--Advertisement--

बेटे के मौत के बाद छलका पिता का दर्द, कहा- बहू को खर्च देने में नहीं थी दिक्कत

बेटे की चिता को मुखाग्नि देकर लौटे पिता शादी लाल बोले- बहू ने कोर्ट में खर्च का केस फाइल किया हुआ था।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 05:23 AM IST
शादी लाल शादी लाल

जालंधर. भार्गव कैंप में खुदकुशी करने वाले दीपक का मंगलवार दोपहर अंतिम संस्कार कर दिया गया। बेटे की चिता को मुखाग्नि देकर लौटे पिता शादी लाल बोले- बहू ने कोर्ट में खर्च का केस फाइल किया हुआ था। मासिक 2500 रुपये देना तय हुआ था। केस अभी शुरुआती दौर में था। ऐसा नहीं है कि हम 40-50 हजार खर्च नहीं दे सकते थे।

बेटा चाहता था कि पत्नी घर आ आए। कोर्ट कचहरी के चक्कर में 9 साल के पोते को मां का प्यार कैसे मिलेगा? रुंधे गले से शादी लाल बोले, रिश्तेदार तो घर बसाते हैं पर बहू का जीजा रेशम पता नहीं किस मिट्टी का बना है। उसने बेटे का घर बसने ही नहीं दिया। बलजिंदर और उसका जीजा रेशम लाल फरार है। एसएचओ जीवन सिंह ने कहा कि दोनों की तलाश में रेड पार्टियां भेजी गई हैं।
दीपक के पिता ने बताया कि कोर्ट के आदेश के मुताबिक करीब 50 हजार रुपये बहू को देने थे। दीपक को बस यही चिंता थी कि 9 साल के बेटे नवरत्न को मां का प्यार कैसे मिलेगा? बहू ने तीन साल पहले दसूहा में डीएसपी दहिया को मारपीट और दहेज प्रताड़ना की शिकायत दी थी। इसमें पुलिस ने हमें क्लीनचिट दी थी।

बलजिंदर को दीपक का सांढू ट्रैवल एजेंट रेशम लाल भड़काता था। वह मायके परिवार में ही रहता था। वह कहता था कि तुम दोनों विदेश में सेटल हो जाओ। उसने दीपक से 40 हजार रुपये लिए थे। दीपक का पासपोर्ट उसी के पास है। तीन साल पहले बेटे ने विदेश जाने के लिए दिल्ली में मेडिकल करवाया पर टीबी के कारण क्लियर नहीं हुआ था। तभी बलजिंदर को लगने लगा कि दीपक का कोई फ्यूचर नहीं है।