--Advertisement--

विदेश पढ़ने नहीं जा पाई तो नशे के दलदल में फंसी युवती; पुलिस वालों ने पहले नशे में फिर जिस्मफरोशी में धकेला

Dainik Bhaskar

Jul 01, 2018, 03:06 AM IST

बीएससी नर्सिंग के बाद आईलेट्स कर पाए थे 6 बैंड, आर्थिक हालत बने रुकावट

अपनी दास्तां बयां करती पीड़ित अपनी दास्तां बयां करती पीड़ित

मोगा (पंजाब). विदेश जाने की चाह पूरी न होने पर युवा किस तरह नशे की दलदल में फंसते जा रहे हैं इसकी मिसाल कोटईसेखां में श्री गुरु ग्रंथ साहिब सत्कार कमेटी की ओर से इस दलदल से निकालकर नशा छुड़ाओ केंद्र तक पहुंचाई गई लड़की से मिलती है। शनिवार को कमेटी सदस्य उक्त लड़की को एक ढाबे से नशे में चूर देखकर अपने साथ लेकर एसएसपी दफ्तर पहुंचे तो एसएसपी ने थाना सिटी के एसएचओ गुरप्रीत सिंह को उसे एक निजी ड्रग डी एडिक्शन सेंटर में दाखिल करवाने के आदेश दिए हैं। पीड़ित लड़की ने भी इस दलदल से निकलने के लिए हामी भरी है। इस दौरान लड़की ने जो कहानी बयां की वह बेहद चौंकाने वाली है।

4 माह पहले घर छोड़कर ढाबे पर रहने लगी थी: पीड़ित लड़की ने बताया कि उसके पिता की मौत हो चुकी है। उसने बीएससी नर्सिंग कर आइलेट्स में 6 बैंड हासिल किए लेकिन परिवार उसे विदेश पढ़ने भेजने में असमर्थ था। इससे वह परेशान रहने लगी और 3-4 महीने पहले घर छोड़कर एक ढाबे में रहने लगी। यहां कुछ पुलिस मुलाजिमों ने उसके जिस्म से खेला और चिट्टे की लत लगा दी। चिट्टे की लत लगी होने के कारण जब नशे के लिए पैसे नहीं मिले तो उसे जिस्मफरोशी के धंधे में धकेल दिया गया। इस तरह वह जिस्म बेचकर पैसा कमाती और दौलेवाल जाकर नशा लाकर नशा करने लगी। पीड़िता बताती है कि इस तरह उसकी जिंदगी नर्क बन चुकी है और वह इस दलदल से निकलना चाहती है। उसने कहा कि अब जब उक्त संस्था के लोग उसकी मदद के लिए आगे आए तो वह भी नशा छोड़ने को तैयार है।

सत्कार कमेटी के सदस्य पीडि़ता की मदद को आगे आए: श्री गुरु ग्रंथ साहिब सत्कार कमेटी के राजा सिंह, निहंग सिंह तरनादल के बाबा जगसीर सिंह व बाबा अर्शदीप सिंह ने बताया कि उन्हें इस लड़की की हालत के बारे में पता चला तो शनिवार को वे अपने साथियों समेत उक्त ढाबे में पहुंचे तो वहां उन्हें नशे की हालत में यह युवती मिली। पीड़िता को जब पूछा गया कि उसे इस दलदल में किसने डाला तो वह सिर्फ इतना बता पाई कि कुछ पुलिस मुलाजिम और ट्रक ड्राइवर हैं। लेकिन वह उनका नाम नहीं जानती। इस पर वे उसे एसएसपी के पास ले आए।

युवती को इस हालत में लाने वालों पर कार्रवाई होगी: हमने लड़की को मोगा के एक निजी ड्रग्स डिडक्शन सेंटर में दाखिल करा दिया है। उसके नशे से निकलने के बाद बयान लेकर अगली कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उसे इस हालत में पहुंचाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। -गुरप्रीत सिंह, एसएचओ सिटी-1

X
अपनी दास्तां बयां करती पीड़ित अपनी दास्तां बयां करती पीड़ित
Astrology

Recommended

Click to listen..