--Advertisement--

सेल्फी के लिए 4 दोस्तों ने की थी फायरिंग, गलती से एसएचओ की साली के घर पर जाकर लगीं गोली

ट्रांसपोर्टर, एएसआई, हवलदार और पेट्रोल पंप कर्मी के बेटे ने की थी बीएसएफ कमांडेंट के घर पर फायरिंग।

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 03:47 AM IST
क्राइम सीन के पास सीसीटीवी कैमरे में 12.30 बजे की फुटेज में चाराें लड़के मुंह पर रुमाल बांधे जाते दिखे थे। क्राइम सीन के पास सीसीटीवी कैमरे में 12.30 बजे की फुटेज में चाराें लड़के मुंह पर रुमाल बांधे जाते दिखे थे।

जालंधर. सूर्या एंक्लेव में सोमवार दोपहर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट विपिन शर्मा के घर पर फायरिंग का मामला ट्रेस हो गया है। फायरिंग करने वाले 18 से 19 साल के 4 युवक थे। वे सोशल मीडिया पर रिवाॅल्वर के साथ फोटो अपलोड करना चाहते थे। फायरिंग में हवलदार का लाइसेंसी रिवाल्वर इस्तेमाल हुआ। पुलिस लाइन निवासी युवक के पिता हवलदार तो पीएपी निवासी युवक के पिता एएसआई हैं। जबकि, बाबा दीप सिंह नगर युवक ट्रांसपोर्ट का बेटा है तो चौथे का पिता पेट्रोल पंप पर जॉब करता है।

हवलदार पिता के सामने जुर्म कबूला

आरोपी लड़कों को दूसरे दिन न्यूज से पता चला कि जहां गोलियां लगी हैं। वह घर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट और एसएचओ नवदीप सिंह की साली जेसिका शर्मा का है। इसके बाद लड़के डर गए थे कि पुलिस सीसीटीवी के जरिये उन तक पहुंच जाएगी। इसलिए वे दो दिन तक डर के कारण छिपे रहे। उन्होंने एक साथ फैसला किया कि सारी बात पुलिस को बता देंगे। अब सारी बात पुलिस को कौन और कैसे बताएगा, इसलिए हवलदार के बेटे ने अपने पिता को पूरी बात बताई। पिता ने तुरंत पुलिस को कॉल किया।

सोचा था मुंह बांधकर फायरिंग करेंगे तो कौन पकड़ लेगा

- सोमवार को पुलिस लाइन में रहने वाले युवक ने बेड रेस्ट पर चल रहे हवलदार पिता का लाइसेंसी रिवाल्वर लेकर पीएपी में रहने वाले दोस्त के घर आ गया था। यहां स्कूटर पर बाकी दोनों आ गए।

- हवलदार के बेटे का दावा है कि वह बाइक चला था तो रिवाॅल्वर पीछे बैठे दोस्त के पास थी। सोचा गोली चलाते हैं। सूर्या एंक्लेव में चक्कर लगाकर राम मंदिर के पास आ गए। सभी ने चेहरे पर रुमाल बांध लिए। पहली गोली हवा में चलाई थी। दूसरा फायर करना था कि दोस्त ने बाइक तेज कर दी। दो फायर उसने किए, जो कोठी में जा लगे।

- उन्होंने माना कि उस दिन रिवाल्वर के साथ सेल्फी खींची, ताकि सोशल मीडिया पर डाल सकें। आरोपी मानते हैं कि उनसे सबसे बड़ी गलती ये हो गई कि उन्होंने शराब पी रखी थी। राउंडअप किए गए चारो लड़के प्लस-2 पास हैं। सभी आईलेट्स कर रहे हैं।

सीपी पीके सिन्हा ने कहा कि राउंडअप किए लड़के कोई क्रिमिनल नहीं हैं। उनका टारगेट डिप्टी कमाडेंट विपिन शर्मा की कोठी नहीं थी, वे शरारत में ऐसा जुर्म कर बैठे।

बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट की पत्नी ने कहा था- उन्हें तीन गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी थी। बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट की पत्नी ने कहा था- उन्हें तीन गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी थी।
लड़को की चाई गोलियां गलती से घर की पहली मंजिल पर लगी थीं। लड़को की चाई गोलियां गलती से घर की पहली मंजिल पर लगी थीं।
X
क्राइम सीन के पास सीसीटीवी कैमरे में 12.30 बजे की फुटेज में चाराें लड़के मुंह पर रुमाल बांधे जाते दिखे थे।क्राइम सीन के पास सीसीटीवी कैमरे में 12.30 बजे की फुटेज में चाराें लड़के मुंह पर रुमाल बांधे जाते दिखे थे।
बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट की पत्नी ने कहा था- उन्हें तीन गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी थी।बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट की पत्नी ने कहा था- उन्हें तीन गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी थी।
लड़को की चाई गोलियां गलती से घर की पहली मंजिल पर लगी थीं।लड़को की चाई गोलियां गलती से घर की पहली मंजिल पर लगी थीं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..