--Advertisement--

इलेक्शन की तैयारी के लिए स्कूलों में आज हाफ डे, सात स्कूल-काॅलेजों में रहेगी छुट्टी

आप कांग्रेस सरकार के दबाव में है। ऐसी सूरत में हमें न्याय नहीं मिल सकता।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 06:10 AM IST

जालंधर. एमसी चुनाव से एक दिन पहले शनिवार दोपहर बीजेपी कंपनी बाग से लेकर पुलिस कमिश्नर दफ्तर तक रोष रैली निकालेगी। इस रोष रैली में केस में आरोपी बनाए गए 14 बीजेपी नेता भाग ले रहा है। जिला प्रधान रमेश शर्मा, अमित तनेजा और शीतल अंगुराल ने कहा कि इस बात फोन पर डीसी और सीपी को बता दिया है कि आप कांग्रेस सरकार के दबाव में है। ऐसी सूरत में हमें न्याय नहीं मिल सकता।

हम इसीलिए रोष रैली निकाल रहे हैं। पुलिस चाहे तो गिरफ्तार कर ले। उन पर पुलिस ने कांग्रेस दबाव में केस बनाया है। उन्होंने कहा सरकार धक्का कर एमसी चुनाव जीतना चाहती है। उन्होंने कहा कि पुलिस की धक्केशाही को लेकर उनकी पार्टी के वर्कर और नेता कंपनी बाग चौक में दोपहर एक बजे इकट्ठा होकर सीपी दफ्तर से रोष रैली निकालेगी।

उधर, बीजेपी के लीगल सेल के एडवोकेट राजकुमार भल्ला, अनुज मेहता, मेजर जसवंत सिंह, हर्ष वर्धन कोहली, गुरमेल सिंह लिदड़ और निखिल शर्मा ने रोष रैली को लेकर डीसीपी राजिंदर सिंह और एडीसी को सूचना देकर आए हैं। बता दें कि नगर निगम के वार्ड नंबर 78 से कांग्रेस कैंडिडेट जगदीश समराय और बीजेपी कैंडिडेट रवि महेंद्रू में मंगलवार को झगड़े को लेकर बीजेपी ने थाना बस्ती बावा खेल का घेराव कर नारेबाजी की थी। पुलिस ने एएसआई महिंदर सिंह की शिकायत पर पूर्व कैबिनेट मंत्री चूनी लाल भगत के बेटे महिंदर भगत, बीजेपी के जिला प्रधान रमेश शर्मा, रोबिन सांपला, शीतल अंगुराल, अमित तनेजा, प्रदीप खुल्लर, बीजेपी कैंडिडेट रवि महेंद्रू और वार्ड नंबर-43 की कैंडिडेट शारदा शर्मा के पति कमल शर्मा, वार्ड नंबर 74 की कैंडिडेट कविता सेठ के पति सौरभ सेठ और वार्ड नंबर 77 की कैंडिडेट श्वेता धीर के पति विनीत धीर, मुकेश महेंद्रू, आशु महेंद्रू, अजय जस्सी, रमन समेत 44 के खिलाफ केस दर्ज किया था।

बीजेपी नेता शीतल अंगुराल और सौरभ सेठ की शिकायत पर एससी कमिशन ने रीजनल डाॅयरेक्टर राजकुमार ने शुक्रवार को पुलिस कमिश्नर को समन जारी कर जवाब मांगा है। अंगुराल और सेठ का आरोप था कि मंगलवार को विवाद को लेकर वह दोनों थाना बस्ती बावा खेल में शिकायत लेकर गए थे। यहां पर एसीपी और एसएचओ ने उनकी शिकायत नहीं ली और जातिसूचक शब्द कहते हुए उन्हें बुरा-भला कहा।