जालंधर

--Advertisement--

ट्रेन के सामने अचानक सांड आने से ट्रेन पटरी से उतरी, फंस गया था पहियों में

स्पीड ज्यादा होती तो पलट जाती ट्रेन

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2018, 04:29 AM IST
पटरी से उतरा डिब्बा। पटरी से उतरा डिब्बा।

जालंधर. फिरोजपुर-जालंधर डीएमयू (74940) ट्रेन शीतल नगर के पास सांड से टकरा कर पटरी से उतर गई। हादसा शीतल नगर की पुली पर रात 10:05 बजे हुआ। हादसे में ट्रेन पुली से गिरने से बच गई। जहां एक्सीडेंट हुआ वहां ट्रैक मुड़ता है। सांड पटरी पर था और करीब 50 मीटर दूरी से ट्रेन ड्राइवर ने सांड को देख लिया। घटना के बाद रात करीब 1.30 बजे तक रेलवे स्टाफ डिरेल हुई डीएमयू को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा था। काफी देर तक मुसाफिर इंतजार करते रहे लेकिन बाद में उन्होंने अन्य माध्यमों से मंजिल की तरफ रवाना होने का मन बना लिया। लोग सामान लेकर सड़क तक आ गए और आटो वालों ने उनसे मुंहमांगे दाम वसूले।


- ट्रेन रुकने से पहले सांड ट्रेन की चपेट में आ गया। डीएमयू की तीन बोगियां थीं और बीच वाली बोगी के दो पहिए पटरी से उतर गए।

- डीएमयू के पहियों में सांड फंस गया और करीब 35 मीटर तक घिसटता चला गया। रात दो बजे तक रेलवे की टीम काम में जुटी रही।

स्पीड ज्यादा होती तो पलट जाती ट्रेन

- ट्रेन का पहिया ठीक पुली के ऊपर उतरा। गाड़ी की स्पीड ज्यादा नहीं थी क्योंकि हादसे वाली जगह पर ट्रैक मुड़ता है।

- अगर स्पीड ज्यादा होती तो ट्रेन पलट भी सकती थी। ड्राइवर की सूझबूझ से ट्रेन में सवार करीब सौ लोग बाल-बाल बच गए।

रात दो बजे तक जारी था ऑपरेशन

- डीएमयू के ड्राइवर उमेश ने बताया कि उन्होंने करीब 50 मीटर पहले ही सांड देख लिया था और लगातार हार्न बजाया।

- इमरजेंसी ब्रेक भी लगाई लेकिन सांड नहीं हटा और टक्कर के बाद करीब 35 मीटर दूर जाकर डीएमयू रुका ।

- एक्सीडेंट की सूचना रेलवे स्टेशन पर दी और मदद के लिए आरटीए टीम को बुलाया था। रात 11 बजे तक आरटीए टीम नहीं पहुंची थी।

- टीम ने ही सांड को ट्रेन के नीचे से निकाल कर पहियों को दोबारा पटरी पर चढ़ाना था।

- ड्राइवर उमेश ने कहा कि इसमें काफी समय लग सकता है क्योंकि डीएमयू की बीच वाली बोगी पटरी से उतरी है।

आवारा पशुओं से खतरा
- एक्सीडेंट मकसूदां सब्जी मंडी से कुछ दूरी पर ही हुआ है। मंडी के आसपास आवारा पशुओं की गिनती काफी ज्यादा है।

- सड़कों पर आवारा पशुओं के कारण कई बार एक्सीडेंट हो चुके हैं। पशुओं को रखने का इंतजाम न होने के कारण मंडी के आसपास सैकडों पशु हैं। यह भविष्य में भी खतरनाक साबित हो सकते हैं।

पटरी से उतरे डिब्बे का पहिया। पटरी से उतरे डिब्बे का पहिया।
लोग सामान लेकर सड़क तक आ गए और आटो वालों ने उनसे मुंहमांगे दाम वसूले। लोग सामान लेकर सड़क तक आ गए और आटो वालों ने उनसे मुंहमांगे दाम वसूले।
काफी देर तक मुसाफिर इंतजार करते रहे लेकिन बाद में उन्होंने अन्य माध्यमों से मंजिल की तरफ रवाना होने का मन बना लिया। काफी देर तक मुसाफिर इंतजार करते रहे लेकिन बाद में उन्होंने अन्य माध्यमों से मंजिल की तरफ रवाना होने का मन बना लिया।
ट्रेन के नीचे फैला खून ट्रेन के नीचे फैला खून
घटना के बाद रात करीब 1.30 बजे तक रेलवे स्टाफ डिरेल हुई डीएमयू को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा था। घटना के बाद रात करीब 1.30 बजे तक रेलवे स्टाफ डिरेल हुई डीएमयू को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा था।
Train derailed by bull hitting
X
पटरी से उतरा डिब्बा।पटरी से उतरा डिब्बा।
पटरी से उतरे डिब्बे का पहिया।पटरी से उतरे डिब्बे का पहिया।
लोग सामान लेकर सड़क तक आ गए और आटो वालों ने उनसे मुंहमांगे दाम वसूले।लोग सामान लेकर सड़क तक आ गए और आटो वालों ने उनसे मुंहमांगे दाम वसूले।
काफी देर तक मुसाफिर इंतजार करते रहे लेकिन बाद में उन्होंने अन्य माध्यमों से मंजिल की तरफ रवाना होने का मन बना लिया।काफी देर तक मुसाफिर इंतजार करते रहे लेकिन बाद में उन्होंने अन्य माध्यमों से मंजिल की तरफ रवाना होने का मन बना लिया।
ट्रेन के नीचे फैला खूनट्रेन के नीचे फैला खून
घटना के बाद रात करीब 1.30 बजे तक रेलवे स्टाफ डिरेल हुई डीएमयू को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा था।घटना के बाद रात करीब 1.30 बजे तक रेलवे स्टाफ डिरेल हुई डीएमयू को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहा था।
Train derailed by bull hitting
Click to listen..