पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

11 जिलों में प्रदर्शन, लोगों ने कानून को बताया गैर संवैधानिक, विभिन्न संगठन आए एक साथ

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएए के विरोध में प्रदेश में कई जिलों में प्रदर्शन हुए।
  • जालंधर, मोगा, रोपड़, संगरूर, फगवाड़ा, नवाशहर, फरीदकोट और बठिंडा में विरोध
  • भाजपा नेता बाेले, सीएए से किसी भी धर्म या जाति के लोगों को कोई नुकसान नहीं
  • भाजपा सांसद श्वेत मलिक बोले, कांग्रेस जनता को गुमराह कर माहौल खराब करने की कोशिश कर रही

जालंधर. देशभर में नागरिकता संशाेधन कानून को लेकर घमासान चल रहा है और लोग इसके विरोध में सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। शुक्रवार को शुक्रवार को सूबे के 11 जिलों जालंधर, मोगा, रोपड़, संगरूर, कपूरथला, फगवाड़ा, नवाशहर, फरीदकोट,  बठिंडा, पटियाला के नाभा और फतेहगढ़ साहिब में विभिन्न संगठनों के लोगों ने इस कानून का विरोध किया और केंद्र सरकार से इस कानून को वापस लेने की मांग की।


वहीं, इस कानून के विरोध में कई यूनिवसिर्टी और आईटीआई के स्टूडेंट्स ने भी रोष मार्च निकाला और केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। रोष मार्च में शामिल लोगों ने नागरिकता कानून को काला कानून और गैर संवैधानिक बताया। लोगों ने कहा कि मोदी सरकार इस कानून से मुसलमानों के खिलाफ नफरत का माहौल बनाकर देश के लोगों को हिंदू मुस्लिम में बांटकर हिंदू राष्ट्र बनाना चाहती है।


कानून के अनुसार पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के लोगों को भारत सरकार की तरफ से नागरिकता देने का कानून पास किया गया है, लेकिन इस कानून में मुस्लिम लोगों को बाहर रखा गया है, जबकि वर्मा, म्यांमार, श्रीलंका और चीन आदि देशों में मुस्लिम लोगों से धर्म के अाधार पर भेदभाव हो रहा है।


शुक्रवार को नवाज अदा करने के बाद कई जिलों में बड़ी तादाद में मुस्लिम भाईचारे ने विभिन्न संगठनों के साथ प्रदर्शन किया। सूबे में सभी जिलों में प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहा। उधर, नागरिकता संशाेधन कानून के समर्थन में अमृतसर, होशियारपुर और पठानकोट में आरएसएस, भाजपा और विश्व हिंदू परिषद ने प्रदर्शन किया और ज्ञापन सौंपे। अमृतसर में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लाेदश से उजड़कर आए शरणािर्थणों ने इस कानून का समर्थन किया और केंद्र सरकार के हक में धन्यवाद मार्च निकाला।
 

कैप्टन शरणार्थियों के हित की बजाय दवाब में काम कर रहे
जालंधर| पंजाब भाजपा अध्यक्ष और सांसद श्वेत मलिक ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) का विरोध कर रहे लोगों को भड़का रही है। उन्होंने कहा कि सीएए से किसी भी धर्म या जाति के लोगों कोई नुकसान नहीं है। कांग्रेस ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए सीएए को मुद्दा बना कर देश में हाहाकार मचाया हुआ है और लोगों को गुमराह कर उन्हें दंगा करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।


उन्होंने कहा कि धर्म और जाति के नाम पर समाज को बांटना और राज करना कांग्रेस का इतिहास रहा है। सीएए का विरोध करने से कांग्रेस का चेहरा सबके सामने आ गया है। सीएम कैप्टन अमरिन्दर सिंह की निंदा करते मलिक ने कहा कि वे शरणार्थियों के हित की बजाय कांग्रेस के दवाब में काम कर रहे हैं।

