Hindi News »Punjab »Jalandhar» Children Ate Playing Pills Falling Out Of Anganwadi While Playing

खेलते वक्त बच्चों ने आंगनबाड़ी के बाहर गिरी गोलियां खाईं, 1 की मौत दूसरा सीरियस

गांव की आंगनबाड़ी सेंटर के नजदीकी गिरी पड़ी गोलियां खाया जाना बताया जा रहा है।

bhaskar news | Last Modified - Nov 11, 2017, 04:50 AM IST

  • खेलते वक्त बच्चों ने आंगनबाड़ी के बाहर गिरी गोलियां खाईं, 1 की मौत दूसरा सीरियस
    मुक्तसर(जालंधर). नजदीकी गांव चौंतरा में 6 साल के बच्चे गुरविंदर सिंह की कोई जहरीली वस्तु निगलने से मौत हो गई। मौत का कारण बच्चे की तरफ से गांव की आंगनबाड़ी सेंटर के नजदीकी गिरी पड़ी गोलियां खाया जाना बताया जा रहा है। यह स्पष्ट नहीं है कि यह गोलियां नशे की थीं या ऑयरन कीं।
    सूत्रों के अनुसार आंगनबाड़ी सेंटर में बच्चों को ऑयरन की गोलियां दी जाती हैं। आंगनबाड़ी वर्करों आैर बच्चों की लापरवाही के कारण कई बार गोलियां वहां गिर जाती हैं। इसके साथ ही यह भी शंका जताई जा रही है आंगनबाड़ी सेंटर वाली धर्मशाला के पास अकसर कई लोग नशा करते हैं। इसलिए बच्चों ने वहां गिरी नशे की गोलियां खा ली हों जिससे उनकी तबीयत बिगड़ गई हो। गुरविंदर का साथी 4 वर्षीय एकम जो अभी खतरे से बाहर है ने बताया कि उन्होंने
    टॉफियां समझकर धर्मशाला में गिरी पड़ी
    गोलियां खाई थीं। प्राप्त जानकारी के अनुसार इन दोनों बच्चों के घर धर्मशाला के नजदीक हैं। इससे खेलते-खेलते यह अकसर वहां चलते जाते हैं। मंगलवार को भी यह बच्चे खेलते धर्मशाला में बने आंगनबाड़ी सेंटर में चले गए थे। इसके बाद अचानक दोनों की हालत बिगड़ गई आैर उल्टी होने लगी। एकम को उसके परिवार वालों तुरंत शहर के डॉक्टर के पास ले गए जहां उपचार मिलने से उसकी जान तो बच गई, परंतु अभी वह खतरे में ही है। जबकि गुरविंदर सिंह की मौत हो गई। गांववासियों ने बताया कि धर्मशाला के आस-पास उन्होंने भी कई बार नशे की गोलियों के पत्ते देखे हैं।
    बच्चों ने जहरीली चीज निगली थी: डॉ. तीर्थ
    गुरविंदरसिंह के दादा ने बताया कि दोनों बच्चे आंगनबाड़ी सेंटर नजदीक खेल रहे थे तो खाने वाली चीज समझकर उन्होंने वहां पड़ी गोलियां निगल लीं। घर आने पर गुरविंदर को उल्टियां होने लगीं तो उसे लेकर अस्पताल गए जहां उसकी मौत हो गई। गांव के डॉक्टर तीर्थ सिंह ने बताया कि इन बच्चों ने कोई जहरीली चीज निगल ली थी, एक बच्चा तो बच गया, परंतु को ज्यादा डोज लेने के कारण नहीं बचाया जा सका। एकम के चाचा चमकौर सिंह ने बताया कि नशे की गोलियों के कारण ही एक बच्चे की मौत हुई है। इस दौरान गांव के सरपंच मंगल सिंह ने बताया कि वह मामले की अपने स्तर पर जांच करवा रहे हैं। धर्मशाला के पास नशेड़ी किस्म के लोग बैठते हैं हो सकता है कि गोलियां नशे की हों या फिर आयरन की भी एक्सपायर गोलियां हो सकती हैं। उन्होंने बच्चे के परिवार वालों के साथ शोक जताया।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jalandhar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×