अा जाे, भाई जी अा जाे, साड्डे खेतां च धान लाअाे, जादा दिहाड़ी, एसी वाली कोठी नाले सारा राशन फ्री पाओ...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:55 AM IST

Jalandhar News - भास्कर न्यूज | जालंधर/खन्ना पंजाब से बाहर ज्यादा दिहाड़ी अाैर मनरेगा स्कीम के असर के कारण पंजाब में किसानाें काे...

Jalandhar News - come brother come bring saddles paddy over wage ac kothi gutters all the ration free
भास्कर न्यूज | जालंधर/खन्ना

पंजाब से बाहर ज्यादा दिहाड़ी अाैर मनरेगा स्कीम के असर के कारण पंजाब में किसानाें काे धान की राेपाई के लिए मजदूर नहीं मिल रहे। किसानाें काे चिंता सताने लगी है कि धान की राेपाई कैसे हाेगी। मजदूरों की तलाश में किसान रेलवे स्टेशनाें के चक्कर लगा रहे हैं। वीरवार सुबह स्टेशन के बाहर मजदूरों से बातचीत कर रहे गांव बूथगढ़ के किसान मनी बैनीपाल प्रवासी मजदूराें काे साथ ले जाने के लिए अा जाे, भाई जी अा जाे, साड्डे खेतां च धान लाअाे, ज्यादा दिहाड़ी, एसी वाली कोठी नाले सारा राशन फ्री पाओ... अावाजें लगाते देखे गए। मान मनाैव्वल के बावजूद मजूदर उनके साथ नहीं गए। बाेले, 12 साल से गांव चीमा में एक किसान के पास काम कर रहे हैं। उनसे एडवांस भी ले रखा है। उन्हीं के पास जाकर काम करेंगे।

बाहरी राज्यों से इस बार कम आ रहे खेतिहर मजदूर, जो आ रहे हैं वो ठेकेदारों ने पहले से ही कर रखे हैं बुक

किसानों को सता रही राेपाई लेट होने की चिंता

किसान बैनीपाल ने बताया कि लेबर की कमी के कारण खेतीबाड़ी प्रभावित हो रही है। 60 एकड़ में खड़ी सूरजमुखी की कटाई नहीं हाे रही। धान की बिजाई भी लेट है। तीन दिन से खन्ना, मंडी गोबिंदगढ़ व सरहिंद स्टेशन पर मजदूरों की तलाश कर रहे हैं पर सब बेकार। मामा सुखविंदर सिंह 2 रात से सरहिंद और मंडी गोबिंदगढ़ स्टेशन पर हैं। गांव रसूलड़ा के किसान सरबजीत सिंह ने कहा कि दिन में चार बार रेलवे स्टेशन का चक्कर लगाते हैं पर मजदूर नहीं मिल रहे।

कई दिन से अा रहे थे फोन

रेलवे स्टेशन पर अपने साथियों संग पहुंचे मजदूर रामू पासवान से जब किसान बात कर रहा था तो उसका दो-टूक कहना था कि वह फ्री नहीं हैं। कई दिन पहले से पुराने मालिकों के फोन आ रहे हैं। वह पहले ही जालंधर लेट पहुंचे हैं। एेसे में किसी दूसरे के पास जाकर धान की राेपाई करने का सवाल ही पैदा नहीं होता।


रेलवे स्टेशन पर मजदूरों की तलाश में जुटे किसान लेबर को धान की बिजाई में 2700 से 3000 रुपए प्रति एकड़ तक का ऑफर दे रहे हैं। सूरजमुखी की कटाई बदले 2600 रुपए प्रति एकड़ तक रेट का अाॅफर दिया जा रहा है। किसानाें काे गर्मी में ठंडा, मीठा जल पिलाकर मनाने की काेशिश की जा रही है।


लेबर की दिक्कत का सामना किसानाें काे लगातार करना पड़ रहा है। पिछले साल भी परेशानी झेलनी पड़ी थी। बिहार, यूपी और झारखंड से आने वाले श्रमिकों की संख्या में लगातार गिरावट अा रही है। यही कारण है कि पंजाब के किसान दाेगुनी मजदूरी, फ्री खाना, रहने के साथ-साथ फ्री मोबाइल भी अाॅफर करत हैं।

धान की राेपाई के लिए किसानों को नहीं मिल रहे मजदूर, प्रवासी मजदूरों के लिए करनी पड़ रही मान मनाैव्वल


तीन दिन से विभिन्न जिलों के किसान जालंधर रेलवे स्टेशन आ रहे हैं। किसानों को 3000 रुपए प्रति एकड़ के अलावा फ्री खाना, मोबाइल फोन के ऑफर दिए जा रहे हैं। किसान बोले, पहले एक जून को बिजाई शुरू कर देते थे। इस बार 13 जून डेट तय थी। बटाला से आए गुरतेज सिंह ने कहा कि 3 प्रवासी लोकल 5 मजदूरों के बराबर काम करते हैं।

X
Jalandhar News - come brother come bring saddles paddy over wage ac kothi gutters all the ration free
COMMENT