पंजाब / जुआ लूटने आए बदमाश पहले मार्केट में भिड़े, फिर सिविल अस्पताल में डॉक्टरों को उपचार से रोका



जालंधर के सिविल अस्पताल में सरकारी काम में बाधा पहुंचाने की कोशिश करते गुंडे।
Gamble Dispute in Trying To loot The Gamble, financer Beating and misbehave with doctors
Gamble Dispute in Trying To loot The Gamble, financer Beating and misbehave with doctors
X
Gamble Dispute in Trying To loot The Gamble, financer Beating and misbehave with doctors
Gamble Dispute in Trying To loot The Gamble, financer Beating and misbehave with doctors

  • जालंधर के मोता सिंह नगर में बुधवार देर रात सट्टेबाज चंदन माघा और उसके साथियों ने दो पुलिस मुलाजिमाें मौजूदगी में पीटा फाइनांसर को
  • दूसरे वीडियो में सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में डाॅ. राजकुमार बद्धन को अमन का इलाज करने से रोका गैंग ने

Dainik Bhaskar

Nov 15, 2019, 04:02 PM IST

जालंधर. सरकारी डॉक्टर हैं तो इसका यह मतलब यह नहीं कि किसी काे भी हमारे साथ गाली गलाैज करे। यह बात सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने वीरवार काे तीन घंटे तक ओपीडी बंद कर राेष जताते हुए कही। इस दौरान मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ी। दरअसल, मामला बुधवार का है, जब मोता सिंह नगर मार्केट में जुए के अड्डे पर गुंडागर्दी हुई थी। इस घटना के दो वीडियो क्लिप भी सामने आए हैं। इनमें से एक में सट्टेबाज चंदन माघा और उसके साथी दो पुलिस मुलाजिमाें मौजूदगी में फाइनांसर अमन को पीटते दिखाई दे रहे हैं तो बाद में माघा और उसके गैंग ने सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में गुंडागर्दी कर डाॅ. राजकुमार बद्धन को अमन का इलाज करने से रोका और जान से मारने की धमकी दी।

 

इसी घटना के विरोध में गुरुवार को सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने तीन घंटे तक ओपीडी बंद कर राेष जताया। डॉक्टरों की मानें तो बुधवार को इमरजेंसी में तैनात डॉ. राजकुमार के साथ हुआ गलत व्यवहार पहला मामला नहीं है। 6 महीने में इमरजेंसी और अस्पताल में तैनात डॉक्टरों ने मेडिकल सुपरिंटेंडेंट और पुलिस को 10 से अधिक शिकायतें दी हैं। अस्पताल परिसर में डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए पुलिस कमिश्नर ने सिर्फ दो मुलाजिमों को तैनात किया हुआ है। इनमें से भी एक कई बार छुट्‌टी पर होता है। डॉक्टरों का कहना है, जब कोई मरीज आकर बदसलूकी करता है। तो पुलिस मुलाजिम मूकदर्शक बने रहते हैं। डॉक्टरों ने अस्पताल में पक्की पुलिस चौकी बनवाने की मांग की। एमएस डॉ. मांगट का कहना है कि डॉक्टरों की इस मांग को हाई ऑथोरिटी के पास फार्वर्ड कर दिया है।

 

पुलिस ने किया पांच को काबू

पुलिस ने सट्टेबाज चंदन कुमार माघा के 5 साथी गिरफ्तार किए हैं। इनमें राजू गेस्ट हाउस का मालिक विनोद कुमार काला निवासी राजा गार्डन, भगत सिंह मोनू निवासी रस्ता मोहल्ला, पंकज निवासी दीप नगर, अवतार सिंह निवासी अलीपुर और सेवाराम निवासी न्यू बेअंत नगर शामिल हैं। काला के भाई अमित अरोड़ा और जंगी की तलाश की जा रही है। एसएचओ सुरजीत सिंह गिल ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि पांचों आरोपी अदालत में पेश कर रिमांड पर लिए जाएंगे। वहीं, प्राइवेट अस्पताल में इलाज करवा रहे सट्टेबाज चंदन कुमार माघा, उसके साथी राहुल अरोड़ा निवासी सूर्या एंक्लेव और अर्बन एस्टेट-1 के दिनेश वर्मा पर गार्द लगाई गई है।

 

ये दो पुराने केस कहते हैैं डॉक्टरों से धक्के की कहानी

  • अस्पताल की डॉक्टर ने बताया कि 4 महीने पहले नाइट शिफ्ट के दौरान दो जख्मी युवक आए। स्टाफ ट्रीटमेंट कर रहा था। उन्होंने मरीज के शरीर पर खुद चोटें लगाई थीं। इसकी मेडिकल रिपोर्ट बनाने के लिए कहने लगे और मना करने पर मरीज के परिजनों ने गाली-गलाैच शुरू कर दी। हूटर बजाने के बावजूद भी वह नहीं हटे ताे पुलिस बुलानी पड़ी।
  • 7 दिन पहले सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में मारपीट का केस आया। डॉक्टर पर नेचुरल इंजरी को ब्लंट इंजरी में तबदील करने का दबाव बनाया। मना करने पर मरीज के परिजनों पर पैसे लेने का आरोप लगाया। अस्पताल की एमएस को डॉक्टर के खिलाफ शिकायत भी दी गई। जांच में डॉक्टर को क्लीन चिट मिली। इसके बाद शिकायतकर्ता ने डॉक्टर से लिखित में माफी मांगी।

 

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना