• Hindi News
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Jalandhar News for two decades i am facing the pain of being a pakistani now i want to get citizenship of india

दो दशक से झेल रहे हैं पाकिस्तानी होने का दर्द, अब जगी भारत की नागरिकता मिलने की अास

Jalandhar News - दाे दशक पहले पाकिस्तान सरकार की यातना से तंग अाकर 350 से ज्यादा लाेग सियालकाेट से जालंधर अाकर तोबड़ी माेहल्ला, बस्ती...

Dec 10, 2019, 08:12 AM IST
Jalandhar News - for two decades i am facing the pain of being a pakistani now i want to get citizenship of india
दाे दशक पहले पाकिस्तान सरकार की यातना से तंग अाकर 350 से ज्यादा लाेग सियालकाेट से जालंधर अाकर तोबड़ी माेहल्ला, बस्ती बावा खेल और भार्गव कैंप में बस गए थे। जिला प्रशासन के जरिये इन लाेगाें ने कई बार भारत सरकार को पत्र लिखकर नागरिकता की मांग की पर अाज तक काेई सुनवाई नहीं हुई। अब इनकी उम्मीद नागरिकता संशोधन बिल पर टिकी है। कई विपक्षी दलाें के विराेध के कारण ये लाेग अभी भी अाश्वस्त नहीं कि इनकाे नागरिकता मिल सकेगी।

लोकसभा में बिल पास, अब राज्यसभा की बारी, सियालकोट से आकर बसे थे

हंसराज पाकिस्तानी कहते हैं कि देश में बंटवारे के बाद पाकिस्तान में हिंदुओं का रहना दुश्वार हो रहा था। वहां पर रहने के लिए मुस्लिम धर्म को स्वीकार करने के लिए बड़ा दबाव था। इसके लिए लोगों प्रताणित या जा रहा था। यहीं वजह है कि अपनी इज्जत बचाने के हम लोग अपने परिवार के साथ भारत लौट आए। चूंकि जालंधर हमारे यहां से सीमांत एरिया पड़ता था। इसलिए हम लोग यहां आकर बस गए। ताेबड़ी माेहल्ले में रहने वाले 63 साल के चूनीलाल का कहना है कि पाकिस्तान में धर्म परिवर्तन की मार से बचने के लिए 1998 से पहले जालंधर आए थे। उस समय बेटी मीना 2 साल की थी। अब मीना की शादी हो चुकी है और उसके भी एक बेटा और बेटी है। बस्ती बाबा खेल के रहने वाले फलक राज का कहना है कि हम लोगों के परिवार बढ़ रहे हैं। लेकिन सुविधाओं का अभाव है। भारत की नागरिकता नहीं होने के चलते हम लाेगों को सरकार की किसी याेजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। लंबे समय से हम देश की नागरिकता पाने के लिए कोशिश कर रहे हैं। लेकिन सरकारें राहत देने के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठा रहीं है। अब लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पास हो जाने के बाद लोगों में कुछ उम्मीद जगी है। पाक से अाकर बसे लाेगाें ने कहा कि जब भी काेई हमें पाकिस्तानी कहकर बुलाता है ताे मन दुखता है। भारत में हमारी तीसरी पीढ़ी जन्म ले चुकी है। इसके बावजूद हम पर पाकिस्तानी होने का ठप्पा लगा है। इस दर्द से कब निजात मिलेगी, पता नहीं। इंतजार करते-करते हमारी आंखें पथरा गईं हैं। अब तो नेताओं और सरकारों के वादों से भरोसा भी उठ चुका है। पाक के जुल्मो सितम से तंग आकर भारत में बसे हिंदुओं को नागरिकता देने के लिए लोकसभा में बिल पास हो गया है।

X
Jalandhar News - for two decades i am facing the pain of being a pakistani now i want to get citizenship of india
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना