• Home
  • Punjab
  • Jalandhar
  • सूर्या एंक्लेव फायरिंग कांड 4 दिन में ट्रेस
--Advertisement--

सूर्या एंक्लेव फायरिंग कांड 4 दिन में ट्रेस

जालंधर| सूर्या एंक्लेव में सोमवार दोपहर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट विपिन शर्मा के घर पर फायरिंग का मामला ट्रेस हो...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:20 AM IST
जालंधर| सूर्या एंक्लेव में सोमवार दोपहर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट विपिन शर्मा के घर पर फायरिंग का मामला ट्रेस हो गया है। फायरिंग करने वाले 18 से 19 साल के 4 युवक थे। वे सोशल मीडिया पर रिवाल्वर के साथ फोटो अपलोड करना चाहते थे। फायरिंग में हवलदार का लाइसेंसी रिवाल्वर इस्तेमाल हुआ। पुलिस लाइन निवासी युवक के पिता हवलदार तो पीएपी निवासी युवक के पिता एएसआई हैं। जबकि बाबा दीप सिंह नगर युवक ट्रांसपोर्ट का बेटा है तो चौथे का पिता पेट्रोल पंप में जॉब करता है।

सीपी पीके सिन्हा ने कहा कि राउंडअप किए लड़के कोई क्रिमिनल नहीं हैं। उनका टारगेट डिप्टी कमाडेंट विपिन शर्मा की कोठी नहीं थी, वे शरारत में ऐसा जुर्म कर बैठे।

सेल्फी के लिए चार दोस्तों ने की थी फायरिंग हवलदार का बेटा लाया था पिता की रिवॉल्वर

हवलदार पिता के सामने जुर्म कबूला

दूसरे दिन न्यूज से पता चला कि जहां गोलियां लगी हैं। वह घर बीएसएफ के डिप्टी कमाडेंट और एसएचओ नवदीप सिंह की साली जेसिका शर्मा का है। कोई जख्मी नहीं हुआ। वे डर गए थे कि पुलिस सीसीटीवी के जरिये उन तक पहुंच जाएगी। इसलिए वे दो दिन तक डर के कारण छिपे रहे। उन्होंने एक साथ मीटिंग की तो फैसला किया कि सारी बात पुलिस को बता देंगे। अब सारी बात पुलिस को कौन और कैसे बताएगा, इसलिए हवलदार के बेटे ने अपने पिता को बताई। पिता ने तुरंत पुलिस को कॉल कर दी। एडीसीपी मनदीप सिंह गिल की सुपरविजन में एसीपी सतिंदर चड्ढा और एसएचओ राजेश ठाकुर सीसीटीवी कैमरे की मदद से क्लू ढूंढ रहे थे।

सोचा था मुंह बांधकर फायरिंग करेंगे तो कौन पकड़ लेगा

राउंडअप किए गए चारो लड़के प्लस-2 पास हैं। सभी आईलेट्स कर रहे हैं। सोमवार को पुलिस लाइन में रहते युवक ने बेड रेस्ट पर चल रहे पिता का लाइसेंसी रिवाल्वर लेकर पीएपी में रहते दोस्त के घर आ गया था। यहां स्कूटर पर बाकी दोनों आ गए। उन्होंने माना कि उस दिन रिवाल्वर के साथ सेल्फी खींची, ताकि सोशल मीडिया पर डाल सकें। आरोपी मानते हैं कि उनसे सबसे बड़ी गलती ये हो गई कि उन्होंने शराब पी ली। पीएपी से वे दोपहर 12 बजे के बाद निकले थे। रास्ते में रिवाल्वर के साथ फोटो खींची। हवलदार के बेटे का दावा है कि वह बाइक चला था तो रिवाल्वर पीछे बैठे दोस्त के पास थी। सोचा गोली चलाते हैं। सूर्या एंक्लेव में चक्कर लगाकर राम मंदिर के पास आ गए। सभी ने चेहरे पर रुमाल बांध लिए। पहली गोली हवा में चलाई थी। दूसरा फायर करना था कि दोस्त ने बाइक तेज कर दी। दो फायर उसने किए, जो कोठी में जा लगे।