• Home
  • Punjab
  • Jalandhar
  • दिव्यांश हेड ब्वॉय और सिमरनजीत बनी हेड गर्ल
--Advertisement--

दिव्यांश हेड ब्वॉय और सिमरनजीत बनी हेड गर्ल

लीडरशिप विद्यार्थी में अनुभव के साथ जन्म लेती है। इस विचार के साथ सीटी पब्लिक स्कूल में शुरू हुए 2018-19 सेशन में...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:20 AM IST
लीडरशिप विद्यार्थी में अनुभव के साथ जन्म लेती है। इस विचार के साथ सीटी पब्लिक स्कूल में शुरू हुए 2018-19 सेशन में इंवेस्टच्यूर सेरेमनी का आयोजन किया गया। इस मौके पर चुने गए हेड ब्वॉय दिव्यांश और हेड गर्ल सिमरनजीत ने स्कूल के गौरव की सुरक्षा व अपनी जिम्मेदारी को ईमानदारी से निभाने की शपथ उठाई। समारोह की शुरुआत सीटी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के चेयरमैन, चरणजीत सिंह चन्नी व सीटी पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल सुमन राणा ने ज्योति प्रज्जवलित कर की।

चारु वर्मा को जरनल सेक्रेट्री, परमवीर सिंह को वाइस हेड ब्वॉय व मुसकानदीप कौर को वाइस हेड गर्ल, सरभजीत सिंह व अनमोल को स्पोर्ट्स कैप्टन, तारिश व गनिव डिस्प्लिन कैप्टन के तौर पर चयनित हुए। सीटी किंडरगार्टन में क्रिश सहदेव को हेड ब्वॉय और सुहानी अरोड़ा को हेड गर्ल बनाया गया। विद्यार्थी कौंसिल का चयन हाउस इंचार्जों ने उनके व्यवहार, अनुशासन व अकादमिक के आधार पर किया ताकि वे दूसरे विद्यार्थियों के लिए एक रोल मॉडल बन सके।

सीटी पब्लिक स्कूल में स्टूडेंट कौंसिल में चुने गए स्टूडेंट्स ने अपनी जिम्मेदारी ईमानदारी से निभाने की ली शपथ

सरभजीत सिंह व अनमोल को चुना गया स्पोर्ट्स कैप्टन

स्टूडेंट्स ने अपनी जिम्मेदारी को ईमानदारी से निभाने की शपथ ली। -भास्कर

स्टूडेंट्स को कठिन फैसले लेने और दूसरे स्टूडेंट्स को सुनने का हुनर रखने के लिए किया मोटिवेट

सीटी पब्लिक स्कूल की प्रिंसिपल सुमन राणा ने विद्यार्थियों को अच्छे नेता बनने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि लीडरशिप प्रेरणा पर आधारित होती है, आदेशों पर नहीं। उन्होंने विद्यार्थियों को कठिन फैसले लेने और बाकी विद्यार्थियों की जरूरतों को सुनने के हुनर को रखने के लिए प्रेरित किया व कहा कि अच्छे लीडर कभी भी भूमिका के बारे में नहीं, लेकिन लक्ष्यों के बारे में सोचते हैं। सीटी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के चेयरमैन, चरणजीत सिंह चन्नी ने विद्यार्थियों को ईमानदारी के साथ जीवन में नित नए एवं ऊंचे मुकाम हासिल करते रहने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने साथ ही सभी पदाधिकारियों को स्कूल की विभिन्न गतिविधियों में एक टीम की तरह काम करने के लिए प्रेरित किया।