वतन वापसी / आर्मेनिया में फंसे पंजाबी नौजवान सही सलामत पहुंचे भारत, परिजनों के साथ दिल्ली पहुंचे भगवंत मान



four Punjabi returned from Armenia and AAP MP Bhagwant Mann received them
X
four Punjabi returned from Armenia and AAP MP Bhagwant Mann received them

  • सोशल मीडिया पर डाला था विदेश में फंसे पंजाबियों ने अपनी दुखभरी कहानी का वीडियो
  • पंजाब सरकार पर ट्रैवल एजेंटों पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया आप के सांसद भगवंत मान ने

Dainik Bhaskar

Feb 09, 2019, 07:56 PM IST

जालंधर. पंजाब में हद से ज्यादा बेरोजगारी के कारण विदेश जाने के लिए धोखेबाज एजेंटों का शिकार हुए पंजाबी नौजवानों को शनिवार को आर्मेनिया से वापस देश लाने के भगवंत मान के यत्नों को आखिर सफलता मिल गई। वहां की यातनाओं की कहानी बयां करते इनकी आंखों से आंसुओं की गंगा-जमुना बह पड़ी। लौटे युवकों में से एक का कहना है कि उसे पंजाब से और लड़कों को बुलाने पर 50 हजार रुपए कमिशन की बात कही गई थी। मना करने पर बांधकर खूब पीटा गया।

 

आज बाहर के मुल्क आर्मेनिया में फंसे 4 नौजवानों की भारत वापसी पर भगवंत मान खुद इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट दिल्ली लेने के लिए उनके परिजनों के साथ पहुंचे। आर्मेनिया में फंसे दंपती समेत चार पंजाबी युवक शनिवार को आखिर अपने घरों में पहुंच गए हैं। इनमें दंपती समेत तीन युवक अकेले कपूरथला जिले के हैं, एक युवक जिला अमृतसर का है। सभी युवक सुबह 7 बजे दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरे, जहां उनको आप सांसद भगवंत मान खुद रिसीव करने पहुंचे। बाहर आते समय सभी युवक ऊंची आवाज में रोने लगे। मान ने उन्हें चुप करवाने की कोशिश भी की, लेकिन उनके साथ हुए तसीहों की बात सुनकर मान खुद भी अपने आंसू नहीं रोक सके। युवक बोले-हम कैद में थे, कई दिन से भूखे हैं, कल रात खाना देखा है, हमें 50 से 70 हजार रुपए के वेतन रिहायश और मुफ्त खाने का लालच देकर ठगा गया है। 4-4 लाख रुपए ले लिए। काम मांगा तो बांधकर पीटा, खाना भी नहीं दिया। पैसे और फोन तक ले लिए। 15 दिन पहले परिवार को बताया। परिवार ने पुलिस को शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उलटा एजेंटों को पता चला तो उन्होंने धमकाया, कहा कर लो केस, लाख लगाओ हम पांच लाख लगाकर केस नहीं होंने देंगे। कई बीमार भी थे। अंत हमने कमरे से वीडियो बनाकर वायरल कर दी।


आज लाखों रुपए लुटाकर घर लौटा हूं: जतिंदर सिंह जिला अमृतसर के योद्धा बसती तरसिका का निवासी है। उसने बताया कि काम की बात करने पर एजेंटों ने उसे कमरे में बंद कर दिया। कुछ दिन बाद एजेंट फिर से कमरे में आए। कहा-पंजाब से और लड़कों को बुला तुझे 50 हजार कमिशन देंगे। मैंने ऐसा करने से मनाकर दिया। इसके बाद मुझे दरवाजा बंदकर खूब पीटा। बंधक तक बना दिया। मेरा पासपोर्ट भी छीन लिया। मेरा फोन भी छीन लिया। मैं कमरे में रोता रहा। मैं जब घर से चला था, मां-बाप ने कई सपने देखे थे, आज मैं उनका लाखों रुपए लुटाकर खाली हाथ लौटा हूं। यह कह कर जतिंदर ने मान को भी रुला दिया।


कमरे का किराया 200 डॉलर एडवांस लिया: नडाला के हरमनजीत सिंह ने कहा कि उसने एजेंट को पैसे घर गिरवी रखकर दिए। दो महीने का कमरे का किराया भी 200 डॉलर एडवांस ले लिया। मैंने एजेंटों को काम की बात कही तो उन्होंने खाना भी बंद कर दिया। जो पैसा था, बर्बाद हो गया।


पत्नी को पीटा, वापस नहीं आते तो मर जाते: गांव इब्राहिमवाल के शमशेर सिंह और पिंकी दोनों पति-पत्नी हैं। शमशेर ने बताया कि वहां पहुंचे तो एजेंटों ने कहा कि यहां रहना है तो पंजाब से और युवाओं को फोन कर जहां बुलाओ। आप के पैसे भी बन जाएंगे। बात न मानी तो हमको पीटा, पत्नी को थप्पड़ मारे। हालात ऐसे थे कि वापस न आते तो हमें मार देते।

 

लोकविरोधी फैसले ही सारी समस्याओं की जड़: मान ने दुख जाहिर करते कहा कि सरकार की तरफ से लगातार लिए जा रहे लोकविरोधी फैसले ही इन सभी समस्याओं की जड़ है। देश में रोजगार मुहैया न होने के कारण बेरोजगारी का शिकार नौजवान विदेशों की ओर जा रहे हैं। इसका सबसे ज्यादा फायदा फर्जी ट्रैवल एजेंट उठा रहे हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना