करतारपुर पर भास्कर गाइड / पुलिस वेरिफिकेशन के बिना दर्शन के लिए नहीं जा सकेंगे, श्रद्धालुओं को उसी दिन लौटना होगा



पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की ताजा तरीन झलक। पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की ताजा तरीन झलक।
Kartapur Corridor Rules and Regulations for The people going To Kartarpur via Corridor
X
पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की ताजा तरीन झलक।पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की ताजा तरीन झलक।
Kartapur Corridor Rules and Regulations for The people going To Kartarpur via Corridor

  • ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद पुलिस वेरिफिकेशन होगा, विदेश मंत्रालय यात्रा की तारीख के चार दिन पहले सूचित करेगा
  • कॉरिडोर सालभर खुला रहेगा, हर श्रद्धालु को 20 डॉलर यानी करीब 1400 रुपए की फीस देनी होगी

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 10:01 AM IST

जालंधर. करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन पर जाने वाले श्रद्धालुओं को किन-किन बातों का ध्यान रखना होगा। रजिस्ट्रेशन कैसे होगा? कितनी देर वहां रह सकते हैं? क्या लेकर जा सकते हैं। भास्कर एप आपके इन सवालों का जवाब दे रहा है।

 

कौन जा सकता है?
भारत का 13 से 75 साल का कोई भी नागरिक या अप्रवासी भारतीय इस यात्रा पर जा सकता है। इसके लिए https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ पर लॉग-इन करके फॉर्म भरना होगा। आपको पंजीकरण के बाद नोटिफिकेशन मिलेगा। यात्रा के लिए 20 डॉलर यानी करीब 1400 रुपए फीस देनी होगी।

 

कॉरिडोर कब खुला रहेगा? 
करतापुर कॉरिडोर साल भर खुला रहेगा। यानी श्रद्धालु कभी भी दर्शन के लिए अनुमति और शुल्क लेकर जा सकते हैं। इसके लिए कम से कम 10 दिन पहले आवेदन करना होगा। आवेदन पर पुलिस केस या मुकदमे की जानकारी भी देनी होगी। ऑनलाइन आवेदन के बाद विदेश मंत्रालय फाइल को उस थाने में वेरिफिकेशन के लिए भेजेगा, जिस थाना क्षेत्र में आवेदक रहता है। अगर आवेदन में किसी भी प्रकार की जानकारी छिपाई गई होगी या गलती हुई तो पुलिस की सिफारिश पर आवेदन निरस्त हो सकता है। पुलिस वेरिफिकेशन के बाद आवेदक को केंद्रीय गृह मंत्रालय से करतारपुर साहिब की यात्रा संबंधी मंजूरी मिलेगी।

 

क्या अप्रवासी भारतीय भी जा सकते हैं? 
करतारपुर की यात्रा पर भारतीयों के साथ अप्रवासी भारतीयों (एनआरआई) भी जा सकते हैं। https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ पर दो प्रकार के फॉर्म हैं। एक भारतीय नागरिकों के लिए, दूसरा एनआरआई के लिए। एनआरआई के लिए ओसीआई यानी ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया कार्ड अप्लाई करना पड़ेगा। ओसीसी के लिए भी फॉर्म ऑनलाइन भरा जा सकता है। अगर किसी कारण से फॉर्म एक बार रिजेक्ट हो जाता है तो श्रद्धालु उस खामी को दूर करके दोबारा आवेदन कर सकता है।

 

कितने दस्तावेज जरूरी?
ऑनलाइन फॉर्म भरते समय पासपोर्ट साइज फोटो, पासपोर्ट के अगले और पिछले पेज की पीडीएफ फाइल अपलोड होगी। वीजा की कोई जरूरत नहीं। जरूरी प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपका रजिस्ट्रेशन फॉर्म सेवा केंद्र में अपलोड कर दिया जाएगा। इसके बाद आवेदक को मैसेज के जरिए मोबाइल पर अपडेट मिलेगा और पुलिस वेरिफिकेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 
 
पंजाब में कहां से आवेदन किया जा सकता है?
लुधियाना के सेवा केंद्र डिवीजनल मैनेजर साहिल अरोड़ा ने बताया कि पंजाब के 700 सेवा केंद्रों पर 1 नवंबर से करतारपुर गुरुद्वार जाने के लिए आवेदन फ्री में अपलोड किए जा रहे हैं। श्रद्धालु किसी भी सेवा केंद्र में जाकर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

 

क्या हर धर्म के लोग करतारपुर जा सकते हैं?
किसी भी धार्मिक मान्यता से ताल्लुक रखने वाला भारतीय नागरिक पाकिस्तान के करतारपुर साहिब जा सकता है। लेकिन शर्त यह है कि अगर वह कॉरिडोर से गया तो फिर करतारपुर साहिब से आगे नहीं जा सकेगा। श्रद्धालुओं को भी उसी दिन शाम तक वापस आना होगा। 

 

श्रद्धालु अपने साथ कितना सामान ले जा सकते हैं?
श्रद्धालु अपने साथ 7 किलो से ज्यादा वजन का सामान नहीं ले जा सकते हैं। यात्रा के दौरान 11,000 रुपए से ज्यादा की भारतीय करंसी भी अपने पास नहीं रख सकते।

 
अगर आप खुद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर रहे हैं तो ये जानना जरूरी

 

  • ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ वेबसाइट पर जाना होगा। सबसे पहले राष्ट्रीयता भरने के लिए इंडियन पर क्लिक करें।
  • जिस तारीख को यात्रा करनी है, वो सिलेक्ट करें। पासपोर्ट व अन्य डिटेल भी निर्देशानुसार भरते जाएं।
  • ऑनलाइन फॉर्म भरते समय पासपोर्ट साइज की फोटो और पासपोर्ट के फ्रंट और बैक पेज की पीडीएफ फाइल सेव करके रखें। इसे अपलोड करना होगा।
  • सभी जरूरी डिटेल भरने और दस्तावेज अपलोड करने के बाद फॉर्म सबमिट कर दीजिए। सारी प्रक्रिया केंद्र सरकार के विदेश मंत्रालय की निगरानी में होगी।
  • पुलिस जब वेरिफिकेशन करने आएगी तो आपको ऑनलाइन अपलोड हुए आवदेन की प्रति आधार कार्ड और पैन कार्ड की एक प्रति उपलब्ध करानी होगी।
  • आवेदकों के मेल और मैसेज के ज़रिए चार दिन पहले उनके आवेदन के कन्फ़र्मेशन की जानकारी दी जाएगी।

 

दोनों देशों के बीच ये समझौते हुए

 

  • यात्रियों के लिए पासपोर्ट और इलेक्ट्रॉनिक ट्रैवेल ऑथराइजेशन (ईटीए) की जरूरत होगी।
  • भारतीय विदेश मंत्रालय यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं की लिस्ट 10 दिन पहले पाकिस्तान को देगा।
  • हर श्रद्धालु को 20 डॉलर यानि करीब 1400 रुपये देने होंगे।
  • एक दिन में पांच हजार लोग इस कॉरिडोर के जरिए दर्शन के लिए जा सकेंगे।
  • अभी अस्थायी पुल का इस्तेमाल किया जा रहा है और आने वाले वक्त में एक स्थायी पुल बनाया जाएगा।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना