• Home
  • Punjab
  • Jalandhar
  • दूध बढ़ाने के लिए 100 किलो पशु खुराक तैयार करने का तरीका
--Advertisement--

दूध बढ़ाने के लिए 100 किलो पशु खुराक तैयार करने का तरीका

जालंधर| ज्यादातर पशुपालक अपने पशुओं को भरपूर पोषण नहीं देते हैं। ऐसे में पशुओं का शारीरिक विकास तो रुकता ही है साथ...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:30 AM IST
जालंधर| ज्यादातर पशुपालक अपने पशुओं को भरपूर पोषण नहीं देते हैं। ऐसे में पशुओं का शारीरिक विकास तो रुकता ही है साथ में रोग प्रतिरोधी क्षमता भी कम होती है। इसलिए पशुपालकों को पशु आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि पशु स्वस्थ रहें और दूध उत्पादन प्रभावित न हो। संतुलित आहार पशुओं के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि यही दूध उत्पादन की क्षमता को बढ़ाता है। पशुपालक के पास जो उपलब्ध होता है वो ही खिला दे, ऐसा बिल्कुल न करें।

पशुओं में व्यस्क पशु, गाभिन पशु और बच्चे को आहार देने की मात्रा अलग-अलग होती है। पशुपालक उस पर भी ध्यान नहीं देते हैं। डॉ पुतान सिंह के अनुसार पशुपालक दाना, खली, चोकर, खनिज लवण मिलाकर संतुलित आहार तैयार करके पशु को प्रतिदिन दें तो दूध में 20% बढ़ोत्तरी होती है।

सौ किलो संतुलित दाना बनाने की विधि...दाना (मक्का, जौ, गेंहू, बाजरा) इसकी मात्रा लगभग 35 प्रतिशत होनी चाहिए। चाहे बताए गए दाने मिलाकर 35 प्रतिशत हों या अकेला कोई एक प्रकार का दाना हो तो भी खुराक का 35 प्रतिशत दें। खली (सरसों की खल, मूंगफली की खल, बिनौला की खल, अलसी की खल) की मात्रा लगभग 32 किलो होनी चाहिए। इनमें से कोई एक खली को दाने में मिला सकते हैं। चोकर (गेंहू का चोकर, चना की चूरी, दालों की चूरी, राइस ब्रॉन) की मात्रा लगभग 35 किलो। खनिज लवण की मात्रा लगभग 2 किलो, नमक लगभग 1 किलो, इन सभी को लिखी हुई मात्रा के अनुसार मिलाकर को पशु को खिला सकते हैं।

दाना मिश्रण के गुण और लाभ...गाय-भैंस अधिक समय तक दूध देते हैं। पशुओं को स्वादिष्ट लगता है। बहुत जल्दी पच जाता है। खल, बिनौला या चने से सस्ता पड़ता है।