अनोखी विदाई / वैलेंटाइन वीक में शादी को यादगार बनाना चाहती थीं फैशन डिजाइनर जैसमीन, ट्रैक्टर पर दूल्हे के साथ विदा हुई

ट्रैक्टर की ड्राइविंग सीट दूल्हे अजय ने संभाल रखी थी।
गुरु ग्रंथ साहिब को साक्षी मानकर उनकी परिक्रमा करता नवविवाहित जोड़ा। गुरु ग्रंथ साहिब को साक्षी मानकर उनकी परिक्रमा करता नवविवाहित जोड़ा।
लावां लेने की रस्म के दौरान गुरु ग्रंथ साहिब की परिक्रम करता अजय। लावां लेने की रस्म के दौरान गुरु ग्रंथ साहिब की परिक्रम करता अजय।
अयज के पल्ले से बंधी दुल्हन जैसमीन पति के अनुसरण का वचन देते हुए। अयज के पल्ले से बंधी दुल्हन जैसमीन पति के अनुसरण का वचन देते हुए।
विदाई के वक्त चावल वारने की रस्म के दौरान वर-वधु। विदाई के वक्त चावल वारने की रस्म के दौरान वर-वधु।
विदाई की रस्म पूरी करने के बाद ट्रैकटर पर सवार दूल्हा अजय। विदाई की रस्म पूरी करने के बाद ट्रैकटर पर सवार दूल्हा अजय।
हाथ पकड़कर दुन्हन जैसमीन को ट्रैक्टर पर चढ़ाते अजय। हाथ पकड़कर दुन्हन जैसमीन को ट्रैक्टर पर चढ़ाते अजय।
...और इस तरह अनूठी डोली में दूल्हे के साथ सवार हो जैसमीन जिंदगी के नए सफर पर निकल पड़ी। ...और इस तरह अनूठी डोली में दूल्हे के साथ सवार हो जैसमीन जिंदगी के नए सफर पर निकल पड़ी।
X
गुरु ग्रंथ साहिब को साक्षी मानकर उनकी परिक्रमा करता नवविवाहित जोड़ा।गुरु ग्रंथ साहिब को साक्षी मानकर उनकी परिक्रमा करता नवविवाहित जोड़ा।
लावां लेने की रस्म के दौरान गुरु ग्रंथ साहिब की परिक्रम करता अजय।लावां लेने की रस्म के दौरान गुरु ग्रंथ साहिब की परिक्रम करता अजय।
अयज के पल्ले से बंधी दुल्हन जैसमीन पति के अनुसरण का वचन देते हुए।अयज के पल्ले से बंधी दुल्हन जैसमीन पति के अनुसरण का वचन देते हुए।
विदाई के वक्त चावल वारने की रस्म के दौरान वर-वधु।विदाई के वक्त चावल वारने की रस्म के दौरान वर-वधु।
विदाई की रस्म पूरी करने के बाद ट्रैकटर पर सवार दूल्हा अजय।विदाई की रस्म पूरी करने के बाद ट्रैकटर पर सवार दूल्हा अजय।
हाथ पकड़कर दुन्हन जैसमीन को ट्रैक्टर पर चढ़ाते अजय।हाथ पकड़कर दुन्हन जैसमीन को ट्रैक्टर पर चढ़ाते अजय।
...और इस तरह अनूठी डोली में दूल्हे के साथ सवार हो जैसमीन जिंदगी के नए सफर पर निकल पड़ी।...और इस तरह अनूठी डोली में दूल्हे के साथ सवार हो जैसमीन जिंदगी के नए सफर पर निकल पड़ी।

  • जालंधर की सड़कों पर जब लोगों ने ट्रैक्टर पर दुल्हन-दूल्हे को देखा तो वीडियो बनाया, कुछ लोगों ने सेल्फी भी ली
  • दूल्हन ने कहा-वह अपनी विदाई में पंजाबी कल्चर का टच देना चाहती थी, और ट्रैक्टर पंजाबी कल्चर से जुड़ा है
     

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2020, 06:33 PM IST

जालंधर. जालंधर में रविवार को दुल्हन की अनूठी विदाई हुई। कार और डोली की बजाय दुल्हन अपने दूल्हे के साथ टैक्टर पर सवार होकर विदा हुई। दुल्हन और दूल्हे को ट्रैक्टर पर देखकर पूरे रास्ते लोगों ने वीडियो बनाया। सिर्फ यही नहीं, कई लोगों ने कपल के साथ सेल्फी भी ली। हालांकि वैलेंटाइन वीक में हुई इस शादी को यादगार बनाने की पेशकश खुद फैशन डिजायनर दुल्हन जैसमीन की थी।

ट्रैक्टर की ड्राइविंग सीट दूल्हे अजय ने संभाल रखी थी

न्यू हरबंस नगर में रहने वाली जैसमीन की शादी अजय के साथ हुई। जैसमीन फैशन डिजाइनर हैं और अजय बहरीन में ट्रांसपोर्ट कारोबार से जुड़े हुए हैं। जैसमीन ने वैलेंटाइन वीक में पड़ रही इस शादी को यादगार बनाने की इच्छा अजय के सामने जाहिर की थी। वह इच्छा थी ट्रैक्टर पर डोली ले जाने की। अजय को भी यह बात अच्छी लगी और रविवार को वह फूलों से सजा ट्रैक्टर लेकर दुल्हन के द्वार पर पहुंचे। शादी की रस्मों के बाद अजय इसी ट्रैक्टर पर ही जैसमीन को विदा कर अपने घर लाए। इस दौरान ट्रैक्टर की ड्राइविंग सीट दूल्हे अजय ने संभाल रखी थी।

फिजूलखर्च से बचने का संदेश भी दिया
इस कपल का कहना है कि शादी पर भले ही कितना खर्च क्यों न किया जाए, डोली रवाना करते समय दोनों परिवारों की नजर डोली वाली कार पर रहती है। पंजाबियों की बात की जाए तो उनके शौक लिमोजिन और हैलीकॉप्टर पर दुल्हन को ले जाने के भी रहे हैं। फिजूलखर्च से जुड़ी इन बातों को दरकिनार करते हुए उन्होंने अपनी शादी को यादगार बनाया है। समाज के दूसरे लोगों को भी इस दिशा में सोचना चाहिए। इसके साथ ही पंजाब व पंजाबी कल्चर का टच भी वह देना चाहते थे, और ट्रैक्टर पंजाबी कल्चर से जुड़ा हुआ है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना