मानवता को बचाने के लिए वरदान है प्रेम : पंकजा भारती

Jalandhar News - जालंधर | दिव्य ज्योति जागृति संस्थान और अमन नगर निवासियों के सहयोग से विश्वकर्मा मंदिर मंे चल रही श्री हरि कथा के...

Bhaskar News Network

Sep 22, 2019, 08:00 AM IST
Jalandhar News - love is a boon to save humanity pankaja bharti
जालंधर | दिव्य ज्योति जागृति संस्थान और अमन नगर निवासियों के सहयोग से विश्वकर्मा मंदिर मंे चल रही श्री हरि कथा के दूसरे दिन साध्वी सुश्री पंकजा भारती ने संत ज्ञानेश्वर जी के प्रसंग का वर्णन करते हुए बताया कि संत ज्ञानेश्वर जी का जन्म विक्रम भाद्र कृष्णाष्टमी की मध्य रात्रि को हुआ था। जितना विराट प्रेम का स्वरूप होगा, व्यक्ति तत्व भी उतना श्रेष्ठ होता जाएगा। जैसा प्रेम स्वयं चाहते हैं, वैसा ही प्रेम दूसरों से करना सच्चा प्रेम माना जाता है।

साध्वी ने कहा कि प्रेम का प्रकाश केंद्र से दूर जाने पर क्षीण होने के कारण घृणा के अंधेरे में खो जाता है। प्रेम का प्रकाश सीमा के अनुसार घटता बढ़ता है। महापुरुष सभी प्राणियों को आत्मवत प्रेम करते हैं। प्रेम ही ईश्वर है। प्रेम करने वाले ही ईश्वर को जान पाते हैं। मानव प्रेम में ईश्वर की छाया है। जो जितना अधिक त्याग करता है, उतना ही प्रेम कर सकता है। त्याग से प्रेम का जन्म होता है। प्रेम मानवता को बचाने के लिए वरदान है।

यहां साध्वी रजनी भारती, सुखदीप भारती, आरती, भारती, पूर्व मेयर सुनील ज्योति, भगवंत प्रभाकर, जीएस भुल्लर, भगवान दास शर्मा, जीवन शर्मा, यशपाल ठाकरे, राजिंद्र शर्मा, अशोक शर्मा, इंद्रजीत बिटुटू, भूपिंदर अौर शाम लाल मौजूद रहे।

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान द्वारा करवाई कथा के दौरान मौजूद भक्तजन।

Jalandhar News - love is a boon to save humanity pankaja bharti
X
Jalandhar News - love is a boon to save humanity pankaja bharti
Jalandhar News - love is a boon to save humanity pankaja bharti
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना