौत की खबर के बाद गुवाहाटी से फ्लाइट से दिल्ली और टैक्सी फगवाड़ा पहुंचा। बॉडी ले जाना मुश्किल होने के कारण संस्कार फगवाड़ा में ही कर दिया गया। उसके पार्थिव शरीर को भाई मुकेश ने अग्नि दी।

    बाथरूमों में जाकर बचाई जान
    - इस बीच पुलिस ने हत्या में शामिल दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर दो दिनों का रिमांड हासिल किया, जबकि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।
    - पुलिस दी शिकायत में अमन कुमार ने बताया था कि वो अपने मित्रों विवेक कुमार पांडे, आकाश श्रीवास्तव, सौरव कुमार, रजत चौबे के साथ आशीष प्रसाद निवासी मेघालय के पीजी पर ऋषभ का जन्मदिन सेलीब्रेट कर रहे थे। इस बीच सामने वाले मकान में रहने वालों ने घर पर पत्थरों से ताबड़तोड़ हमला कर दिया।
    - उनमें से 4 युवकों ने कमरों व बाथरूमों में जाकर जान बचाई। उन लोगों ने घर में दाखिल होकर बेस बैट, लकड़ी के दस्तों से आशीष और उस पर हमला कर जख्मी कर दिया।
    - वो आशीष को मोटरसाइकिल से हॉस्पिटल ले गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

    आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    विलाप करती हुई मां।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    मां का रो-रोकर बुरा हाल था।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    कमरे के कांच फूटे हुए।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    कमरे में मिला पार्टी का सामान।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    पुलिस जानकारी लेते हुए।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    सभी स्टूडेंट पीजी पर फ्रेंड का जन्मदिन सेलीब्रेट कर रहे थे।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    पिता जानकारी देते हुए।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    4 युवकों ने कमरों व बाथरूमों में जाकर जान बचाई थी।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    शुरू में तो छात्र यह समझ ही नहीं सके कि तोड़फोड़ और पत्थरबाजी कौन और क्यों कर रहा है।
  • कर्ज लेकर को भेजा था पढ़ने, फिर इस कारण देना पड़ा अपने बेटे की अर्थी को कंधा
    +10और स्लाइड देखें
    दोनों आरोपी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jalandhar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Engineer Student Killed In Tiff Over Birthday Party
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jalandhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×