जालंधर

--Advertisement--

FB पर की महिला से की दोस्ती, पाकिस्तान से शादी में आया इंडिया और की लव-मैरिज

ISI का मकसद उसके जासूस को भारत की सिटिजनशिप दिलाना है, ताकि उस पर शक नहीं हो।

Danik Bhaskar

Dec 20, 2017, 02:56 AM IST

जालंधर. आर्मी एरिया से करीब 3 किलोमीटर की दूर अलीपुर कॉलोनी में नई कोठी बनाकर दूसरी बीवी बलविंदर कौर के साथ रह रहे एक पाकिस्तानी को अरेस्ट किया था। स्पेशल ब्रांच के एसीपी मनप्रीत सिंह ढिल्लों ने 11 अक्टूबर को पाकिस्तानी नागरिक एहसान-उल-हक (57) को अरेस्ट किया था। वह ऑस्ट्रिया का सिटीजन था और पाकिस्तान के टोबा टेक सिंह के गांव सरजा का रहने वाला है। उससे पैन कार्ड और आधार कार्ड भी मिला था। वह दीप नगर में किराये के मकान में रह रहा था।


ऐसे हुई दोस्ती फिर की शादी
कई जांच एजेंसियां एहसान से पूछताछ कर चुकी हैं पर उसकी जुबान नहीं खुलवा सकीं। उसकी बेल रिजेक्ट हो चुकी है और वह जेल में बंद है। वीजा देते समय अंबेसी ने उसे कहा था कि वह कैंट एरिया में नहीं जाएगा। एहसान की दोस्ती 2011 में मुकंदपुर (बंगा) की रहने वाली बलविंदर कौर से फेसबुक पर हुई थी। बीकॉम पास एहसान ने माना था कि सलेमपुर मसंदा में रहने वाले हरबंस लाल से उसकी दोस्ती ऑस्ट्रिया में हुई थी। वह 2012 में हरबंस लाल की शादी में उसके गांव आया था और 19 जुलाई, 2012 को गांव कोट कलां स्थित गुरुद्वारा साहिब में उसने 30 साल की बलविंदर कौर से मैरिज की थी। पहले हुई जांच के मुताबिक जिस तरह आरोपी आर्मी एरिया के पास रह रहा था, उससे आशंका थी कि वह खुफिया जानकारी जुटाने के लिए बेस बना रहा था और आरोपी पाक आर्मी का स्लीपर सेल हो सकता है।

मैरिज सर्टिफिकेट बनाते समय पाकिस्तानी पति की नहीं दी जानकारी
एहसान चौथी बार 5 मई 2016 को पाक से इंडिया आया। यहां पर उसने बलविंदर कौर की मदद से आधार कार्ड बनवाया। उसने खुद को गांव सलेमपुर मसंदा का निवासी बताया। आधार कार्ड बनाने वाले टेक चंद को पकड़ लिया था। उसी ने पैन कार्ड बनाने में सहयोग किया था।

बलविंदर कौर ने बंगा में बलविंदर कौर और एहसान-उल-हक के नाम पर मैरिज रजिस्टर करवाने के लिए 10 सितंबर 2015 को एप्लीकेशन दी। उसने एहसान को गांव सलेमपुर मसंदा का निवासी बताया। 23 जून 2016 को मैरिज सटिर्फिकेट बन कर जारी हुआ।

मैरिज सर्टिफिकेट, आधार और पैन कार्ड बनने पर एहसान ने दोस्त हरबंस की मां प्यारी की करीब 4 मरले की जमीन अलीपुर कॉलोनी में 11 जुलाई 2016 को खरीद कर नया घर बनवाना शुरू कर दिया। नया घर बन चुका था। एहसान 13 सितंबर को इंडिया आया। उसने 29 नवंबर को लौटना था, मगर वह पकड़ा गया। एसीपी सुरिंदर पाल धोगड़ी का कहना है कि बलविंदर कौर के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले हैं।

ऑस्ट्रिया में भी 60 साल की महिला से की थी शादी
मैं 1996 में सऊदी अरब गया था। यहां पर 10 साल तक काम किया। फिर 2006 में वियना, ऑस्ट्रिया गया। वहां नागरिकता के लिए मैंने 46 साल की उम्र में 60 साल की महिला से शादी की। वहां अस्पताल में वार्डबॉय का काम किया था। 2011 काे मेरी फेसबुक के जरिए नवांशहर के गांव मुकंदपुर की बलविंदर कौर से दोस्ती हो गई। इसके बाद मैंने ऑस्ट्रिया में ही पंजाब के हरबंस लाल से दोस्ती की और फिर 2012 में हरबंस की शादी में शामिल होने के लिए जालंधर के गांव सलेमपुर मसंदा आया। यहां मैंने बलविंदर कौर को देखा। फिर हमने कोट कलां में शादी कर ली। बलविंदर की भी सेकंड मैरिज थी। बलविंदर का दुबई में रह रहे शख्स से तलाक हो चुका था। बलविंदर को वह अपने साथ कुछ दिन के लिए पाकिस्तान भी लेकर गया था। इसके बाद उसका इंडिया में आना-जाना शुरू हो गया। इंडिया में आकर अपने दोस्त हरबंस के घर रुका भी था। - पूछताछ में जैसा हक ने बताया था

Click to listen..