--Advertisement--

3 महीने पहले नदी में डूबे 2 भाइयों की मौत मामले में आया नया मोड़, 40 दिन बाद खुला मोबाइल लॉक, दिखा कुछ ऐसा कि घरवाले बोले- दोनों डूबे नहीं, इन्हें मारा गया है...

पिता बोले- 40 दिन में 4 बार SSP, 6 बार SHO और 8 बार DSP से की शिकायत, पुलिस बुला तो लेती है पर इंसाफ नहीं मिलता।

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:26 PM IST

कपूरथला (पंजाब)। 3 महीने पहले ब्यास नदी में नहाते हुए दो चचेरे भाइयों के डूबने के मामले में नया मोड़ आया है। परिवार ने आरोप लगाए हैं कि उनके बच्चे डूबे नहीं थे बल्कि उनको डुबो कर मारा गया था। मारने वाले भी कोई और नहीं, गांव के ही दो युवक थे। यह दोनों युवक उनके बच्चों को घूमने का कहकर घर से लेकर गए थे लेकिन बाद में ब्यास नदी ले गए। घटना का परिवार को कोई सुराग न मिले, इसलिए दोनों युवकों ने एक मृतक के मोबाइल को लॉक लगाकर फेंक दिया था। मोबाइल का अब लॉक खुला है। मोबाइल में मिली सेल्फी से पता चला है कि वह दोनों अकेले नहीं थे, उनके साथ दो गांव के युवक और भी थे। संदेह है कि इन्हीं ने उनके बच्चों को मारा है।

परिवार वाले बोले- पुलिस बुला तो लेती है पर इंसाफ नहीं मिलता

परिवार को इसका खुलासा हुए 40 दिन हो गए है। परिवार का आरोप है कि वह 40 दिन में 2 बार डीसी, 4 बार एसएसपी, 8 बार डीएसपी और 6 बार एसएचओ को मिलकर शिकायत कर चुके हैं। पुलिस उनको बुला तो लेती है लेकिन इंसाफ नहीं मिला। सोमवार को परिवार सुल्तानपुर लोधी में आए पंजाब के सीएम से मिलना चाहता था लेकिन परिवार पब्लिक बैठक न होने से मिल नहीं पाया। अब परिवार ने पंजाब के सीएम, डीजीपी और मानव अधिकार कमिशन को पत्र भेज कर इंसाफ की गुहार लगाई है।

संदेह था डूबने से हुई दोनों युवकों की मौत

परिवार ने भी माना लिया था सच 15 जून 2018 को गांव अमृतपुर निवासी युवक गुरप्रीत सिंह (18) और उसके चचेरा भाई सवरण सिंह (21) का दोपहर के नदी में नहाते हुए डूबने का मामला सामने आया था। परिवार को घटना की सूचना शाम 7 बजे पता चली। रात 9 बजे पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। घटना समय परिवार को नदी किनारे दोनों की बाइक, कपड़े, 1 मोबाइल और जूते मिले थे। गांव के लोगों को संदेह था कि दोनों युवक गुरप्रीत सिंह और सवरण सिंह नदी में नहाने के लिए गए थे। गहरे पानी में जाने से बह गए। दोनों मृतकों की लाशें 2 दिन बाद 17 जून को नदी में तैरती मिली थी। एक युवक की लाश बुरी तरह जली थी। पुलिस ने माना था कि युवकों की मौत पानी में बहने से हुई है।