--Advertisement--

डॉक्टर की जगह हॉस्पिटल के स्टॉफ ने लगाया इंजेक्शन, हालत बिगड़ी फिर बिगड़ा बात

महिला का कहना था कि उस दौरान काफी खून निकल रहा था।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 05:55 AM IST
जख्मी जसविंदर कौर। जख्मी जसविंदर कौर।

गुरदासपुर. एक प्राइवेट आंखों के अस्पताल में उस समय भारी हंगामा हो गया जब वहां एक महिला ने बताया कि उसका ऑपरेशन होने से पहले डाक्टर की जगह किसी अन्य कर्मी ने दर्द रोकने के लिए गलत इंजेक्शन लगा दिया। इसके बावजूद आधा घंटा देरी से पहुंचे डॉक्टर ने भी लापरवाही करते हुए यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि ‘कोई बात नहीं आपरेशन के बाद ठीक हो जाएगा’। जबकि महिला का कहना था कि उस दौरान काफी खून निकल रहा था।

शोर-शराबा होने के बाद डॉक्टर वहां पर पहुंचा

बटाला रोड स्थित इंप्रूवमेंट ट्रस्ट कॉलोनी के रहने वाले जगमिंदरपाल सिंह ने बताया कि उसकी पत्नी जसविंदर कौर की बाईं आंख के नीचे एक मोका था। उसे निकलवाने के लिए बीएसएफ रोड स्थित अरोड़ा अस्पताल में डॉ. राजन अरोड़ा से संपर्क किया गया।

डॉ. अरोड़ा ने कहा कि इसे हटाने के लिए ऑपरेशन करना पड़ेगा। इसके बाद मंगलवार शाम को जब वह ऑपरेशन करवाने पहुंचे तो डाक्टर की जगह किसी अन्य कर्मी ने जसविंदर कौर की आंख के नीचे इंजेक्शन लगाया। इंजेक्शन के साथ ही मोका बाहर गया तथा खून निकलने लगा। इस घटना के आधे घंटे बाद भी डॉक्टर वहां पर नहीं आया। काफी शोर-शराबा होने के बाद डॉक्टर वहां पर पहुंचा तथा इलाज शुरू किया।

डॉ. राजन अरोड़ा ने बताया कि महिला की आंख पर मोका था। अस्पताल के लैब टेक्नीशियन संदीप सिंह ने इंजेक्शन लगाया था जिससे खून निकलने लगा। हालांकि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। ऑपरेशन करके सब ठीक हो जाएगा।