• Home
  • Punjab
  • Jalandhar
  • तीन साल बाद बूथों के लिए बोली लगाने वाले एप्लीकेंट्स को सिक्योरिटी मनी वापस मिलेगी
--Advertisement--

तीन साल बाद बूथों के लिए बोली लगाने वाले एप्लीकेंट्स को सिक्योरिटी मनी वापस मिलेगी

तीन साल से तहसील कांप्लेक्स में अपने बूथ का सपना देख रहे लोगों का उम्मीदें प्रशासन ने तोड़ दी हैं। प्रशासन ने सभी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:20 AM IST
तीन साल से तहसील कांप्लेक्स में अपने बूथ का सपना देख रहे लोगों का उम्मीदें प्रशासन ने तोड़ दी हैं। प्रशासन ने सभी एप्लीकेंट्स को सिक्योरिटी मनी की राशि लौटाने का फैसला लिया है। तीन साल पहले लगाई गई बोली सिरे नहीं चढ़ी। बोली में शामिल होने वाले 200 लोगों ने प्रशासन को 6 हजार रुपये प्रति आवेदक के हिसाब से सिक्योरिटी मनी जमा करवाई थी। करीब 12 लाख रुपये की रकम सिर्फ सिक्योरिटी मनी के तौर पर जमा हुई थी। मगर बोली लगाने वाले किसी भी एप्लीकेंट को बूथ नहीं सौंपा गया। लोगों की उम्मीद थी कि देर-सवेर उन्हें बूथ मिल जाएगा और वह बाकी के पैसे जमा करवाकर काम शुरू कर देंगे।

उधर, जिला प्रशासन ने तहसील काम्पलेक्स में स्थित करीब 30 बूथों की अलॉटमेंट कैंसिल कर दी है। ये अलॉटमेंट इसलिए कैंसिल हुई है क्योंकि जिन लोगों को बूथ अलॉट हुए थे, वह प्रशासन के समक्ष पेश नहीं हुए। दरअसल बूथ अलॉटियों ने ये बूथ आगे सबलेट कर दिए थे। बूथों को कुछ पैसे लेकर दूसरे लोगों को बेच दिया था। इसकी शिकायत प्रशासन के पास पहुंची। प्रशासन ने नोटिस जारी कर ओरिजनल अलॉटियों को पेश होने के लिए कहा लेकिन कोई भी पेश नहीं हुआ।

इसके बाद सभी 30 बूथों की तालाबंदी कर दी गई और इनकी अलॉटमेंट कैंसिल हो गई। जिन लोगों के सामान बूथों में पड़े हुए थे, वह वापस कर दिए गए हैं। अब इन बूथों का कब्जा प्रशासन के पास है। जिला प्रशासन अगले कुछ दिनों में इन बूथों की अलॉटमेंट के लिए री-ऑक्शन करने जा रहा है। ऑक्शन के लिए जल्द ही आवेदन मांगे जाएंगे, इसके बाद सभी आवेदकों को बुलाकर बोली करवाई जाएगी। सबसे ज्यादा कीमत लगाने वालों को बूथों की अलॉटमेंट होगी।

बगैर ब्याज के पैसे वापस करेगा प्रशासन

जिला प्रशासन ने तीन साल तक लोगों की सिक्योरिटी मनी अपने पास रखी। अगर लोग ये पैसे सेविंग अकाउंट में भी जमा करवाते तो हर साल छह परसेंट ब्याज मिलना था। तीन साल में 18 फीसदी ब्याज इस रकम पर मिलना था। मगर प्रशासन लोगों को जो पैसे वापस करेगा, साथ में कोई ब्याज नहीं देगा। नियम मुताबिक जब भी कोई ऑक्शन या ड्रा इत्यादि सिरे नहीं चढ़ता तो देरी होने पर लोगों के पैसे ब्याज समेत वापस किए जाते हैं। हालांकि छोटी रकम होने की वजह से लोग ब्याज को लेकर चिंतित नहीं हैं।