पंजाब / अलकायदा के तीन आतंकी जालंधर में गिरफ्तार, इंजीनियरिंग कॉलेज से चला रहेे थे स्लीपर सेल



Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
X
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus
Jammu kashmir and Punjab Police Team Arrested 3 students from CT campus

 

  • श्रीनगर और पुलवामा के रहने वाले तीनों छात्र के पास से पंजाब और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बरामद किए विस्फोटक और हथियार

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2018, 12:18 PM IST

जालंधर। पंजाब और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अलकायदा से जुड़े कश्मीरी आतंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद (एजीएच) से जुड़े तीन आतंकियों को दबोचा है। इनमें से एक आतंकी संगठन एजीएच के सरगना मूसा का चचेरा भाई है। तीनों यहां तीन साल से स्लीपर सेल चला रहे थे। श्रीनगर और पुलवामा के रहने वाले इन छात्रों को जालंधर के सीटी (चन्नी ट्रस्ट) इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के हॉस्टल से  गिरफ्तार किया गया। पंजाब पुलिस और जम्मू-कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने इनकी 15 दिन के रिमांड मांगी थी, लेकिन कोर्ट ने 10 दिन की ही दी। 

  पंजाब पुलिस के डीजीपी सुरेश अरोड़ा की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि जम्मू कश्मीर की पुलिस ने मंगलवार देर रात जालंधर पहुंचकर 7 संदिग्धों के बारे सूचना दी। फिर दोनों प्रदेशों की पुलिस ने साथ मिलकर जालंधर बाहरी क्षेत्र में शाहपुर स्थित चन्नी ट्रस्ट ग्रुप के इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के हॉस्टल में रेड की। यहां से 3 कश्मीरी छात्रों को गिरफ्तार किया है।

 

इनकी पहचान अवंतिपुरा श्रीनगर के जाहिद गुलजार, पुलवामा के मोहम्मद इदरिश शाह और पुलवामा के नूरपुरा निवासी युसूफ रफीक के तौर पर हुई है। इनके पास से इटेलियन मेड पिस्टल, 2 मैगजीन, एक एके 47 के अलावा लगभग एक किलो आरडीएक्स बरामद किया गया। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे छात्र जिस आतंकी संगठन अंसार गजवत उल हिंद (एजीएच) से जुड़े हैं, उसका प्रमुख मूसा है। वहीं युसूफ रफीक बट कुख्यात कश्मीरी आतंकी जाकिर मूसा का चचेरा भाई है। ये जालंघर में तीन साल से अपना स्‍लीपर सेल चला रहे थे।

 

आरएसएस प्रमुख पर हमले का शक:  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत तीन दिन के लिए जालंधर में हैं। पुलिस को शक है कि आरएसएस प्रमुख आतंकियों के निशाने पर थे। पुलिस इस संबंध में भी आतंकियों से पूछताछ कर रही है। हालांकि, अभी इस संबंध में पुलिस अफसरों ने कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है।

 

त्योहारों पर धमाके की साजिश: तीनों आतंकियों ने पूछताछ में यह कबूल किया है कि त्योहारी सीजन में उनकी ब्लास्ट करने की साजिश थी। एक अफसर ने भट्ट से सवाल किया कि कहीं धमाका दशहरे में तो नहीं करना था तो बोला-गुलजार बता सकता है। गुलजार ने सब को यह कह कर चौंका दिया कि ज्योति चौक में क्या कम भीड़ होती है। धमाका तो आतंकी वहां भी कर सकते हैं।


ये हैं तीनों आतंकी
1. जाहिद गुलजार, 19 साल 
सीटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग में बी-टेक (सिविल) की स्टडी कर रहा। 
पिता- किसान, पता- गांव राजपुरा तहसील अवंतीपुरा, पुलवामा 
इसके पास एके 56 के साथ 27 जिंदा कारतूस बरामद 
 
2. यूसुफ रफीक भट्‌ट, 19 साल 
सीटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग में बी-टेक का स्टूडेंट। 
पिता- इंजीनियर पता- गांव नूरपुरा तहसील, अवंतीपुरा, पुलवामा 
रोल: हिज्ब आतंकी मूसा का चचेरा भाई है, इसी ने दोनों को भेजा था अमृतसर। 
एके-56 की मैगजीन और कुछ कागजात बरामद किए गए हैं। 

 

3. मोहम्मद इदरिश शाह 
सेंट सोल्जर कॉलेज में बीएससी (मेडिकल लैब -साइंस) का स्टूडेंट। 
पिता-ड्राइवर, पता- गांव बोहू, तहसील अवंतीपुरा, पुलवामा 
रोल: शाह स्लीपर सेल की भूमिका में था और गुलजार के साथ अमृतसर गया था।

 

जम्मू में पकड़े संदिग्ध से ट्रेस हुए थे ये तीनों: जम्मू पुलिस ने आतंकी संगठन एजीएच की कॉल ट्रेस की थी। इसके बाद एक संदिग्ध पकड़ा गया। उससे इनपुट मिले थे कि आतंकी संगठन के लिए गुलजार व रफीक नाम के दो स्टूडेंट काम कर रहे हैं। जम्मू पुलिस ने दोनों को ट्रेस कर पंजाब के डीजीपी से बातचीत की। मंगलवार शाम को ही जम्मू पुलिस जालंधर आ पहुंची। रात साढ़े 11 बजे जम्मू पुलिस के साथ जालंधर पुलिस शाहपुर पहुंची, जहां पर इंस्टीट्यूट से दोनों के बारे में पूछा गया तो पता चला कि इनके साथ हॉस्टल के रूम नंबर 94 में एक और स्टूडेंट है। रात 12 बजे के बाद हॉस्टल के वार्डन के जरिए पुलिस ने तीनों को बाहर बुलाया और पकड़ लिया।

 

बैट कारोबारी ने स्टूडेंट्स को पहुंचाए थे पैसे: पकड़े गए तीन आतंकियों का एक साथी लांडरां यूनिवर्सिटी में पड़ने वाला सुहेल फरार हो गया। बता चला है कि उसका भार्गव कैंप एरिया के क्रिकेट बैट मेन्यूफेक्चरिंग से कनेक्शन है। वही इन्हें पैसा मुहैया कराता है। पुलिस ने व्यापारी समेत उसके परिवार के तीन सदस्यों से पूछताछ की। पता चला कि बैट कारोबारी का श्रीनगर के व्यापारियों से वित्तीय लेन-देन है। डीसीपी गुरमीत सिंह का कहना है कि जांच के लिए कुछ लोग बुलाए गए हैं। इस बारे में जांच पूरी होने तक कुछ भी नहीं कहा जा सकता।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना