विडम्बना / मामूली सी गलती के लिए क्लासरूम की बजाय 11 दिन से नारी निकेतन में है 8वीं की छात्रा

a 8th student girl is at Jalandhar Nari Niketan whiel she must be in Her Hostel
X
a 8th student girl is at Jalandhar Nari Niketan whiel she must be in Her Hostel

  • 12 जुलाई की रात हॉस्टल से निकल मुंबई जाने के लिए फिरोजपुर कैंट स्टेशन पर खरीदा टिकट
  • गलत ट्रेन में चढ़ने के बाद जालंधर पहुंची तो आरपीएफ ने कर दिया चाइल्ड लाइन के हवाले
  • अकेली पड़ चुकी मासूम को हॉस्टल में लेने की बजाय रिश्तेदारों को ढूंढने में लगा स्कूल प्रबंधन

दैनिक भास्कर

Jul 23, 2019, 07:41 PM IST

जालंधर. 8वीं में पढ़ने वाली एक लड़की बिना किसी कसूर के पिछले 11 दिन से यहां नारी निकेतन में दिन तोड़ रही है। पता चला है कि उसका पिता लोन में डिफॉल्टर होने के बाद घर से फरार है। मां की मौत हो गई तो दो बहनों को मौसी ले गई। खुद को अकेली पा घर छोड़ने की ठानी। घर तो छूट गया, लेकिन जहां जाने के लिए छोड़ा था, वहां की बजाय नारी निकेतन में पहुंच गई। अब सवाल उठता है कि नारी निकेतन में कैसे पहुंची तो हुआ कुछ यूं कि मुुंबई जाने के लिए निकली छात्रा गलती से दूसरी ट्रेन में चढ़ गई और फिर आरपीएफ ने उसे यहां भेज दिया।

आंचल हटा तो इस तरह आई दिक्कतों के साये में

पीड़ित लड़की की पहचान फिरोजपुर की 13 वर्षीय आंचल के रूप में हुई है, जो आठवीं कक्षा में पढ़ती थी। बीते दिनों उसकी मां की मौत हो गई, जबकि पिता लोन में डिफाॅल्टर होने के कारण घर से फरार हो गया।

इसके बाद तीन में से आंचल की दो बहनों को उसकी मौसी अपने साथ ले गई। आंचल को रिश्तेदारों ने सरकारी सीनियर सेकंडरी स्कूल में दाखिला दिलवाया दिया। वह स्कूल की 1100 में से हॉस्टल में रह रही 150 छात्राओं में से एक थी।

12 जुलाई की रात आंचल अचानक हॉस्टल से कहीं चली गई। स्कूल स्कूल प्रबंधन को साथ रहने वाली लड़कियों ने इसकी शिकायत दी तो काफी तलाशा। पता नहीं चलने पर सदर थाने को सूचित किया।

अगले दिन आंचल के जालंधर में पहुंचने की बात सामने आई। जानकारी मिली है कि आंचल फिरोजपुर कैंट रेलवे स्टेशन पर पहुंची। वहां उसने मुंबई जाने के लिए टिकट खरीदा।

इसके बाद वह गलती से फिरोजपुर-जालंधर डीएमयू ट्रेन में सवार गई। जालंधर पहुंची तो संदिग्ध हालत को देखते हुए आरपीएफ ने चाइल्ड लाइन के हवाले कर दिया।

चाइल्ड लाइन द्वारा अगले दिन सुबह फिरोजपुर के संबंधित स्कूल में संपर्क कर उसे ले जाने के लिए कहा, लेकिन स्कूल प्रशासन उसे हॉस्‍टल ले जाने की जगह उसके रिश्तेदारों को खोज रहा है।

सदर फिरोजपुर थाना प्रभारी गुरविंदर सिंह ने बताया कि 12 जुलाई की रात स्कूल द्वारा सूचना दी गई थी, लेकिन दूसरे दिन सुबह उसके जालंधर में मिलने और परिजनों को सौंपे जाने की बात की गई थी। इसके बाद जांच बंद कर दी गई।

फिरोजपुर शहर के सरकारी कन्या विद्यालय के प्रिंसिपल राजेश मेहता का कहना है कि लड़की को उसके रिश्तेदारों तक पहुंचाने के लिए उनकी खोज कर रहे हैं। फिलहाल आंचल नारी निकेतन जालंधर में है, जैसे ही उसका कोई रिश्तेदार सामने आता है तो उनके सुपुर्द कर देंगे।

उधर डीसी चंद्र गैंद ने कहा कि उन्हें इस घटना की कोई जानकारी नहीं है। कोशिश करेंगे कि जल्द से जल्द आंचल हाॅस्टल में पहुंच पढ़ाई जारी रखे। किसी को शिक्षा के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना