--Advertisement--

ये हैं आजाद हिंद फौज के पूर्व सिपाही, बताया- नेताजी इन सैनिकों के साथ खाते थे खाना

गांव ढाहे के फौजा सिंह 24 साल की उम्र में हो गए थे भर्ती, आज भी अंग्रेजी अखबार पढ़ते हैं।

Dainik Bhaskar

Jan 26, 2018, 03:03 AM IST
100 साल के फौजा आज भी खुद बांधते हैं पगड़ी 100 साल के फौजा आज भी खुद बांधते हैं पगड़ी

जालंधर. मैं 1918 में गांव ढाहे में पैदा हुआ। मेरे पिता वतन सिंह फौजी थे। उनके बाद में 24 साल की उम्र में आजाद हिंद फौज में भर्ती हो गया। जब पहली बार नेताजी को मिला तो उनका चेहरे पर इतना जलाल था कि देखा नहीं जा रहा था। उस समय फौज में नियम था कि जो भी फौजी उम्र तथा पद में सबसे छोटा होगा, उसके साथ नेताजी चाय पिएंगे और खाना भी खाएंगे। मैंने भी उनके साथ चाय पी और खाना खाया है।

सिंगापुर में उनके साथ जेल भी काटी। उस वक्त खाने के लिए चावल तथा पतली दाल मिलती थी। मैंने 5वीं हिमाचल प्रदेश के संतोषगढ़, 8 वीं गांव दसग्राईं और 10वीं श्री आनंदपुर साहिब के खालसा स्कूल करके वजीफा भी लिया। चौथी में मैंने अपने अनपढ़ चाचा को पाठ करना भी सिखाया। श्री आनंदपुर साहिब के स्कूल के बोर्ड पर आज भी मेरा नाम लिखा है। यही नहीं इस स्कूल में मैं अध्यापक भी रहा। आज भी सुबह नहाकर खुद पगड़ी बांधकर पाठ करता हूं। वहीं अंग्रेजी, पंजाबी तथा उर्दू का अखबार पढ़ लेता हूं।

17 साल से अमेरिका में रह रही बेटी राजिंदर कौर तथा दामाद जसविंदर सिंह ने बताया कि तीन साल पहले वे अमेरिका से आकर पिता की देखरेख कर रहे हैं। कुछ साल पहले तक तो सरकार 15 अगस्त तथा 26 जनवरी के अवसर पर जिला स्तरीय कार्यक्रम में बुलाकर उन्हें सम्मानित करती थी पर कुछ सालों से सेहत ठीक न रहने के कारण वे नहीं जा पा रहे हैं और तब से प्रशासनिक अधिकारी उन्हें घर आकर उनका मान-सम्मान दे जाते हैं। यही नहीं पिता जी ने वहीं गांव के नजदीक गुरुद्वारा भांतपुर साहिब के निर्माण में भी योगदान दिया।

इंदिरा गांधी से 1972 में 15 अगस्त को मिला था ताम्र पत्र

उनकी बेटी ने बताया कि 1972 में ही पिता जी को 200 रुपए मासिक पेंशन मिलनी शुरू हुई थी। वहीं इसके साथ राज्य सरकार ने भी मानभत्ता देना शुरू किया। उस साल में ही 15 अगस्त के दिन स्वयं उस समय की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हें देश के आजादी के पच्चीसवें साल पर ताम्र पत्र भी दिया था। उन्होंने बताया कि पिता जी ने पौंग डैम और भाखड़ा डैम में भी काम किया हुआ है। तब वह नंगल में बीबीएमबी की कॉलोनी के एल ब्लाक में रहते थे और उस वक्त उन्होंने कई युवाओं को नौकरी पर भी रखवाया था।

5 स्वतंत्रता सेनानी और 15 वीरांगनाएं होंगी सम्मानित

रोपड़ से महिंदर कौर, गुरदेव कौर, राज रानी, स्वर्ण कौर, महिंदर कौर, ऊषा, प्रीतम कौर, सुरजीत कौर, बिमला देवी, राज कौर, महिंदर कौर, बिमला रानी, गुरचरण कौर, प्रीतम कौर, महिंदर कौर और तहसील आनंदपुर साहिब से अर्जन सिंह, प्रीतम सिंह, तुलसी राम, जीत सिंह और रत्न सिंह सम्मानित होंगे।

आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

मिला ताम्र पत्र। मिला ताम्र पत्र।
इंदिरा गांधी से 1972 में 15 अगस्त को मिला था ताम्र पत्र इंदिरा गांधी से 1972 में 15 अगस्त को मिला था ताम्र पत्र
नेताजी की फैमिली नेताजी की फैमिली
X
100 साल के फौजा आज भी खुद बांधते हैं पगड़ी100 साल के फौजा आज भी खुद बांधते हैं पगड़ी
मिला ताम्र पत्र।मिला ताम्र पत्र।
इंदिरा गांधी से 1972 में 15 अगस्त को मिला था ताम्र पत्रइंदिरा गांधी से 1972 में 15 अगस्त को मिला था ताम्र पत्र
नेताजी की फैमिलीनेताजी की फैमिली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..