Hindi News »Punjab »Jalandhar» Cash Van Looted In Bhogpur

राजस्थान में मौसा के घर छिपा 1.18 करोड़ की लूट का मास्टरमाइंड अरेस्ट

1.18 करोड़ रुपये लूटने के मास्टरमाइंड सतिंदर पाल सिंह हैप्पी और उसके दो साथी पुलिस ने राजस्थान से पकड़ लिए हैं।

bhaskar news | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:42 AM IST

राजस्थान में मौसा के घर छिपा 1.18 करोड़ की लूट का मास्टरमाइंड अरेस्ट
जालंधर.भोगपुर के गांव मानक राय में 10 नवंबर को बैंक की कैश वैन से 1.18 करोड़ रुपये लूटने के मास्टरमाइंड सतिंदर पाल सिंह हैप्पी और उसके दो साथी पुलिस ने राजस्थान से पकड़ लिए हैं। उनसे 50 लाख से ज्यादा का कैश भी बरामद हुआ है।

हैप्पी पुलिस से बचने के लिए दो दिन पहले ही राजस्थान के बूंदी में रहते मौसा दलबीर सिंह के घर गया था। यहां पुलिस ने ट्रैप लगाकर उसे दबाेच लिया। हैप्पी के एक अन्य साथी सुखविंदर सिंह निम्मा के यूपी के जिला लखीमपुर में होने की जानकारी मिलने पर पुलिस रेड कर रही है। हैप्पी, उसके साथी सुखदेव सिंह सोनू और एक अन्य साथी को पकड़ने की पुष्टि कोई नहीं कर रहा मगर एक अधिकारी ने इतना जरूर कहा कि पुलिस के हाथ सफलता लगी है। मंगलवार को आईजी खुलासा कर देंगे। इससे पहले पुलिस ने केस में आरोपी रंजीत सिंह और निम्मा के साले जसकरन सिंह को अरेस्ट किया था। जसकरन से पुलिस उसकी निशानदेही पर 13.38 लाख रुपये बरामद कर चुकी है।
निम्मा के पास जख्मी रंजीत के हिस्से के 16 लाख रु.
लूटकांड में पकड़े गए गुरदासपुर के गांव हरचोवाल के जसकरन सिंह उर्फ बाऊ ने माना था कि कपूरथला के गांव लखण खोले का रंजीत सिंह कार लेकर निकल गया था। वह और उसकी गैंग के छह लोग तीन बाइक पर भागे थे। रंजीत बताई गई जगह पर नहीं आया था। हैप्पी ने अंदाज से ही सब को पैसे बांटे थे। हम सभी के हिस्से में 16-16 लाख रुपये आने थे। जसकरन ने माना था कि गांव लखण खोले में रहते उसके जीजा सुखविंदर सिंह निम्मा का रंजीत सिंह परिचित था। इसलिए जीजा को ही हैप्पी ने रंजीत के हिस्से के 16 लाख रुपये दिए थे। जीजा कुल 32 लाख रुपये लेकर निकला था। जीजा ने जाते समय उसे ऑफर किया था कि वह उसके साथ यूपी के लखीमपुर में चले। यहां पर उसका दादा खेती करते हैं। जसकरन ने कहा कि उसके बाद जीजा कहां गया, उसे कुछ भी पता नहीं।
पुलिस ने सर्विलेंस पर लगाया था हैप्पी के मौसा का मोबाइल
पुलिस ने हैप्पी के गांव नडाला में उसकी रिश्तेदारी की डिटेल लेकर रेड करवाई थी मगर वह नहीं मिला था। पता चला कि हैप्पी की मौसी राजस्थान के बूंदी में ब्याही है। पुलिस ने हैप्पी के मौसा दलबीर सिंह का मोबाइल सर्विलेंस पर लगाया था। सीआईए स्टाफ ने राजस्थान से ही हैप्पी और उसके दो साथी पकड़े हैं। इनसे 50 लाख रुपये से ज्यादा रुपये मिले हैं।
जसकरण को छोड़कर कपूरथला के हैं सभी आरोपी
लूटकांड में पुलिस ने गांव चीमा के पास एनकाउंटर में वैन के आगे कार लगाकर रोकने वाले ड्राइवर रंजीत सिंह को पकड़ लिया था। रंजीत की कमर में तीन गोलियां लगी थीं। आईजी शुक्ला ने डीआईजी जसकरन सिंह की सुपरविजन में एसएसपी (कपूरथला) संदीप शर्मा और एसएसपी (जालंधर) गुरप्रीत सिंह को जांच में इन्वॉल्व किया था। कपूरथला पुलिस के सीआईए इंचार्ज जतिंदर जीत सिंह की टीम को हैप्पी को पकड़ने की जिम्मेदारी दी थी। आरोपी जसकरन को छोड़ सभी लुटेरे कपूरथला के रहने वाले थे।
गोपी को छोड़ कर किसी का क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं
लूटकांड के आरोपी गोपी को छोड़कर किसी युवक को कोई क्रिमिनल रिकाॅर्ड नहीं मिला है। लुटेरे अपने मकसद में सफल हो चुके थे मगर हाई अलर्ट के कारण रंजीत कार लेकर करतारपुर आ गया। यहां पर पुलिस नाका तोड़ कर भाग निकला था। पुलिस उसके पीछे लग गई तो उसने देसी कट्टे से पीछा कर रही पुलिस पार्टी पर फायरिंग कर दी थी। रंजीत की कमर में तीन गोलियां लगी थी। पुलिस ने उसे अस्पताल ले जा उसकी जान बचाई।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jalandhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×