• Hindi News
  • Punjab
  • Jalandhar
  • पंजाबी गायकी में अश£ीलता पर मास्टर सलीम ने जताई चिंता<श्च>स्त्री जागृत मंच के आंद
--Advertisement--

पंजाबी गायकी में अश£ीलता पर मास्टर सलीम ने जताई चिंता<श्च>स्त्री जागृत मंच के आंदोलन की सराहना की। पंजाबी विरसे को बचाना जरूरी

पंजाबी गायकी में अश£ीलता पर मास्टर सलीम ने जताई चिंता<श्च>स्त्री जागृत मंच के आंदोलन की सराहना की। पंजाबी विरसे को बचाना जरूरी

Dainik Bhaskar

Feb 28, 2012, 04:21 PM IST
जालंधर । पंजाबी गायक मास्टर सलीम ने पंजाबी गायकी में बढ़ रही अश्लीलता पर चिंता व्यक्त करते हुए स्त्री जागृति मंच की सराहना की है। उनका कहना है कि अगर पंजाबी संस्कृति को बचाना है तो अश्लीलता पर लगाम कसनी होगी। कुछेक गायक अजीब-गरीब गीतों की पेशकारी कर पूरे पंजाबी विरसे को खराब करने पर तुले हैं। इस पर काबू पाना बहुत जरूरी है। सिर्फ यहीं नहीं वर्तमान में पंजाबी मां बोली को बचाने के लिए भी कलाकारों को अहम कदम उठाने होंगे।
सलीम का कहना है कि हरेक कलाकार को स्त्री जागृति मंच के इस कदम का सहयोग करना चाहिए। अगर सभी कलाकार एकजुट होकर अश्लीलता को रोकने का संकल्प लेंगे तो ही साफ-सुथरी गायकी जीवित रह पाएगी। स्त्री जागृति मंच को यह कदम बहुत पहले ही उठा लेना चाहिए था।
मां बोली के हो रहे पतन पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान में युवा पीढ़ी अपनी संस्कृति से दूर होती जा रही है। पाश्चात्य चकाचौंध में हम अपने विरसे को भूलते जा रहे हैं। पंजाबी एक अमीर विरसा है। इसका पतन चिंता का विषय है।
पंजाबी गायक हरभजन मान, सतिंदर सरताज, हंसराज हंस, मनमोहन वारिस और कमल हीर आदि गायकों द्वारा पंजाबी बचाओ चेतना रैली निकाली गई थी जोकि सराहनीय कदम है। उन्होंने अफसोस व्यक्त किया कि चेतना रैली में उन्हें आमंत्रित नहीं किया। जबकि वह तह दिल से चेतना रैली में हिस्सा लेने के इच्छुक थे।
X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..