सांपला बोले- प्रदर्शनों के पीछे  कांग्रेस व वामपंथियाें का हा
चंडीगढ़। भाजपा के पूर्व पंजाब प्रदेशाध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री विजय सांपला ने सीएए के विरोध में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों के पीछे कांग्रेस और वामपंथी दलों का हाथ बताया है। शुक्रवार को सांपला पाक से आए 7 हिंदू परिवारों को लेकर चंडीगढ़ पहुंचे थे। यह सभी वर्ष 2000 से लेकर 2015 तक भारत में आए थे। सांपला ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कई राजनीतिक पार्टियां अरोटी सेकने में लगी हुई हैं।

स्टूडेंट बोले, धर्म के नाम पर बांटने वाले काले कानून को वापस लिया जाए
सीएए को लेकर संगरूर में अकाल डिग्री कॉलेज मस्तुआना साहिब के छात्राें, नवाशहर में  शहीद-ए-आजम भगत सिंह आईटीआई के विद्यार्थियों, मोगा में सरकारी आईटीआई के छात्रों और  फरीदकोट में पंजाब स्टूडेंट्स यूनियन द्वारा राज्य स्तरीय आह्वान पर सरकारी बरजिंदरा काॅलेज फरीदकोट व शहीद भगत सिंह काॅलेज कोटकपूरा में दिल्ली में विद्यार्थियों पर हुए लाठीचार्ज और सीएए के विरोध में रोष प्रदर्शन किया गया। उन्होंने इस कानून को धर्म के नाम पर समाज को बांटने वाला बताया और केंद्र सरकार से वापस लेने की अपील की। 
 

संगठन बोले, सीएए से अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय में डर, कानून रद्द हो
 नागरिकता संशाेधन कानून के विरोध में शुक्रवार को रोपड़ में पंजाब स्टूडेंट यूनियन, कपूरथला में बहुजन क्रांति मोर्चा, भारत मुक्ति मोर्चा, कमलेश्वर वाल्मीकि एजुकेशन ट्रस्ट, भारतीय बेरोजगार मोर्चा, डेमोक्रेटिक भारतीय समाज और मुस्लिम भाईचारे ने कानून को रद्द करवाने के लिए प्रदर्शन किया।


फगवाड़ा में कानून के खिलाफ मुस्लिम धार्मिक कमेटी ने राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया है कि जो नागरिकता संशोधन कानून बनाया गया है, उसे लेकर फगवाड़ा समेत पूरे देश के अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय में डर और रोष पाया जा रहा है।

शरणार्थी बोले, कानून में नहीं है कोई खामी
अमृतसर| नागरिकता संशोधन अधिनियम (एनआरसी) के समर्थन में पाकिस्तान के पेशावर से पंजाब आकर रह रहे सिख नागरिकों, विद्यार्थी परिषद व अधिवक्ता परिषद के वकीलों ने डीसी दफ्तर के सामने प्रदर्शन किया। विद्यार्थी परिषद के जिला प्रधान कुलदीप सिंह, अभिनव प्रकाश, शिव अरोड़ा ने कहा कि वह इस एनआरसी बिल का समर्थन करते हैं। इस बिल में किसी भी तरह की खामियां नहीं है।


दिल्ली, यूपी समेत कई राज्यों में जो हिंसक घटनाएं विरोध प्रदर्शन के दौरान की गईं वह अत्यंत ही निंदनीय है। सरकार को अराजक तत्वों से सख्ती से निपटना होगा। केंद्र सरकार की तरफ से मंजूर किए गए सिटिजनशिप अमेंडमंट एक्ट (सीएए) के खिलाफ जहां पूरे देश में भूचाल आया हुआ है वहीं गुरु नगरी में पाकिस्तान, अफगानिस्तान तथा बांग्लाेदश आदि से उजड़ कर शरणार्थी का जीवन जीने वालों ने इसका समर्थन किया है। 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें